शेर का हिस्सा पंचतंत्र की कहानी | sher ka hissa Panchtantra ki kahani in Hindi

शेर का हिस्सा हिंदी कहानी 😆🔥👍👍। Sher ka hissa Hindi story Hindi story 🔥🔥

sher ka hissa Panchtantra ki kahani

यहाँ पढ़ें : vishnu sharma ki 101 panchtantra kahaniyan in hindi

sher ka hissa Panchtantra ki kahani in Hindi

एक बार शेर ने लोमड़ी, सियार और भेड़िया को अपनी गुफा में बुलाया। तीनों आकर शेर के आगे सिर झुका कर खड़े हो गए।

शेर ने कहा, “मैं तुम सब के साथ शिकार पर जाना चाहता हूं। चलोगे?”

sher ka hissa Panchtantra ki kahani
sher ka hissa Panchtantra ki kahani

वे चारो शिकार पर गए और उन्होंने एक हिरण का शिकार किया। शेर ने गुफा में वापस आकर हिरण के चार हिस्से किए। लोमड़ी, सियार और भेड़िया यह सब देख रहे थे।

फिर शेर ने उन सब से कहा, “पहला हिस्सा मेरा है क्योंकि मैंने इसका शिकार किया है। दूसरा हिस्सा इसलिए मेरा है क्योंकि मैं जंगल का राजा हूं। यह तीसरा हिस्सा मेरा है क्योंकि मैं हिस्से बांट रहा हूं।

रही बात चौथे हिस्से की, तो जिसमें भी हिम्मत हो वह इस पर नजर टिकाए।”

बेचारे सियार, लोमड़ी और भेड़िया चुपचाप भूखे पेट वापस चले गए।

नैतिक शिक्षा :– किसी भी कार्य में अपने सहभागियों का साथ सोच समझकर दे।

Leave a Comment