in

Full form of MSME -एम.एस.एम.ई का फुल फॉर्म क्या होता है

Full form of MSME? एमएसएमई क्या होता है? एमएसएमई (MSME) एक स्कीम है जिसके माध्यम से लघु एवं सूक्ष्म उद्योगों को बढ़ावा देने का काम किया जाता है। इसके माध्यम से ही ऐसे बहुत से लघु उद्योग हैं जिन्हें बड़ी मात्रा में मुनाफा प्राप्त होता है। भारत सरकार ने लघु उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए कई प्रकार की योजनाओं की शुरुआत की है। जिसके माध्यम से बहुत से लोगों को लाभ प्राप्त होता है।

वर्तमान समय की बात करें तो भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने 20 लाख करोड़ रुपए का ऐलान किया है और आत्मनिर्भर भारत अभियान की शुरुआत की है। इस पैकेज के माध्यम से एम एस एम ई (M S M E) सेक्टर के लिए भी बड़े ऐलान किए गए हैं। इस सेक्टर के लिए लगभग 3 लाख करोड़ रुपये (3 lakh crores) का लोन (Loan) देने का ऐलान किया जाएगा।

इस लोन की समय सीमा 4 साल है इसके साथ एक साल तक आपको मूलधन चुकाने की आवश्यकता भी नहीं है। इस आर्थिक पैकेज (Economic package) से लगभग 45 लाख एम एस एम ई (MSME) उद्योगों को लाभ मिलेगा।

What is the full form of MSME? एमएसएमई का फुल फॉर्म क्या होता है?

Full form of MSMEMicro, Small and Medium Enterprises
Full form of MSME in Hindiसूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग
HeadquartersMinistry of Micro, Small and Medium Enterprises,Udyog Bhawan, Rafi Marg, New Delhi,110011
MinistersNitin Gadkari, Cabinet Minister
responsiblePratap Chandra Sarangi, Minister of State
Websitemsme.gov.in
full form of MSME

एम एस एम ई (MSME) का फुल फॉर्म होता है माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम इंटरप्राइसिज़ (Micro, Small and Medium Enterprises) इसे हिंदी में कहते हैं। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग इसका मुख्य उद्देश्य इन सभी वर्गों के व्यापारिक संगठनों को व्यापार में सरलता प्रदान करना है। साथ- साथ व्यापारिक क्षेत्रों (Business areas) को बढ़ावा देना भी है।

What is an MSME? एमएसएमई क्या होता है?

भारत की अर्थव्यवस्था (Economy) मे देश के व्यापारी वर्ग (Merchant class) का बहुत बड़ा योगदान होता है। क्योंकि किसी भी देश की अर्थव्यवस्था (Economy) वहां पर किए गए निवेश और उधोग (Investment and industry) पर निर्भर करती है। देश मे सूक्ष्म, मध्यम और लघु (Micro, medium and small) उधोग मंत्रालय के द्वारा एम एस एम ई (MSME) उधोगों के लिए कुछ नियम भी बनाए गए हैं।

देश मे सूक्ष्म, लघु और मध्यम (Micro, medium and small) उधोगों से विनियम (Regulations) और कानून (Law) संबंधित नियम बनाए गए होते हैं। तथा आवश्यकता पड़ने पर नए कानून बनाने के लिए यह मंत्रालय (Ministry) सबसे व्यवस्थित और विश्वसनीय संस्था (Systematic and reliable organization) है।

सरकार द्वारा ऐसे कदम उठाने की कोशिश की जाती है जिससे छोटे- बड़े व्यापारिक संस्थाओं को व्यापार करने के लिए कठिनाई न उठानी पड़े। इसको मध्य नज़र रखते हुए सरकार ने व्यापारिक संगठनों के लिए पंजीकरण (Registration) करने की प्रक्रिया को आसान कर दिया है।

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उधोग वर्ग के लिए एमएसएमई MSME स्कीम मे मिलने वाली राशी के लाभ

उध्दम
Enterprise
निर्माण क्षेत्र
Manufacturing Sector
(प्लांट और मशीनरी मे निवेश)
(Investment in plant and machinery)
सेवा क्षेत्र Service area
(उपकरण मे निवेश)
(Investment in equipment)
सूक्ष्म
micro
पच्चीस लाख से अधिक नही
Not more than twenty five million
दस लाख से अधिक नही
Not more than a million
लघु
Small
पच्चीस लाख रुपए अधिक लेकिन पांच करोड़ रुपये से अधिक नही
Twenty five lakh rupees but not more than five crores rupees
दस लाख रुपय से अधिक लेकिन दो करोड़ रुपये से अधिक नही More than ten million rupees but not more than two crore rupees
मध्यम
Medium
पांच करोड़ रुपये से अधिक लेकिन दस करोड़ से अधिक नही More than five crores but not more than ten crores more than five crores but not more than ten croresदो करोड़ रुपये से अधिक लेकिन पांच करोड़ से अधिक नही More than two crores but not more than five crores
MSME benefits

इस सारणी (table) के माध्यम से आप समझ सकते हैं कि सरकार एम एस एम ई (MSME) को उनके टर्नओवर Turnover और कैटेगरी Category के हिसाब से वर्गीकृत Classified करती है। इसमे दो अलग क्षेत्र होते हैं एक विनिर्माण (Manufacturing) और दूसरा सेवा क्षेत्र। (Service area) एमएसएमई (MSME) के माध्यम से सरकार को पता चल जाता है कि हमारे देश मे कितने लघु उधोग चल रहे है और उनके लिए बेहतर नियम व फायदे देने के लिए सरकार ये रजिस्ट्रेशन करवाती है।

MSME registration एमएसएमई पंजीकरण क्या है?

full form of MSME

एम एस एम ई (MSME) स्कीम लघु व दीर्ध उधोगों को बढ़ावा देने के लिए शुरु की गई है। इसके अंतर्गत बहुत से लघु उधोगों को फायदा मिलता है। तथा भारत सरकार के द्वारा लघु उधोगों को बढ़ावा देन के लिए बहुत सी योजनाएं तैयार की हुई हैं। जिनका लाभ एम एस एम ई (MSME) मे रजिस्ट्रेशन Registration करके उठाया जा सकता है।

क्योंकि बहुत सी ऐसी स्कीम scheme हैं जिनका एम एस एम ई (MSME) मे रजिस्ट्रेशन Registration कराए बिना लाभ नही लिया जा सकता। इसलिए इसमे रजिस्ट्रेशन करवाना बहुत ही महत्वपूर्ण हैं।

Required documents for MSME registration एमएसएमई पंजीकरण के लिए आवश्यक दस्तावेज

1.   पैन कार्ड (PAN Card)

2.    पासपोर्ट (Passport)

3.    आधार कार्ड (Aadhaar Card)

4.   ड्राइविंग लाइसेंस (Driving License)

5.    कोई भी एक पहचान प्रमाण पत्र (Identity certificate)

6.    पासपोर्ट साइज़ फोटो (Passport Size Photo)

अन्य आवश्यक दस्तावेज

1.   एफिडेविड (शपत पत्र Affidavit)

2.   यदि आप किराए की संपत्ति पर उधोग करते हैं तो किराए का डॉक्यूमेंट

3.   अगर आपकी संपत्ति है तो सोदे का दस्तावेज़

4.    घोषणा दस्तावेज

5.    एनओसी (NOC)

6.   साक्षी के रुप मे दो व्यक्ति (गारंटी)

Registration process रजिस्ट्रैशन की प्रक्रिया

Full form of MSME
full form of MSME

एम एस एम ई (MSME) रजिस्ट्रेशन के लिए पहले आपको फॉर्म भरना होता था लेकिन अब इसकी प्रक्रिया बदल दी गई है। अब एमएसएमई (MSME) रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन (Online) भी किया जा सकता है। लेकिन उसके लिए आपको पहले उधोग आधार का रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। जैसे आप अपनी कंपनी, पार्टनर फर्म, एलएलपी (LLP) फर्म का उधोग आधार रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। परंतु उनका बिज़नेस रजिस्ट्रेशन किया हुआ होना चाहिए। जैसे पार्टनर शिप फर्म के लिए, पार्टनर शिप रजिस्ट्रेशन होना चाहिए।

1. इसके रजिस्ट्रेशन के लिए उधोग आधार की आधिकारिक बेवसाइट पर लॉगिन करना होता है। (http://udyogaadhaar.gov.in/UA/UAM_Registration.aspx) फिर वहां पर उधोग आधार मेमोरेंडम भरना होता है। फार्म भरते समय ध्यान रखें की सारी आवश्यक जानकारी सही भरें। जैसे व्यापार प्रमाण, पता, ईमेल आई डी, मोबाइल नंबर, आधार संख्या, मालिक का नाम और बैंक विवरण आदि। उसके बाद इसे सब्मिट कर दें।

2. अब आपके पंजीकृत नंबर registered number या इमेल Email पर एक ओटीपी OTP भेजा जाएगा। इसे आपको रजिस्ट्रेशन के समय भरना होता है और दिए गए कैप्चा को डाल कर फाइनल सब्मिट Submit कर दें।

3. अब आपको अंतिम पंजीकरण Registration हेतू आवेदन करना होता है जब आप यह फॉर्म भर देते हैं उसके बाद आपको जो उघोग सर्टिफ़िकेट Certificate मिलेगा वही आपका एमएसएमई सर्टिफ़िकेट MSME Certificate होता है।

उधोग आधार क्या है- उधोग आधार एक 12 अंकों का अद्वितय नंबर है जो सूक्ष्म, लघु और मध्यम मंत्रालय द्वारा आवंटित किया जाता है। यह नंबर उधोग आधार रजिस्ट्रेशन के बाद मिलता है। जब आपको यह नंबर मिल जाता है तब इसके माध्यम से आप बहुत सी सरकारी स्कीम का फायदा उठा सकते हैं।

यहाँ पढ़ें : अन्य सभी full form

Benefits of MSME एमएसएमई के फायदे

1. एम एस एम ई (MSME) रजिस्ट्रेशन Registration के बाद आप आसानी से लोन ले सकते हैं वो भी कम ब्याज दर पर।

2. इसके माध्यम से आपको जी एसटी (GST) मे भी छूट मिलती है तथा बहुत से टैक्स बेनिफिट Tax benefit भी दिए जाते हैं।

3. एमएसएमई (MSME) मे रजिस्ट्रेशन के बाद आप विदेशी एक्सपो मे भी भाग ले सकते हैं और इसके लिए आपको सरकार से सब्सिडी भी मिलती है।

4. इस प्रक्रिया मे रजिस्ट्रेशन के बाद आपकी कोस्ट Coast कम हो जाती है क्योंकि बहुत सी योजनाएं निर्माता को सब्सिडी प्रदान करती हैं।

5. इस प्रक्रिया मे रजिस्ट्रेशन के बाद आप बहुत सी सरकारी स्कीम का फायदा उठा सकते हैं। क्योंकि बहुत सी स्कीम मे सरकार आपको सब्सिडी प्रदान करती है। बिना रजिस्ट्रेशन आप इनका लाभ नही उठा सकते जिनमे एमएसएमई रजिस्ट्रेशन अनिवार्य होता है।

निष्कर्ष- इस लेख मे हमने आपको एमएसएमई के बारे मे सभी जानकारी देने की कोशिश की है जैसे- एमएसएमई क्या होता है? What is the full form of MSME? एमएसएमई का फुल फॉर्म होता है (Micro, Small and Medium Enterprises) इसके साथ- साथ एमएसएमई से संबंधित जानकारी जैसे MSME क्या होता है इसका पंजीकरण कैसे करते हैं और इसके क्या फायदे होते हैं।

इन सभी सवालों के जवाब आपको इस लेख मे मिल जाएगें। अगर आपका इसके संबंध मे कोई सुझाव है तो आप हमे नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स मे कमेंट कर सकते हैं।

Written by Amit Singh

I am a technology enthusiast and write about everything technical. However, I am a SAN storage specialist with 15 years of experience in this field. I am also co-founder of Hindiswaraj and contribute actively on this blog.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

full form of SAP

Full form of SAP – एसएपी का फुल फॉर्म क्या होता है?

full form of PH

Full form of PH – पीएच का फुल फॉर्म क्या होता है?