मूर्ख नाई पंचतंत्र की कहानी | murkh nai Panchtantra ki kahani in Hindi

मूर्ख नाई – Kahani | Hindi Kahaniya | Moral Story | Bachho ki kahani | Dadimaa ki kahaniya

murkh nai Panchtantra ki kahani

यहाँ पढ़ें : पंचतंत्र की 101 कहानियां – विष्णु शर्मा

मूर्ख नाई पंचतंत्र की कहानी | murkh nai Panchtantra ki kahani in Hindi

प्राचीन भारत में, एक बहुत ही दयालु व्यापारी रहता था। वह निर्धन लोगों को पैसे दान करता था और अपने दोस्तों की हमेशा मदद करता था। उस व्यापारी ने एक दिन अपना सारा पैसा और पैसे के साथ अपनी ख्याति भी खो दी। उसके दोस्त उसे अनदेखा करने लगे। इन सबसे तंग आकर एक रात उसने सोचा, “मैंने सब कुछ खो दिया, कोई मेरे साथ नहीं है। मुझे मर जाना चाहिए। ”

murkh nai Panchtantra ki kahani
murkh nai Panchtantra ki kahani

यह सोचते सोचते उसे गहरी नींद आ गई। सोते हुए उसने एक सपना देखा। सपने में एक भिक्षु ने उससे कहा, “कल मैं तुम्हारे द्वार पर आऊंगा। तुम्हें मेरे सिर पर लाठी से चोट करनी होगी। मैं सोने की मूर्ति में बदल जाऊंगा।

लगभग सुबह हो चुकी थी। व्यापारी जागा और सपने के बारे में सोचने लगा।

फिर कुछ समय बाद, एक भिक्षु ने घर के दरवाजे पर दस्तक दी। व्यापारी ने भिक्षु को अंदर बुलाया। व्यापारी ने भिक्षु के सिर पर लाठी से वार किया और भिक्षु तुरंत ही सोने की मूर्ति में बदल गया।

पास से ही एक नाई गुजर रहा था उसने यह सब देख लिया।

लालची नाई ने व्यापारी की नकल करने का फैसला लिया। अगले दिन नाई एक आश्रम में गया और कुछ भिक्षुओं से एक कठिन पुस्तक को समझाने के लिए अपने घर पर आने का आग्रह किया। भिक्षुओं ने उसका आग्रह स्वीकार कर लिया।

अगले दिन कई भिक्षु उस नाई के घर आए। उसने अपने घर का द्वार बंद कर दिया और भिक्षुओं के सिर पर लाठी से प्रहार करना शुरू कर दिया। जब एक भी भिक्षु सोने की मूर्ति में नहीं बदला तो नाई निराश हो गया।

नाई को भिक्षुओं पर हमला करने के अपराध में बंदी बना लिया गया। नाई ने अपने कृत्य के लिए व्यापारी को दोषी ठहराया। राजा ने व्यापारी को राजदरबार मैं बुलाया। व्यापारी ने राजा को अपने सपने के बारे में सब कुछ बता दिया। उसने कहा, “महाराजा, मैंने नाई से भिक्षुओं पर हमला करने के लिए नहीं कहा। नाई को यह मूर्खता करने से पहले इसके दुष्परिणामों के बारे में सोचना चाहिए था।”

राजा व्यापारी की बात से सहमत था अत‌‌: उसने व्यापारी को मुक्त कर दिया और सैनिकों से मूर्ख नाई को कारागार मैं डालने का आदेश दिया।

नैतिक शिक्षा :– बिना सोचे समझे कोई भी कार्य नहीं करना चाहिए।

Leave a Comment