लोमड़ी और सारस – जैसे को तैसा पंचतंत्र की कहानी | lomdi aur saras Panchtantra ki kahani in Hindi

लोमड़ी और सारस – जैसे को तैसा Fox and Stork – Tit for Tat I Kids story in Hindi || Panchtantra Story

lomdi aur saras Panchtantra ki kahani

यहाँ पढ़ें : विष्णु शर्मा की 101 कहानियाँ

lomdi aur saras Panchtantra ki kahani in Hindi

एक दिन लोमड़ी ने अपने दोस्त सारस को खाने पर बुलाया। सारस् जब अपने दोस्त लोमड़ी के घर पहुंचा, तो लोमड़ी ने  मजाक करते हुए, थाली में सुप परोसा।

सारस ने अपनी लंबी चोंच से सूप पीने की बहुत कोशिश की पर वह सिर्फ अपनी सोच ही बिगो पाया। दूसरी तरफ लोमड़ी अपनी जीभ से चाट चाट कर सारा सूप गई। बेचारा सारस भूखा वापस अपने घर आ गया।

lomdi aur saras Panchtantra ki kahani
lomdi aur saras Panchtantra ki kahani

कुछ दिनों बाद सारस ने लोमड़ी को अपने घर खाने पर बुलाया। सारस ने एक छोटी मुंह वाली सुराही में खाना परोसा। इस बार लोमड़ी ने बहुत कोशिश की पर कुछ खाना पाई।

सारस बोला, “क्या हुआ दोस्त? मैंने तुम्हारी पसंद का मांस बनाया है।”

सारस अपनी लंबी चोट की मदद से सारा खाना चट कर गया। लोमड़ी को अपनी गलती का एहसास हुआ और वह शर्मिंदा होकर अपने घर वापस आ गई।

नैतिक शिक्षा :– जैसा करोगे वैसा भरोगे।

Leave a Comment