in ,

राजा और मूर्ख बंदर – Raja Aur Murkh Bandar Ki Kahani – पंचतंत्र

एक समय की बात है, एक राजा था उसे बंदरों से बहुत लगाव था। एक बड़ा बंदर तो उसके निजी सेवक के रूप में काम करता था।

राजा का मानना था कि वह मनुष्यों जैसा ही बुद्धिमान है। जब राजा अपने शयनकक्ष में होता तो वह बंदर वहीं निकट ही पहरेदारी करता रहता।

एक बार राजा जंगल में शिकार करने गया तो काफी दिनों बाद वापस लौटा।

The king and the foolish Monkey

वह काफी थक चुका था क्योंकि तमाम सुविधाएं जुटाने के बावजूद उसे जंगल में महल जैसा सुख नही मिल पाया था।

अत: आते ही वह शयनकक्ष में आराम करने चला गया। उसने बंदर को आदेश दिया कि किसी को भी उसकी नींद में खलल न डालने दे।

The King and the Foolish Monkey

बंदर आदेश का पालन करने के लिए वहीं राजा के पलंग के निकट नंगी तलवार हाथ में लेकर बैठ गया।

थोड़ी देर बाद बंदर ने देखा कि एक मक्खी शयनकक्ष में घुस आई है।

फिर वह मक्खी राजा की नाक पर बैठ गई। बंदर ने उसे उड़ाना चाहा लेकिन मक्खी वही आसपास मंडराती रही। वह बार – बार राजा की नाक पर बैठती और उड़ जाती।

अब बंदर से रहा न गया, इस बार मक्खी जैसे ही राजा की नाक पर बैठी, बंदर ने आव देखा न ताव, उस पर तलवार चला दी।

मक्खी का तो क्या होना था, वह तो उड़ गई, लेकिन राजा का सिर जरुर धड़ से अलग हो गया।

शिक्षा – इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि मूर्ख मित्र से कहीं अच्छा होता है बुद्धिमान शत्रु।

Written by savita mittal

मेरा नाम सविता मित्तल है। मैं एक लेखक (content writer) हूँ। मेैं हिंदी और अंग्रेजी भाषा मे लिखने के साथ-साथ एक एसईओ (SEO) के पद पर भी काम करती हूँ। मैंने अभी तक कई विषयों पर आर्टिकल लिखे हैं जैसे- स्किन केयर, हेयर केयर, योगा । मुझे लिखना बहुत पसंद हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Lion And Bulls Story

बैल और शेर की कहानी – Lion And Bulls – पंचतंत्र

Kauwa aur Bandar

कौआ और बंदर – Kauwa aur Bandar – पंचतंत्र