संगीतकार गधा पंचतंत्र की कहानी | sangeetkar gadha Panchtantra ki kahani in Hindi

Panchtantra- Sangeetkar Gadha /पंचतंत्र-संगीतकार गधा

sangeetkar gadha Panchtantra ki kahani

यहाँ पढ़ें : vishnu sharma ki 101 panchtantra kahaniyan in hindi

sangeetkar gadha Panchtantra ki kahani in Hindi

एक समय की बात है। एक गधा था उसकी मित्रता एक सियार के साथ थी। धोबी का पालतू था और उसकी सेवा में लगा रहता था।

sangeetkar gadha Panchtantra ki kahani
sangeetkar gadha Panchtantra ki kahani

रात को वह सियार के साथ भोजन की तलाश में खेतों में घूमता था। एक रात वे दोनों एक खेत में खड़े थे। तभी गधे ने कहा, “कितनी अच्छी रात है! आज मेरा गाना गाने का मन कर रहा है।”

यह सुन सियार ने उसे सावधान किया, “ऐसा मत करो मित्र! तुम्हारी आवाज से किसान जाग जाएगा और हम पकड़े जाएंगे।”

गधे ने उसके बाद अनसुनी करते हुए कहा, “तुम्हारे जैसा जंगली जानवर कभी संगीत की कदर नहीं कर सकता।”

इससे पहले कि गधा गाना शुरू करता, सियार फौरन उस जगह से भाग गया। गधे की आवाज सुन किसान जाग गया और उसने अपने डंडे से गधे की खूब पिटाई की और उसके गले में एक बड़ा पत्थर बांध दीया।

बाद में जब सियार गधे से मिला  तो उसने गधे का मजाक उड़ाते हुए कहा, “लगता है कि किसान ने तुम्हें तुम्हारे गाने का अच्छा पुरस्कार दिया है।”

नैतिक शिक्षा :– कुछ भी करने से पहले अच्छी तरह सोच ले।

Leave a Comment