व्यर्थ सुझाव पंचतंत्र की कहानी | vyarth sujhav Panchtantra ki kahani in Hindi

व्यर्थ सुझाव पंचतंत्र की कहानी | vyarth sujhav Panchtantra ki kahani in Hindi

एक बार की बात है। एक बंदरों का झुंड सर्दियों के मौसम में बारिश में फस गया था। वे सभी ठंड में ठीठुर रहे थे। कि तभी अचानक एक बंदर को एक खूबसूरत जुगनू दिखा।

उस जुगनू के चमचमाते रंगों की वजह से बंदर को वह आग की चिंगारी जैसी दिखी। आग जलाने के लिए सभी बंदर उस जुगनू में फूंक मारने लगे।

vyarth sujhav Panchtantra ki kahani
vyarth sujhav Panchtantra ki kahani

पास के पेड़ पर एक डाली पर बैठी चिड़िया उनके इस निरर्थक प्रयास को देख रही थी। वह चिल्ला कर बोली, “तुम सब जुगनूओ से आग जलाने की व्यर्थ कोशिश कर रहे हो। तुम सभी को किसी गुफा में छुप जाना चाहिए।”

यहाँ पढ़ें : panchtantra ki 101 kahaniyan in hindi

बंदरों ने चिड़िया की बात को अनसुना कर दिया, और बोले, “हमें परेशान मत करो, भागो यहां से!”

बंदरों के मना करने के बावजूद चिड़िया उड़ कर उनके पास आ गई और उन्हें गुफा में जाने के लिए सलाह देने लगी।

एक बंदर को उस पर गुस्सा आ गया और उसने चिड़िया को पकड़कर जोर से जमीन पर पटक दीया। वह चिड़िया बुरी तरह घायल हो गई।

नैतिक शिक्षा :– मूर्ख को सलाह देना मूर्खता है।

Leave a Comment