दो सिर वाली चिड़िया पंचतंत्र की कहानी | do sir wali chidiya Panchtantra ki kahani in Hindi

दो सिर वाला चिड़िया || Hindi Kahaniya for Men || Bedtime Stories | Educational Story Hindi

do sir wali chidiya Panchtantra ki kahani

यहाँ पढ़ें : vishnu sharma ki 101 panchtantra kahaniya

do sir wali chidiya Panchtantra ki kahani in Hindi

कई समय पहले जंगल में एक विचित्र पक्षी रहता था।

जिसका शरीर तो एक था पर सिर दो थे। एक दिन वह पक्षी जंगल में घूम रहा था। तभी एक शेर को एक स्वादिष्ट फल दिखा और वो उसे खाने लगा। दूसरे से ने उससे कहा, “यह फल तो बहुत स्वादिष्ट लग रहा है। मुझे भी दो खाने के लिए।”

do sir wali chidiya Panchtantra ki kahani
do sir wali chidiya Panchtantra ki kahani

पहले से ने गुस्से में जवाब दिया, “इस पल को मैंने देखा है! इसे पूरा का पूरा मैं ही खाऊंगा।”

दूसरा सिर कुछ नहीं बोला। पर वह थोड़ा निराश हो गया। कुछ दिनों बाद दूसरा सिर को एक जहरीला फल दिखा और उसने पहले सिर से बदला लेने की सोची।

दूसरा सिर बोला, “मैं यह फल खाऊंगा क्योंकि तुमने उस दिन मेरा अपमान किया था।”

पहले सिर ने उससे कहा, “उस फल को मत खाओ हम दोनों का पेट तो एक ही है।”

पर दूसरे सिर ने वह फल खा लिया और वह विचित्र पक्षी मर गया।

नैतिक शिक्षा :– एकजुट होकर रहने में ही हमारी जीत होगी।

Leave a Comment