गाय पर हिन्दी में निबंध | Essay on Cow in Hindi Language | गाय पर निबंध

cow essay in hindi 10 lines, गाय पर निबंध कक्षा 1, गाय पर निबंध 10 लाइन hindi में class 1, गाय पर निबंध 15 लाइन, गाय एक पालतू पशु है, गाय पर निबंध class 3, गाय पर निबंध class 4, गाय पर लेख हिंदी में, गाय पर निबंध 10 लाइन Hindi में, गाय पर निबंध 10 लाइन Hindi में class 2, गाय पर निबंध 10 लाइन Hindi में class 1, गाय पर निबंध इंग्लिश में, गाय पर निबंध class 4, गाय पर निबंध मराठी, गाय एक पालतू पशु है, domestic animal, cow essay, short essay, mother cow, healthy milk, hindi essay, line essay


भूमिका – गाय एक बहुत ही उपयोगी पशु है। गाय से हमें दूध, दही, घी, गोबर और गौमूत्र मिलता है जिसके कई औषधीय महत्व होते हैं। गाय भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व भर में पाई जाती है। देश दुनिया में गाय को पाला जाता है। हालांकि भारत में गाय को विशेष दर्जा दिया गया है। भारत में हिंदू धर्म के लोग गाय को माता का दर्जा देते हैं। इसे हिंदू धर्म में देव तुल्य स्थान प्राप्त है। यही वजह है कि गाय के दूध का इस्तेमाल देवी-देवता के अभिषेक के लिए भी किया जाता है।

#सम्बंधित : Hindi Essay, Hindi Paragraph, हिंदी निबंध।

विज्ञान पर निबंध
भ्रष्टाचार पर निबंध
गणतंत्र दिवस पर निबंध
मेरा विद्यालय पर निबन्ध
मेरी माँ पर निबंध

गाय की शारीरिक संरचना

यदि बात करें गाय की शारीरिक संरचना की तो इसके चार पैर, दो सींग, दो आंखें, दो कान और एक लंबी सी पूँछ होती है। गाय खुर के जरिए चलती है। गाय के ये खुर उसके लिए जूतों का काम करते हैं।

गाय की अलग-अलग प्रजातियों की शारीरिक संरचना थोड़ी भिन्न होती है। गाय की कुछ प्रजातियों में सींग बाहर की और होती है, तो कुछ प्रजातियों में सींग नजर ही नहीं आती। इसके अलावा अन्य देशों में पाई जाने वाली गाय, भारत की गायों की तुलना में आकार में थोड़ी बड़ी होती है।

Essay on Cow in Hindi
Essay on Cow in Hindi

यहाँ पढ़ें : छह ऋतु के नाम हिंदी में

गाय के प्रकार

वैश्विक स्तर पर देखा जाए तो गाय अलग-अलग प्रकार की पाई जाती है। गाय का रंग, रूप और आकार जलवायु के हिसाब से अलग-अलग होता है। विभिन्न देशों में गाय की अलग-अलग किस्में पाई जाती हैं। आइए जानते हैं भारत में पाई जाने वाली गाय के सभी प्रकारों और किस्मों के बारे में।

  • लाल सिंधी

भारत में महत्वपूर्ण गायों में से एक गाय है, लाल सिंधी। हालांकि यह गाय मूल रूप से सिंध प्रांत में पाई जाती है। लेकिन यह दक्षिण भारतीय राज्यों कर्नाटक और तमिलनाडु में भी पाई जाती है। इस गाय का नाम लाल सिंधी इसलिए है क्योंकि इसका रंग लाल है। यह गाय सालाना 2000 से 3000 लीटर दूध देती है।

  • मेवाती और हासी हिसार

हरियाणा में गाय की प्रमुख नदियों में मेवाती और हासी हिसार प्रमुख है। मेवाती गाय का इस्तेमाल कृषि कार्य में किया जाता है जबकि हासी हिसार गाय हरियाणा के हिसार में पाई जाती है।

  • दज्जल और धन्नी

गाय की यह प्रजातियां पंजाब में पाई जाती हैं। दज्जल और धन्नी प्रजाति की गाय काफी लोकप्रिय है। इन गायों में धन्नी प्रजाति की गाय दूध नहीं देती।

  • राठी नस्ल, थारपरकर, कांकरेज

गाय की तीनों प्रजातियां राजस्थान में पाई जाती हैं। राठी नस्ल की गाय प्रतिदिन 6 से 8 लीटर दूध देती है। इनमें से थारपरकर गाय जोधपुर, जैसलमेर में ज्यादा पाई जाती है। वही कांकरेज गाय राजस्थान के बाड़मेर, जालौर और सिरौही में पाई जाती है।

  • गिर

भारत के गुजरात में मौजूद गिर जंगलों में पाई जाने वाली गाय की यह प्रजाति भारत की सबसे दुधारू गाय है। यह दिन में 50 से 80 लीटर दूध देती है। इस गाय की सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी काफी मांग है। इसे भारत के अलावा ब्राजील और इजराइल में भी पाला जाता है।

  • साहीवाल

गाय की यह प्रजाति भारत के अधिकतर क्षेत्रों में पाई जाती है। इस गाय को हरियाणा, बिहार, उत्तर प्रदेश और पंजाब में पाला जाता है। यह गाय सालाना 2000 से 3000 लीटर दूध देती है।

  • जर्सी

भारत में जर्सी गाय भी काफी लोकप्रिय है। हालांकि यह एक विदेशी नस्ल की गाय है। लेकिन यह गाय दूध काफी मात्रा में देती है इसीलिए इसे काफी पसंद किया जाता है।

यह थी भारत में पाई जाने वाली गायों की कुछ नस्लें। इसके अलावा विदेशों में कई तरह की गाय पाई जाती है। हालांकि ये भारतीय गायों के मुकाबले आकार और रंग रूप में भिन्न होती है। गाय अलग-अलग रंगों में पाई जाती हैं। कुछ गाय सफेद, काले, लाल, भूरे रंग की होती हैं, तो कुछ चितकबरी होती हैं।

गाय की उपयोगिता

गाय से हमें कई चीजें प्राप्त होती हैं। जैसे कि गाय से मिलने वाले दूध का इस्तेमाल दही, मक्खन, पनीर जैसे कई डेयरी उत्पादों को बनाने के लिए किया जाता है। गाय का दूध, प्रोटीन का प्रमुख स्रोत है। इसके साथ ही बच्चों को भी गाय का दूध पीने की सलाह दी जाती है। गाय के दूध से बनने वाला घी सर्दी-खांसी को दूर भगाने में मदद करता है।

गाय का दूध ही नहीं बल्कि गाय के उत्सर्जन उत्पाद जैसे कि गोबर और मूत्र का भी कई इस्तेमाल किया जाता है। गाय के गोबर और मूत्र से कई औषधियों का निर्माण किया जाता है। इसके अलावा इसके गोबर का इस्तेमाल उपले बनाने के लिए किया जाता है। जिनकी की मदद से ग्रामीण क्षेत्र के लोग चूल्हा जलाकर खाना पकाते हैं।

गाय का गोबर फसलों के लिए भी खाद का काम करता है। गाय सिर्फ जीवित रहते हुए ही मनुष्य उपयोगी नहीं होती वरन मृत्यु के बाद भी इसके चमड़े, हड्डियों तथा सींग का इस्तेमाल करें कार्यों के लिए किया जाता है।

ज्यादातर लोग गाय को सिर्फ दूध के लिए पालते हैं क्योंकि गाय का दूध समस्त पशुओं की तुलना में काफी उपयोगी माना जाता है। छोटे बच्चों को भी गाय का दूध पिलाने की सलाह दी जाती है क्योंकि गाय का दूध बच्चों से सुस्ती को दूर कर उनमें चंचलता बनाए रखता है। गाय के दूध में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं जो बच्चों के लिए काफी महत्वपूर्ण होते हैं।

गाय का धार्मिक महत्त्व

भारत में गाय सिर्फ एक पशु नहीं बल्कि इसे मां तुल्य माना जाता है। भारत में गाय को देवी का दर्जा दिया गया है। कहा जाता है कि एक गाय के शरीर में 33 करोड़ देवी-देवताओं का वास होता है। यही वजह है कि गाय के लिए गोवर्धन पूजा की जाती है।

हालांकि, गाय सिर्फ अभी से ही नहीं बल्कि प्राचीन काल से ही महत्वपूर्ण मानी जाती रही है। प्राचीन काल में लोग बड़ी मात्रा में गाय पाला करते थे क्योंकि उस दौरान गाय समृद्धि का प्रतीक हुआ करती थी। यानी कि जिसके पास जितनी गाय होगी, वह उतना ही समृद्ध माना जाएगा। प्राचीन काल में चोर सिर्फ सोने-चांदी और आभूषणों को ही नहीं चुराते थे, उस दौरान वे गायों को भी चुराते थे। इससे हम यह अंदाजा लगा सकते हैं कि उस दौरान गाय कितनी महत्वपूर्ण हुआ करती थी।

Essay on Cow in Hindi – FAQ

क्या गाय पालतू जानवर है?

जी हाँ गाय एक पालतू जानवर है. लोग गाय को पालते है, उसका दूध पीते है. गाय की सेवा करते है और हिन्दू धर्म में गाय का धार्मिक महत्व भी है

गाय क्या क्या करती है?

गाय से उत्तम किस्म का दूध प्राप्त होता है। हिन्दू, गाय को ‘माता’ (गौमाता) कहते हैं। इसके बछड़े बड़े होकर गाड़ी खींचते हैं एवं खेतों की जुताई करते हैं।

गाय क्या खाती है?

एक स्वस्थ गाय दिन में करीब 8-10 किलो चारा खाती है। खाने में घास, जवार, मूंगफली और दालों के छिलके आते हैं इसके अलावा गायों को करीब खल, चापड़, तिल्ली की खड़, कपासिया दिया जाता है।

गाय पर 10 लाइन निबंध/Gai Par Nibandh 10 line/The Cow Essay in Hindi/Cow par Hindi Essay Writing

Essay on Cow in Hindi

निष्कर्ष

ग्रामीण क्षेत्रों में तो गाय की अच्छी देखभाल हो जाती है, लेकिन शहरों में रहने वाली गाय की स्थिति बेहद खराब है। दरअसल, शहरों में गायों को उचित खानपान नहीं मिलता जिस वजह से वे रास्ते और कूड़े-कचरे से खाना तलाश करती है। इसी दौरान कई गाय पॉलिथीन खा लेती है और इसे खाकर उनकी मृत्यु हो जाती है।

ऐसे में गायों की रक्षा के लिए उनके लिए उचित खानपान का प्रबंध करना चाहिए। गाय मनुष्य के जीवन में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसके साथ ही गाय से कई लोगों की धार्मिक आस्था भी जुड़ी हुई है। गाय ग्रामीण अर्थव्यवस्था की रीढ़ की हड्डी है। ऐसे में गाय की देखरेख सही ढंग से की जानी चाहिए।

REFERENCE
Essay on Cow in Hindi, WIKIPEDIA

Leave a Comment