स्वजाति प्रेम पंचतंत्र की कहानी | swajati prem Panchatantra ki kahaniya in Hindi

स्वजाति प्रेम,swajati prem, Hindi Story,Panchtantra ki Kahaniya,KAMLESH VIRVAL

swajati prem Panchatantra ki kahaniya

यहाँ पढ़ें : विष्णु शर्मा की 101 पंचतंत्र कहानियाँ

swajati prem Panchatantra ki kahaniya in Hindi

एक बार की बात है…

एक वन में एक तपस्वी रहते थे। वे बहुत पहुंचे हुए ॠषि थे। उनका तपस्या बल बहुत ऊंचा था। रोज़ वह प्रातः आकर नदी में स्नान करते और नदी किनारे के एक पत्थर के ऊपर आसन जमाकर तपस्या करते थे।

निकट ही उनकी कुटिया थी, जहां उनकी पत्नी भी रहती थी। एक दिन एक विचित्र घटना घटी।

अपनी तपस्या समाप्त करने के बाद ईश्वर को प्रणाम करके उन्होंने अपने हाथ खोले ही थे कि उनके हाथों में एक नन्ही-सी चुहिया आ गिरी।

वास्तव में आकाश में एक चील पंजों में उस चुहिया को दबाए उड़ी जा रही थी और संयोगवश चुहिया पंजो से छूटकर गिर पड़ी थी।

ॠषि ने मौत के भय से थर-थर कांपती चुहिया को देखा। ऋषि और उनकी पत्नी की कोई संतान नहीं थी। कई बार पत्नी संतान की इच्छा व्यक्त कर चुकी थी। ॠषि दिलासा देते रहते थे।

ॠषि को पता था कि उनकी पत्नी के भाग्य में अपनी कोख से संतान को जन्म देकर मां बनने का सुख नहीं लिखा है।

किस्मत का लिखा तो बदला नहीं जा सकता परन्तु अपने मुंह से यह सच्चाई बताकर वे पत्नी का दिल नहीं दुखाना चाहते थे।

यह भी सोचते रहते कि किस उपाय से पत्नी के जीवन का यह अभाव दूर किया जाए। ॠषि को नन्हीं चुहिया पर दया आ गई।

उन्होंने अपनी आंखें बंदकर एक मंत्र पढा और अपनी तपस्या की शक्ति से चुहिया को मानव बच्ची बना दिया। वह उस बच्ची को हाथों में उठाए घर पहुंचे और अपनी पत्नी से बोले `सुभागे, तुम सदा संतान की कामना किया करती थी।

swajati prem Panchatantra ki kahaniya
swajati prem Panchatantra ki kahaniya

समझ लो कि ईश्वर ने तुम्हारी प्रार्थना सुन ली और यह बच्ची भेज दी। इसे अपनी पुत्री समझकर इसका लालन-पालन करो।`

ॠषि-पत्नी बच्ची को देखकर बहुत प्रसन्न हुई। बच्ची को अपने हाथों में लेकर चूमने लगी `कितनी प्यारी बच्ची है। मेरी बच्ची ही तो है यह। इसे मैं पुत्री की तरह ही पालूंगी।`

इस प्रकार वह चुहिया मानव बच्ची बनकर ॠषि के परिवार में पलने लगी। ॠषि पत्नी सच्ची मां की भांति ही उसकी देखभाल करने लगी।

उसने बच्ची का नाम कांता रखा। ॠषि भी कांता से पितावत स्नेह करने लगे। धीरे-धीरे वे यह भूल गए कि उनकी पुत्री कभी चुहिया थी। मां तो बच्ची के प्यार में खो गई। वह दिन-रात उसे खिलाने और उससे खेलने में लगी रहती।

ॠषि अपनी पत्नी को ममता लुटाते देख प्रसन्न होते कि आखिर संतान न होने का उसे दुख नहीं रहा। ॠषि ने स्वयं भी उचित समय आने पर कांता को शिक्षा दी और सारी ज्ञान-विज्ञान की बातें सिखाई।

समय पंख लगाकर उड़ने लगा। देखते ही देखते मां का प्रेम तथा ॠषि का स्नेह व शिक्षा प्राप्त करती कांता बढ़ते-बढ़ते सोलह वर्ष की सुंदर, सुशील व योग्य युवती बन गई।

माता को बेटी के विवाह की चिंता सताने लगी। एक दिन उसने ॠषि से कह डाला `सुनो, अब हमारी कांता विवाह योग्य हो गई है। हमें उसके हाथ पीले कर देने चाहिए।`

तभी कांता वहां आ पहुंची। उसने अपने केशों में फूल गूंथ रखे थे। चेहरे पर यौवन दमक रहा था। ॠषि को लगा कि उनकी पत्नी ठीक कह रही है। उन्होंने धीरे से अपनी पत्नी के कान में कहा `मैं हमारी बिटिया के लिए अच्छे से अच्छा वर ढूंढ निकालूंगा।`

उन्होंने अपने तपोबल से सूर्यदेव का आवाहन किया। सूर्य ॠषि के सामने प्रकट हुए और बोले `प्रणाम मुनिश्री, कहिए आपने मुझे क्यों स्मरण किया? क्या आज्ञा है?`

ॠषि ने कांता की ओर इशारा करके कहा `यह मेरी बेटी है। सर्वगुण सुशील है। मैं चाहता हूं कि तुम इससे विवाह कर लो।`

तभी कांता बोली `तात, यह बहुत गर्म हैं। मेरी तो आंखें चुंधिया रही हैं। मैं इनसे विवाह कैसे करूं? न कभी इनके निकट जा पाऊंगी, न देख पाऊंगी।`

ॠषि ने कांता की पीठ थपथपाई और बोले `ठीक है। दूसरे और श्रेष्ठ वर देखते हैं।`

सूर्यदेव बोले `ॠषिवर, बादल मुझसे श्रेष्ठ हैं। वह मुझे भी ढक लेता है। उससे बात कीजिए।`

ॠषि के बुलाने पर बादल गरजते-गरजते और बिजलियां चमकाते प्रकट हुए। बादल को देखते ही कांता ने विरोध किया `तात, यह तो बहुत काले रंग का है। मेरा रंग गोरा है। हमारी जोड़ी नहीं जमेगी।`

ॠषि ने बादल से पूछा `तुम्ही बताओ कि तुमसे श्रेष्ठ कौन है?`

बादल ने उत्तर दिया `पवन। वह मुझे भी उड़ाकर ले जाता है। मैं तो उसी के इशारे पर चलता रहता हूं।`

ॠषि ने पवन का आह्वान किया। पवन देव प्रकट हुए तो ॠषि ने कांता से ही पूछा `पुत्री, �क्या तुम्हे यह वर पसंद है?`

कांता ने अपना सिर हिलाया `नहीं तात! यह बहुत चंचल है। एक जगह टिकेगा ही नहीं। इसके साथ गृहस्थी कैसे जमेगी?`

ॠषि की पत्नी भी बोली `हम अपनी बेटी पवन देव को नहीं देंगे। दामाद कम से कम ऐसा तो होना चाहिए, जिसे हम अपनी आंख से देख सकें।`

ॠषि ने पवन देव से पूछा `तुम्ही बताओ कि तुमसे श्रेष्ठ कौन है?`

पवन देव बोले `ॠषिवर, पर्वत मुझसे भी श्रेष्ठ है। वह मेरा रास्ता रोक लेता है।`

ॠषि के बुलावे पर पर्वतराज प्रकट हुए और बोले `ॠषिवर, आपने मुझे क्यों याद किया?`

ॠषि ने सारी बात बताई। पर्वतराज ने कहा `पूछ लीजिए कि आपकी कन्या को मैं पसंद हूं क्या?`

कांता बोली `ओह! यह तो पत्थर ही पत्थर है। इसका दिल भी पत्थर का होगा।`

ॠषि ने पर्वतराज से उससे भी श्रेष्ठ वर बताने को कहा तो पर्वतराज बोले `चूहा मुझसे भी श्रेष्ठ है। वह मुझे भी छेद कर बिल बनाकर उसमें रहता है।`

पर्वतराज के ऐसा कहते ही एक चूहा उनके कानों से निकलकर सामने आ कूदा। चूहे को देखते ही कांता खुशी से उछल पड़ी `तात, तात! मुझे यह चूहा बहुत पसंद है। मेरा विवाह इसी से कर दीजिए।

मुझे इसके कान और पूंछ बहुत प्यारे लग रहे हैं। मुझे यही वर चाहिए।`

ॠषि ने मंत्र बल से एक चुहिया को तो मानवी बना दिया, पर उसका दिल तो चुहिया का ही रहा। ॠषि ने कांता को फिर चुहिया बनाकर उसका विवाह चूहे से कर दिया और दोनों को विदा किया।

सीखः जीव जिस योनी में जन्म लेता है, उसी के संस्कार बने रहते हैं। स्वभाव नकली उपायों से नहीं बदले जा सकते।

यहाँ पढ़ें: पंचतंत्र की अन्य मजेदार कहानियाँ

पंचतंत्र की कहानी: खटमल और बेचारी जूं – bedbugs and lice story in hindiपंचतंत्र की कहानी: मित्र की सलाह – mitra ki salah
पंचतंत्र की कहानी: नकल करना बुरा है – nakal karna bura haiपंचतंत्र की कहानी: रंग में भंग – rang me bhang
पंचतंत्र की कहानी: भेड़िया आया.. भेड़िया आया – Bhediya Aaya Bhediya Aayaपंचतंत्र की कहानी: सच्चे मित्र – sache mitra
पंचतंत्र की कहानी: गुफा की आवाज – Gufa ki Awaaz – Kids Storyपंचतंत्र की कहानी: एक और एक ग्यारह – ek aur ek gyarah
पंचतंत्र की कहानी: गोलू, मोलू और भालू – Golu, Molu Aur Bhaluपंचतंत्र की कहानी: चापलूस मंडली – Chaploos Mandali
पंचतंत्र की कहानी: नाग और चीटियां – Ants and Serpent – Naag Aur Chitiyanपंचतंत्र की कहानी: ढोंगी सियार – Dhongi Siyar
पंचतंत्र की कहानी: संगत का प्रभाव – sangati ka asar – kids storiesपंचतंत्र की कहानी: बगुला भगत और केकड़ा – bagula bhagat Aur Kekda
पंचतंत्र की कहानी: धोबी का गधा – Dhobi Ka Gadha – donkey storyपंचतंत्र की कहानी: बिल्ली का न्याय – billi ka nyay
पंचतंत्र की कहानी: बैल और शेर – Lion And Bulls Story – Sher Aur Bailपंचतंत्र की कहानी: मूर्ख बातूनी कछुआ – murkh batuni kachua
पंचतंत्र की कहानी: राजा और मूर्ख बंदर – The King and the Foolish Monkey – Raja Aur Murkh Bandar Ki Kahaniपंचतंत्र की कहानी: संगठन की शक्ति – sangathan ki shakti
पंचतंत्र की कहानी: कौआ और बंदर – Kauwa aur Bandarपंचतंत्र की कहानी: स्वजाति प्रेम – swajati prem
पंचतंत्र की कहानी: बंदर और लाल बेर – bandar aur lal ber ki kahaniपंचतंत्र की कहानी: सियार और ढोल | siyar aur dhol Panchtantra ki kahani in Hindi, The Jackal and the Drum
पंचतंत्र की कहानी: कौवा और दुष्ट सांप तथा बुद्धिमान लोमड़ी – kauwa aur dusht saanp – The Cobra And The Crowपंचतंत्र की कहानी: मूर्ख साधु और ठग | murkh sadhu aur thag Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: गजराज और मूषकराज पंचतंत्र की कहानी – gajraj aur mushakrajपंचतंत्र की कहानी: साधु और चूहा | sadhu aur chuha Panchtantra ki kahani in Hindi, Monk and mouse
पंचतंत्र की कहानी: लकड़हारा और शेर – lakadhara aur sherपंचतंत्र की कहानी: शेर और बढ़ई | lion and woodcutter Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: बुद्धिमान केकड़ा और चिड़िया – buddhiman kekada aur chidiyaपंचतंत्र की कहानी: लालची सियार | lalchi siyar Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: तपस्वी और उत्पाती चूहा – The Hermit And The Mouseपंचतंत्र की कहानी: भेड़ और भेड़िया | Bhed aur Bhediya Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: बंदर और लकड़ी का खूंटा – bandar aur lakdi ka khuntaपंचतंत्र की कहानी: दो सिर वाली चिड़िया | do sir wali chidiya Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: रंगा सियार – ranga siyar – the blue jackal story in hindiपंचतंत्र की कहानी: तीन मछलियां | Teen Machliya, the three fishes Panchatantra story in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: खरगोश की चतुराई – Khargosh Ki Chaturaiपंचतंत्र की कहानी: बूढ़ा शेर और लोमड़ी| budha sher aur lomdi Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: घंटीधारी ऊंट – ghanti dhari untपंचतंत्र की कहानी: भेड़िया और सारस | bhediya aur saras Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: झूठी शान – jhoothi shaanपंचतंत्र की कहानी: लोमड़ी और सारस – जैसे को तैसा | lomdi aur saras Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: दुश्मन का स्वार्थ – dushman ka swarthपंचतंत्र की कहानी: कछुआ और खरगोश | Kachua aur Khargosh Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: बंदर का कलेजा – bandar ka kalejaपंचतंत्र की कहानी: चींटी और कबूतर | Ant And Dove Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: बड़े नाम का चमत्कार – bade naam ka chamatkarपंचतंत्र की कहानी: हंस और उल्लू | hans aur ullu Panchtantra ki kahani in Hindi

Leave a Comment