श्री शारदा माता जी की आरती – Shri Sharda Mata Ji Ki Aarti in Hindi

sharda maiya ki aarti video – आरती शारदा माता की – Shri Sharda Mata Ji Ki Aarti

यहाँ पढ़ें : श्री शाकम्भरी माता जी की आरती

Sharda mata ki Aarti lyrics | शारदा माता की आरती

भुवन विराजी शारदामहिमा अपरम्पार।
भक्तों के कल्याण कोधरो मात अवतार॥

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ। x3

नित गाऊँ मैयानित गाऊँ। x2

मैया शारदा तोरे दरबार आरती नित गाऊँ। x2

श्रद्धा को दीया प्रीत की बातीअसुअन तेल चढ़ाऊँ। x2

दर्श तोरे पाऊँ।

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ। x3

मन की माला आँख के मोतीभाव के फूल चढ़ाऊँ। x2

दर्श तोरे पाऊँ।
मैया शारदा तोरे दरबार

आरती नित गाऊँ। x3

बल को भोग स्वांस दिन रातीकंधे से विनय सुनाऊँ। x2

दर्श तोरे पाऊँ।

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ। x3

तप को हार कर्ण को टीकाध्यान की ध्वजा चढ़ाऊँ। x2

दर्श तोरे पाऊँ।

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ। x3

माँ के भजन साधु सन्तन कोआरती रोज सुनाऊ। x2

दर्श तोरे पाऊँ।

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ। x3

सुमर-सुमर माँ के जस गावेचरनन शीश नवाऊँ। x2

दर्श तोरे पाऊँ।

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ। x3

मैया शारदा तोरे दरबारआरती नित गाऊँ। x2

मैया शारदा तोरे दरबार
आरती नित गाऊँ। x3

यहाँ पढ़ें : आरती श्री सरस्वती जी

maa sharda ki aarti lyrics PDF Download

शारदा माता की आरती का पीडिएफ डाउनलॉड (PDF Download) करने के लिए नीचे दि गए बटन पर क्लिक करें।

यहाँ पढ़ें : आरती श्री सन्तोषी माँ

मां शारदा की कहानी, माँ शारदा मईया आल्हा | Maa Shardh Maiya Alha

यहाँ पढ़ें : श्री राधा माता जी की आरती

sharda devi ki katha PDF Download

शारदा माता की कथा का पीडिएफ डाउनलॉड (PDF Download) करने के लिए नीचे दि गए बटन पर क्लिक करें।

यहाँ पढ़ें : श्री पार्वती माता जी की आरती

शारदा माता प्रेम और शक्ति की देवी हैं। वह अपने भक्तों पर सदा ही कृपा करती हैं। शारदा माता हमेशा ऊँचे स्थानों पर विराजमान होती हैं। जिस तरह मां दुर्गा के दर्शन के लिए पहाड़ों को पार करते हुए। भक्त वैष्णो देवी तक पहुँचते हैं। ठीक उसी तरह मध्य प्रदेश के सतना जिले में भी 1063 सीढ़ियां लांघ कर माता के दर्शन करने जाते हैं।

मैहर को मां का हार कहते है। मैहर नगरी 5 किलोमीटर दूर त्रिकूट पर्वत पर माता शारदा देवी का वास है। मां शारदा देवी का मंदिर पर्वत की चोटी के मध्य में स्थित रहती हैं। देश भर मे माता शारदा का अकेला मंदिर सतना के मैहर में ही है। इसी पर्वत की चोटी पर माता के साथ ही श्री काल भैरवी, हनुमान जी, देवी काली, दुर्गा, भगवान, श्री गौरी शंकर, फूलमती माता, शेष नाग, ब्रह्रमां देव और जलापा देवी की भी जाती है।

आल्हा और उदल जिन्होंने पृथ्वी राज चौहान के साथ युध्द किया था, वे भी शारदा माता के बड़े भक्त हुआ करते थे। आल्हा और ऊदल ने ही सबसे पहले जंगलो के बीच शारदा देवी के इस मंदिर की खोज की थी। इसके बाद आल्हा ने ही इस मंदिर में 12 सालों तक तपस्या कर देवी को प्रसन्न किया माता ने उन्हे अमरत्व का आशीर्वाद प्रदान किया। मां सदा अपने बच्चों की रक्षा करती हैं।

Reference-
27 january 2021, Shri Sharda Mata Ji Ki Aarti, wikipedia

Leave a Comment