बाघ की खाल में गधा पंचतंत्र की कहानी | bagh ki khal mein gadha Panchtantra ki kahani in Hindi

बाघ की खाल में गधा – Hindi Kahaniya | New Bedtime Stories Fairy Tales

bagh ki khal mein gadha Panchtantra ki kahani

यहाँ पढ़ें : vishnu sharma ki 101 panchtantra kahaniyan in hindi

बाघ की खाल में गधा पंचतंत्र की कहानी | bagh ki khal mein gadha Panchtantra ki kahani in Hindi

एक बार गधा जंगल में घूम रहा था। घूमते घूमते उसे कहीं पर बाघ की खाल दिखाई दी। गधा चाहता था कि जंगल के बाकी जानवर उसका सम्मान करें।

bagh ki khal mein gadha Panchtantra ki kahani
bagh ki khal mein gadha Panchtantra ki kahani

इसलिए उसने वह बाघ की खाल पहन ली और जंगल में घूम कर दूसरे जानवरों को डराने लगा। जब भी वह किसी जानवर के पास जाता, तो जानवर उससे डर के मारे दूर भाग जाता।

गधे को मजा आने लगा था। इससे गधे का साहस और बढ़ गया, और वह मक्के के खेत में घुस गया।

किसान उस गधे को बाघ समझकर उसके पास जाने से डर रहे थे। गधे ने जमकर मक्के खाए और अपनी खुशी जाहिर करने के लिए वह जोर से रेंका।

उसका रेंकाना सुनकर किसान को समझ आया कि यह तो गधा है जिसने बाघ की खाल ओढी हुई है। किसानों ने गधे को लाठियों से बहुत पीटा। मार खाकर गधा जंगल की ओर वापस चला गया।

नैतिक शिक्षा :– एक मूर्ख अपने पहनावे से लोगों को धोखा दे सकता है। लेकिन उसके शब्दों से उसकी सच्चाई सामने आ ही जाती है।

Leave a Comment