ढोंगी सियार पंचतंत्र की कहानी | Dhongi Siyar Panchtantra ki kahani in Hindi

ढोंगी सियार और चूहे | Dhongi Siyar aur Choohe – Panchtantra ki kahaniya – Toon House

Dhongi Siyar Panchtantra ki kahani

यहाँ पढ़ें : विष्णु शर्मा की 101 पंचतंत्र कहानियाँ

Dhongi Siyar Panchtantra ki kahani in Hindi

बहुत समय पहले..

मिथिला के जंगलों में एक सियार रहता था। वह बहुत आलसी था। पेट भरने के लिए खरगोशों व चूहों का पीछा करना व उनका शिकार करना उसे बड़ा भारी लगता था।

शिकार करने में परिश्रम तो करना ही पडता है। दिमाग उसका शैतानी था। यही तिकड़म लगाता रहता कि कैसे ऐसी जुगत लड़ाई जाए जिससे बिना हाथ-पैर हिलाए भोजन मिलता रहे। खाया और सो गए।

एक दिन इसी सोच में डूबा वह सियार एक झाड़ी में दुबका बैठा था। बाहर चूहों की टोली उछल-कूद व भाग-दौड़ करने में लगी थी।

उनमें एक मोटा-सा चूहा था, जिसे दूसरे चूहे `सरदार` कहकर बुला रहे थे और उसका आदेश मान रहे थे। सियार उन्हें देखता रहा। उसके मुंह से लार टपकती रही।

Dhongi Siyar Panchtantra ki kahani
Dhongi Siyar Panchtantra ki kahani

फिर उसके दिमाग में एक तरकीब आई। जब चूहे वहां से गए तो उसने दबे पांव उनका पीछा किया। कुछ ही दूर उन चूहों के बिल थे।

सियार वापस लौटा। दूसरे दिन प्रातः ही वह उन चूहों के बिल के पास जाकर एक टांग पर खड़ा हो गया। उसका मुंह उगते सूरज की ओर था। आंखें बंद थी। चूहे बिलों से निकले तो सियार को उस अनोखी मुद्रा में खड़े देखकर वे बहुत चकित हुए।

एक चूहे ने सियार के थोड़ा निकट जाकर पूछा `सियार मामा, तुम इस प्रकार एक टांग पर क्यों खड़े हो?`

सियार एक आंख खोलकर बोला `मूर्ख, तूने मेरे बारे में नहीं सुना कभी? मैं चारों टांगें नीचे टिका दूंगा तो धरती मेरा बोझ नहीं सम्भाल पाएगी। साथ ही तुम सब नष्ट हो जाओगे।

तुम्‍हारे ही कल्याण के लिए मुझे एक टांग पर खड़े रहना पड़ता है।` चूहों में खुसर-फुसर हुई। वे सियार के निकट आकर खड़े हो गए।

चूहों के सरदार ने कहा `हे महान सियार, हमें अपने बारे में कुछ बताइए।` सियार ने ढोंग रचा `मैंने सैकड़ों वर्ष हिमालय पर्वत पर एक टांग पर खड़े होकर तपस्या की। 

मेरी तपस्या समाप्त होने पर सभी देवताओं ने मुझ पर फूलों की वर्षा की।

भगवान ने प्रकट होकर कहा कि मेरे तप से मेरा भार इतना हो गया है कि मैं अपने चारों पैर धरती पर रखूं तो धरती गिरती हुई ब्रह्मांड को फोड़कर दूसरी ओर निकल जाएगी।

धरती मेरी कृपा पर ही टिकी रहेगी। तबसे मैं एक टांग पर ही खड़ा हूं। मैं नहीं चाहता कि मेरे कारण दूसरे जीवों को कष्ट हो।`

सारे चूहों का समूह महातपस्वी सियार के सामने हाथ जोड़कर खड़ा हो गया। एक चूहे ने पूछा `तपस्वी मामा, आपने अपना मुंह सूरज की ओर क्यों कर रखा है?`

सियार ने उत्तर दिया `सूर्य की पूजा के लिए।`

`और आपका मुंह क्यों खुला है?` दूसरे चूहे ने पूछा । `हवा खाने के लिए!

मैं केवल हवा खाकर ज़िंदा रहता हूं। मुझे खाना खाने की ज़रुरत नहीं पड़ती। मेरे तप का बल हवा को ही पेट में भांति-भांति के पकवानों में बदल देता है।` सियार बोला।

सियार की बात को सुनकर चूहों पर ज़बरदस्त प्रभाव पड़ा। अब सियार की ओर से उनका सारा भय जाता रहा। वे उसके और निकट आ गए।

अपनी बात का असर चूहों पर होता देख दुष्ट सियार दिल ही दिल में खूब हंसा। अब चूहे महातपस्वी सियार के भक्त बन गए।

सियार एक टांग पर खड़ा रहता और चूहे उसके चारों ओर बैठकर ढोलक, मजीरे, खड़ताल और चिमटे लेकर उसके भजन गाते।

भजन कीर्तन समाप्त होने के बाद चूहों की टोलियां भक्ति रस में डूबकर अपने बिलों में घुसने लगती तो सियार सबसे बाद के तीन-चार चूहों को दबोचकर खा जाता।

फिर रात भर आराम करता, सोता और डकारें लेता। सुबह होते ही फिर वह चूहों के बिलों के पास आकर एक टांग पर खड़ा हो जाता और अपना नाटक चालू रखता। धीरे-धीरे चूहों की संख्या कम होने लगी।

चूहों के सरदार की नज़र से यह बात छिपी नहीं रही। एक दिन सरदार ने सियार से पूछ ही लिया `हे महात्मा सियार, मेरी टोली के चूहे मुझे कम होते नज़र आ रहे हैं। ऐसा क्यों हो रहा है?`

सियार ने आशीर्वाद की मुद्रा में हाथ उठाया `हे चतुर मूषक, यह तो होना ही था। जो सच्चे मन से मेरी भक्ति करेगा, वह सशरीर बैकुण्ठ को जाएगा। बहुत से चूहे भक्ति का फल पा रहे हैं।`

चूहों के सरदार ने देखा कि सियार मोटा हो गया है। कहीं उसका पेट ही तो वह बैकुण्ठ लोक नहीं है, जहां चूहे जा रहे हैं?

चूहों के सरदार ने बाकी बचे चूहों को चेताया और स्वयं उसने दूसरे दिन सबसे बाद में बिल में घुसने का निश्चय किया।

भजन समाप्त होने के बाद चूहे बिलों में घुसे। सियार ने सबसे अंत के चूहे को दबोचना चाहा। चूहों का सरदार पहले ही चौकन्ना था।

वह दांव मारकर सियार का पंजा बचा गया। असलियत का पता चलते ही वह उछलकर सियार की गर्दन पर चढ़ गया और उसने बाकी चूहों को हमला करने के लिए कहा।

साथ ही उसने अपने दांत सियार की गर्दन में गाड़ दिए। बाकी चूहे भी सियार पर झपटे और सबने कुछ ही देर में महात्मा सियार को कंकाल सियार बना दिया। केवल उसकी हड्डियों का पिंजर बचा रह गया।

सीखः   ढोंग कुछ ही दिन चलता है, फिर ढोंगी को अपनी करनी का फल मिलता ही है।

यहाँ पढ़ें: पंचतंत्र की अन्य मजेदार कहानियाँ

पंचतंत्र की कहानी: खटमल और बेचारी जूं – bedbugs and lice story in hindiपंचतंत्र की कहानी: मित्र की सलाह – mitra ki salah
पंचतंत्र की कहानी: नकल करना बुरा है – nakal karna bura haiपंचतंत्र की कहानी: रंग में भंग – rang me bhang
पंचतंत्र की कहानी: भेड़िया आया.. भेड़िया आया – Bhediya Aaya Bhediya Aayaपंचतंत्र की कहानी: सच्चे मित्र – sache mitra
पंचतंत्र की कहानी: गुफा की आवाज – Gufa ki Awaaz – Kids Storyपंचतंत्र की कहानी: एक और एक ग्यारह – ek aur ek gyarah
पंचतंत्र की कहानी: गोलू, मोलू और भालू – Golu, Molu Aur Bhaluपंचतंत्र की कहानी: चापलूस मंडली – Chaploos Mandali
पंचतंत्र की कहानी: नाग और चीटियां – Ants and Serpent – Naag Aur Chitiyanपंचतंत्र की कहानी: ढोंगी सियार – Dhongi Siyar
पंचतंत्र की कहानी: संगत का प्रभाव – sangati ka asar – kids storiesपंचतंत्र की कहानी: बगुला भगत और केकड़ा – bagula bhagat Aur Kekda
पंचतंत्र की कहानी: धोबी का गधा – Dhobi Ka Gadha – donkey storyपंचतंत्र की कहानी: बिल्ली का न्याय – billi ka nyay
पंचतंत्र की कहानी: बैल और शेर – Lion And Bulls Story – Sher Aur Bailपंचतंत्र की कहानी: मूर्ख बातूनी कछुआ – murkh batuni kachua
पंचतंत्र की कहानी: राजा और मूर्ख बंदर – The King and the Foolish Monkey – Raja Aur Murkh Bandar Ki Kahaniपंचतंत्र की कहानी: संगठन की शक्ति – sangathan ki shakti
पंचतंत्र की कहानी: कौआ और बंदर – Kauwa aur Bandarपंचतंत्र की कहानी: स्वजाति प्रेम – swajati prem
पंचतंत्र की कहानी: बंदर और लाल बेर – bandar aur lal ber ki kahaniपंचतंत्र की कहानी: सियार और ढोल | siyar aur dhol Panchtantra ki kahani in Hindi, The Jackal and the Drum
पंचतंत्र की कहानी: कौवा और दुष्ट सांप तथा बुद्धिमान लोमड़ी – kauwa aur dusht saanp – The Cobra And The Crowपंचतंत्र की कहानी: मूर्ख साधु और ठग | murkh sadhu aur thag Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: गजराज और मूषकराज पंचतंत्र की कहानी – gajraj aur mushakrajपंचतंत्र की कहानी: साधु और चूहा | sadhu aur chuha Panchtantra ki kahani in Hindi, Monk and mouse
पंचतंत्र की कहानी: लकड़हारा और शेर – lakadhara aur sherपंचतंत्र की कहानी: शेर और बढ़ई | lion and woodcutter Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: बुद्धिमान केकड़ा और चिड़िया – buddhiman kekada aur chidiyaपंचतंत्र की कहानी: लालची सियार | lalchi siyar Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: तपस्वी और उत्पाती चूहा – The Hermit And The Mouseपंचतंत्र की कहानी: भेड़ और भेड़िया | Bhed aur Bhediya Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: बंदर और लकड़ी का खूंटा – bandar aur lakdi ka khuntaपंचतंत्र की कहानी: दो सिर वाली चिड़िया | do sir wali chidiya Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: रंगा सियार – ranga siyar – the blue jackal story in hindiपंचतंत्र की कहानी: तीन मछलियां | Teen Machliya, the three fishes Panchatantra story in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: खरगोश की चतुराई – Khargosh Ki Chaturaiपंचतंत्र की कहानी: बूढ़ा शेर और लोमड़ी| budha sher aur lomdi Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: घंटीधारी ऊंट – ghanti dhari untपंचतंत्र की कहानी: भेड़िया और सारस | bhediya aur saras Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: झूठी शान – jhoothi shaanपंचतंत्र की कहानी: लोमड़ी और सारस – जैसे को तैसा | lomdi aur saras Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: दुश्मन का स्वार्थ – dushman ka swarthपंचतंत्र की कहानी: कछुआ और खरगोश | Kachua aur Khargosh Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: बंदर का कलेजा – bandar ka kalejaपंचतंत्र की कहानी: चींटी और कबूतर | Ant And Dove Panchtantra ki kahani in Hindi
पंचतंत्र की कहानी: बड़े नाम का चमत्कार – bade naam ka chamatkarपंचतंत्र की कहानी: हंस और उल्लू | hans aur ullu Panchtantra ki kahani in Hindi

Leave a Comment