श्री गंगा चालीसा video, image | Shri Ganga Chalisa lyrics, pdf download, जय जय जननी हराना अघखानी। jai jai janani harana aghkhani

ganga aarti lyrics in hindi,ganga chalisa in hindi pdf, ganga chalisa lyrics in english, ganga aarti in hindi, bhajan ganga lyrics, ganga malayalam lyrics, hanuman chalisa lyrics

गंगा चालीसा || Ganga Chalisa || Vipin Sachdeva || Latest Ganga Mata Bhajan || Bhakti Bhajan Kirtan

Shri Ganga Chalisa

Shri Ganga Chalisa lyrics in Hindi

॥ दोहा ॥
जय जय जय जग पावनी,जयति देवसरि गंग।
जय शिव जटा निवासिनी,अनुपम तुंग तरंग॥

॥ चौपाई ॥

जय जय जननी हराना अघखानी।आनंद करनी गंगा महारानी॥
जय भगीरथी सुरसरि माता।कलिमल मूल डालिनी विख्याता॥

जय जय जहानु सुता अघ हनानी।भीष्म की माता जगा जननी॥
धवल कमल दल मम तनु सजे।लखी शत शरद चन्द्र छवि लजाई॥

वहां मकर विमल शुची सोहें।अमिया कलश कर लखी मन मोहें॥
जदिता रत्ना कंचन आभूषण।हिय मणि हर, हरानितम दूषण॥

जग पावनी त्रय ताप नासवनी।तरल तरंग तुंग मन भावनी॥
जो गणपति अति पूज्य प्रधान।इहूं ते प्रथम गंगा अस्नाना॥

ब्रह्मा कमंडल वासिनी देवी।श्री प्रभु पद पंकज सुख सेवि॥
साथी सहस्त्र सागर सुत तरयो।गंगा सागर तीरथ धरयो॥

अगम तरंग उठ्यो मन भवन।लखी तीरथ हरिद्वार सुहावन॥
तीरथ राज प्रयाग अक्षैवेता।धरयो मातु पुनि काशी करवत॥

धनी धनी सुरसरि स्वर्ग की सीधी।तरनी अमिता पितु पड़ पिरही॥
भागीरथी ताप कियो उपारा।दियो ब्रह्म तव सुरसरि धारा॥

जब जग जननी चल्यो हहराई।शम्भु जाता महं रह्यो समाई॥
वर्षा पर्यंत गंगा महारानी।रहीं शम्भू के जाता भुलानी॥

पुनि भागीरथी शम्भुहीं ध्यायो।तब इक बूंद जटा से पायो॥
ताते मातु भें त्रय धारा।मृत्यु लोक, नाभा, अरु पातारा॥

गईं पाताल प्रभावती नामा।मन्दाकिनी गई गगन ललामा॥
मृत्यु लोक जाह्नवी सुहावनी।कलिमल हरनी अगम जग पावनि॥

धनि मइया तब महिमा भारी।धर्मं धुरी कलि कलुष कुठारी॥
मातु प्रभवति धनि मंदाकिनी।धनि सुर सरित सकल भयनासिनी॥

पन करत निर्मल गंगा जल।पावत मन इच्छित अनंत फल॥
पुरव जन्म पुण्य जब जागत।तबहीं ध्यान गंगा महं लागत॥

जई पगु सुरसरी हेतु उठावही।तई जगि अश्वमेघ फल पावहि॥
महा पतित जिन कहू न तारे।तिन तारे इक नाम तिहारे॥

शत योजन हूं से जो ध्यावहिं।निशचाई विष्णु लोक पद पावहीं॥
नाम भजत अगणित अघ नाशै।विमल ज्ञान बल बुद्धि प्रकाशे॥

जिमी धन मूल धर्मं अरु दाना।धर्मं मूल गंगाजल पाना॥
तब गुन गुणन करत दुख भाजत।गृह गृह सम्पति सुमति विराजत॥

गंगहि नेम सहित नित ध्यावत।दुर्जनहूं सज्जन पद पावत॥
उद्दिहिन विद्या बल पावै।रोगी रोग मुक्त हवे जावै॥

गंगा गंगा जो नर कहहीं।भूखा नंगा कभुहुह न रहहि॥
निकसत ही मुख गंगा माई।श्रवण दाबी यम चलहिं पराई॥

महं अघिन अधमन कहं तारे।भए नरका के बंद किवारें॥
जो नर जपी गंग शत नामा।सकल सिद्धि पूरण ह्वै कामा॥

सब सुख भोग परम पद पावहीं।आवागमन रहित ह्वै जावहीं॥
धनि मइया सुरसरि सुख दैनि।धनि धनि तीरथ राज त्रिवेणी॥

ककरा ग्राम ऋषि दुर्वासा।सुन्दरदास गंगा कर दासा॥
जो यह पढ़े गंगा चालीसा।मिली भक्ति अविरल वागीसा॥

॥ दोहा ॥

नित नए सुख सम्पति लहैं,धरें गंगा का ध्यान।
अंत समाई सुर पुर बसल,सदर बैठी विमान॥

संवत भुत नभ्दिशी।,राम जन्म दिन चैत्र।
पूरण चालीसा किया,हरी भक्तन हित नेत्र॥

यहाँ पढ़ें : 50+ आरती संग्रह
यहाँ पढ़ें : आरती श्री गंगा माता की

Shri Ganga Chalisa lyrics image

Shri Ganga Chalisa
Shri Ganga Chalisa

Shri Ganga Chalisa lyrics PDF Download in Hindi

श्री गंगा जी की चालीसा का पीडिएफ डाउनलॉड (PDF Download) करने के लिए नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें।

Benefits of Ganga Chalisa – गंगा माता चालीसा से लाभ

गंगा माता को पाप विमोचन कहा जाता है । जिस प्रकार गंगाजल पवन और पवित्र माना जाता है उसी प्रकार गंगा माता की चालीसा भी शुद्ध और पावन है । मन की शुद्धीकरण और आत्म शुद्धि के लिए गंगा चालीसा को परम श्रेष्ठ कर माना गया है । गंगा चालीसा के पाठ करने से तीनों तापों दैहिक ,दैविक, और भौतिक ताप का शमन होता है शमन होता है ।

शारीरिक कष्ट सांसारिक कष्ट और भाग्य के कारण होने वाले कष्टों से छुटकारा मिलती है । गंगा चालीसा का पाठ ना केवल तात्कालिक दुखों को कम करने में सहायक है अपितु पुण्य संचय करने, पापों का विनाश करने में भी सहायक है ।

Chalisa Sangrah

Maa mahalakshmi chalisashri krishna chalisa
shri balaji chalisashri vishwakarma chalisa
shri batuk bhairav chalisashri ganesh chalisa
shree gopal chalisalalita chalisa
shri giriraj chalisatulasi chalisa
shri baglamukhi chalisashri surya deva chalisa
maa kali chalisashri navgrah chalisa
shri durga chalisashri rama chalisa
shri ramdev chalisamaa laxmi chalisa
shri radha chalisagayatri chalisa
shri vaishno devi chalisashri shani chalisa
shri shanidev chalisashree vindhyeshwari chalisa
Parvati chalisashri ganga chalisa
shri hanuman chalisashri parshuram chalisa
saraswati chalisamahakali chalisa
Maa santoshi chalisashakambhari mata chalisa
Mata narmada chalisaMaa shitla chalisa
shiva chalisashri bhairava chalisa
maa annapurna chalisaSharda mata chalisa
shri vishnu chalisa
Chalisa Sangrah

Aarti Sangrah

माता की आरतीदेवताओं की आरती
Vindhyeshwari Mata Ki Aartibanke bihari aarti 
Sheetla Mata Ki AartiGiriraj ki aarti
Sharda Mata Ki Aarti Balaji aarti
Shakambhari Mata Ki AartiBatuk Bhairav aarti 
Saraswati Mata Ki AartiBhairav aarti
Santoshi Mata Ki Aartibrahma aarti
Radha Mata Ki AartiChitragupta Aarti
Parvati Mata Ki AartiGopal Aarti
Narmada Mata Ki AartiJagdish Aarti lyrics
Mahakali Mata Ki AartiKuber Aarti 
Lalita Mata Ki AartiNarsingh Aarti 
Laxmi Mata Ki AartiParshuram Aarti
Gayatri Mata Ki AartiPurushottam Aarti
Gau Mata Ki AartiAarti Shri Raghuvar Ji Ki 
Ganga Mata Ki AartiShri Satyanarayana Aarti 
Ekadashi Mata Ki AartiShanidev ki aarti
Vaishno Devi Ki AartiShivji ki aarti 
Tulsi Mata Ki AartiSurya Aarti 
Durga Mata Ki Aartivishwakarma ji ki aarti
Baglamukhi Mata Ki AartiShiv Shankar aarti
Annapurna Ji Mata Ki AartiNarsingh Kunwar aarti 
Ambe Mata Ki AartiRamdev aarti 
Ahoi Mata Ki Aartihanuman ji ki aarti
aarti kunj bihari ki
ramchandra ji ki aarti 
Govardhan maharaj ji ki aarti 
Ramayan ji ki aarti 
Aarti Sangrah

Leave a Comment