कुत्ते की शहर यात्रा पंचतंत्र की कहानी | kutte ki shehar yatra Panchtantra ki kahani in Hindi

कुत्ता चला गया विदेश | Dog Who Went Abroad | Panchatantra Kahaniya | Hindi Kahaniya | Hindi stories

kutte ki shehar yatra Panchtantra ki kahani

यहाँ पढ़ें : vishnu sharma ki 101 panchtantra kahaniyan in hindi

कुत्ते की शहर यात्रा पंचतंत्र की कहानी | kutte ki shehar yatra Panchtantra ki kahani in Hindi

एक लंबी यात्रा के बाद आखिरकार वह कुत्ता शहर पहुंच गया। उस शहर में उसे एक घर दिखाई दिया 

जिसका दरवाजा खुला हुआ था। वह उस घर के भीतर घुस गया। उस घर में उसे भारी मात्रा में खाना मिला। उसने तब तक खाना खाया जब तक उसका पेट पूरा भर नहीं गया। पर अब वह चलने में असमर्थ था।

kutte ki shehar yatra Panchtantra ki kahani
kutte ki shehar yatra Panchtantra ki kahani

जब वह घर से बाहर आया, गली के कुत्तों ने उसे देख लिया और उस पर हमला कर दिया। कुत्तों ने उसे जगह-जगह पर बुरी तरह से काट लिया।

कुत्ते ने वापस गांव लौटने में ही भलाई समझी। जब वह गांव वापस पहुंचा, अन्य कुत्तों ने उससे शहर की स्थिति के बारे में पूछा।

कुत्ते ने जवाब दिया, “दोस्तों, शहर में खाने की कोई कमी नहीं है, लेकिन वहां पर हमारे भाइयों ने ही मुझ पर हमला कर दिया। मैं वहां रहना पसंद करूंगा जहां मेरा सम्मान हूं।”

नैतिक शिक्षा :– जहां आपकी सराहना ना की जाए वहां रहना सार्थक नहीं है।

Leave a Comment