in

What is the full form of SDO in Hindi? एसडीओ का फुल फॉर्म क्या होता है?

What is the full form of SDO in Hindi? एसडीओ का फुल फॉर्म क्या होता है? एसडीओ क्या होता है? एसडीओ का हिंदी मतलब क्या होता है? एसडीओ का पूरा नाम क्या है? SDO in Hindi? ऐसे सभी सवालों के जवाब आपको इस लेख मे मिल जाएंगे।

 What is the full form of SDO in Hindi? एसडीओ का फुल फॉर्म क्या होता है?

full form of SDOSub Divisional Officer 
full form of SDO in Hindiअनुविभागीय अधिकारी
full form of SDO

एसडीओ का पूरा नाम होता है। full form of SDO Sub Divisional Officer  और हिंदी मे (अनुविभागीय अधिकारी) होता है।  एक सब-डिविज़नल मजिस्ट्रेट (Sub-Divisional Magistrate) एक उपाधि है। जो कभी-कभी एक जिला उपखंड के प्रमुख अधिकारी को दी जाती है। एक प्रशासनिक अधिकारी जो किसी देश की सरकारी संरचना के आधार पर कभी- कभी जिले के स्तर से नीचे होता है।  

एसडीओ विद्दुत विभाग का सबसे बड़ा अधिकारी होता है। जिसका पॉवर एक एसडीएम के बराबर होता है एसडीएम आमतौर पर पीसीएस रैंकिंग का एक अधिकारी होता है।

What is an SDO officer? एसडीओ ऑफिसर क्या है?

full form of SDO

जैसा की हमने आपको बताया एसडीओ का मतलब होता है Sub Divisional Officer. हर सरकारी विभाग मे एसडीओ ऑफिसर होते हैं जैसे की पुलिस विभाग में, (Police Department) समाज कल्याण विभाग मे, (Social Welfare Department) बिजली विभाग मे (Electricity Department) ऐसे बहुत से विभाग होते हैं जहां एसडीओ ऑफिसर होते हैं।

एक एसडीओ ऑफिसर का यह काम होता है कि वह उस विभाग मे होने वाले कामों की जाँच करे और उनकी फाइलों को अच्छे से जाँचे। एसडीओ का काम होता है कि वह यह सुनिश्चित करे कि उनके विभाग के सभी सरकारी काम सही ढंग से चले।

एसडीओ ऑफिसर का काम बहुत ही ज़िम्मेदारी वाला होता है क्योंकि इनकी जाँच के बिना कोई भी काम नही हो सकता। इसलिए इन्हे बहुत ही सोच समझकर निर्णय लेना होता है। ताकि कोई कमी न रह जाए।

अगर किसी काम मे कोई त्रुटि रह जाती है तो उसकी ज़िम्मेदारी एसडीओ ऑफिसर की ही होती है। हमारे देश के सभी राज्यों मे जितने भी जिले हैं सभी मे एक एसडीओ ऑफिसर होता है जिनका मुख्य काम सरकारी काम को सुचारु रुप से चलाना होता है। एसडीओ ऑफिसर अपने- अपने राज्यों के अधीन कार्य करते हैं एसडीओ ऑफिसर की नियुक्ति और चयन भी राज्य सरकारों द्वारा ही किया जाता है।

अगर आप इस पोस्ट पर नौकरी लेना चाहते हैं तो आपको इस पद के बारे में पता होना चाहिए। ताकि आपको यह पता हो कि इस पोस्ट के अधिकारी को क्या काम करना होता है और इसकी क्या ज़िम्मेदारी होती है। उन्हे कौन- कौन सी चीज़े देखनी पड़ती हैं। क्योंकि जब हमे इन सब की जानकारी होगी तभी हम उस पद पर अच्छे से काम कर सकेंगे।

What are other full forms of SDO? एसडीओ के अन्य फुल फॉर्म क्या होता है?

full form of SDO
full form of SDO

1. SDO – Sub Division Officer
2. SDO – Sub Divisional Officer
3. SDO – Supervisor Divisional Officer

देश में कई सरकारी पद हैं। सरकारी नौकरी की इच्छा रखने वाले उम्मीदवार जानते हैं कि सभी के लिए योग्यता अलग होती है।

Sub divisional officer उपविभागीय अधिकारी

SDO का हिंदी में पूरा नाम full form of SDO सब डिविज़नल ऑफिसर (Sub Divisional Officer) होता है जिसका हिंदी अर्थ होता है। अनुविभागीय अधिकारी। एक अनु विभागीय अधिकारी सब- डिविज़न जिसे उप मंडल का मुख्य अधिकारी कहते है। सरकार के कई विभाग होते हैं जो लोगों को सेवा देने के लिए बनाये गए हैं इन सेवाओं में सबसे प्रमुख सेवाएं बिजली, पानी, सिविल इंजीनियरिंग, केंद्रीय लोक निर्माण विभाग इत्यादि आदि आते हैं।

इस पद के लिए आयोजित परीक्षा में उपस्थित होने के लिए आवश्यक न्यूनतम योग्यता डिप्लोमा इन इंजीनियरिंग (Diploma in engineering) किया हुआ होना जरूरी है यानी मैकेनिकल, सिविल और इलेक्ट्रिकल में डिप्लोमा है।

सिविल इंजीनियरिंग से जुड़े सरकारी नौकरियों में काफी संख्या में बढ़ोतरी हुई है बहुत से लोग सरकारी नौकरी करना चाहते हैं।

एसडीओ का फुल फॉर्म सब डिविजनल ऑफिसर होता है। 

उप-विभागीय अधिकारी उप-मंडल का मुख्य सिविल अधिकारी है। सरकार के विभिन्न विभागों जैसे सिविल, इंजीनियरिंग, बिजली, पानी, केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी), पदों के विभाग, एमईएस (सैन्य इंजीनियरिंग सेवा), आदि में एक को नियुक्त किया जा सकता है। 

इस परीक्षा में उपस्थित होने के लिए आवश्यक न्यूनतम योग्यता इंजीनियरिंग के प्रासंगिक अनुशासन यानी सिविल, इलेक्ट्रिकल और मैकेनिकल में डिप्लोमा (या समकक्ष योग्यता) है। सिविल इंजीनियरिंग सरकारी नौकरियों में उछाल है और सरकारी नौकरी प्राप्त करना ज्यादातर लोगों द्वारा देखा गया सपना है।

एसडीओ ऑफिसर कैसे बने

इतना तो अब आप जान ही गए हैं कि एसडीओ ऑफिसर एक सरकारी पद होता है और इसकी नियुक्ति भी सरकार के द्वारा ही की जाती है। एसडीओ ऑफिसर का चयन सिविल सर्विस परीक्षा के द्वारा किया जाता है। और यह परीक्षा राज्य सरकारों द्वारा ही आयोजित की जाती हैं।

जैसा की हमने आपको बताया एसडीओ ऑफिसर राज्य सरकारों के अधीन काम करते हैं इसलिए इनकी नियुक्ति की सभी जिम्मेदारी राज्य सरकारो के द्वारा ही होती है।

एसडीओ ऑफिसर तरक्की के द्वारा भी बना जा सकता है। इसका मतलब है कि अगर कोई कर्मचारी सिविल सर्विस के किसी विभाग मे काम कर रहा है तो उसके काम को देखते हुए उसकी प्रोमोशन से उसे एसडीओ ऑफिसर बनाया जा सकता है।

एसडीओ ऑफिसर बनने के लिए योग्यताएं

आप चाहे किसी भी पद पर काम करें उसके लिए कुछ योग्यताएं निर्धारित की जाती है। इसी प्रकार एसडीओ ऑफिसर बनने के लिए भी कुछ योग्यताएं होना आवश्यक होती हैं। ये योग्यताएं इस प्रकार हैं।

अगर आप एक एसडीओ ऑफिसर बनना चाहते हैं तो इसके लिए आपका किसी भी विषय मे मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से स्नातक यानी ग्रेजुएशन होना आवश्यक होता है।

एसडीओ ऑफिसर बनने के लिए किसी भी विषय के विधार्थी आवेदन कर सकते हैं जैसे मेडिकल, इंजीनियरिंग, कॉमर्स, आर्ट्स लेकिन उनका ग्रैजुएट होना आवश्यक होता है।

यहाँ पढ़ें : अन्य सभी full form

एसडीओ ऑफिसर बनने के लिए उम्र सीमा

एक एसडीओ ऑफिसर बनने के लिए आपकी एक उम्र सीमा निर्धारित की गई है जो भी इस पद के लिए अप्लाई करना चाहते हैं उनमे एक सामान्य वर्ग के उम्मीदवार की आयु कम से कम 21 साल और अधिक से अधिक 30 साल के बीच होना ज़रुरी है लेकिन आरक्षित वर्ग एससी/एसटी (SC / ST) के लिए इसमें छूट दी जाती है।                              

1. एससी (SC) और एसटी (ST) वर्ग के लिए निर्धारित आयु सीमा मे 5 वर्ष की छूट दी जाती है।
2. ओबीसी (OBC) वर्ग के विधार्थियों के लिए 3 वर्ष की छूट दी जाती है।

Examination for SDO Officer एसडीओ ऑफिसर के लिए परीक्षा

इस पद के लिए परीक्षा तीन चरणों मे ली जाती है पहले के दो चरणों मे लिखित परीक्षा ली जाती है और तीसरे चरण मे साक्षात्कार होता है। जो भी उम्मीदवार इन तीनो चरणों को पास कर लेते हैं उन्हे एसडीओ के पद के लिए चुना जाता है।

Preliminary examination प्रारंभिक परिक्षा

पहले चरण की परीक्षा को प्रारंभिक परीक्षा कहा जाता है। इसमे आपके 200-200 अंक के दो प्रश्न पत्र पूछे जाते हैं यह पेपर ऑवजेक्टिव (objective) टाइप पेपर होते हैं। इसमे पूछे जाने वाले विषय हैं मैथ्स, (Maths) रीजनिंग, (Reasoning) जनरल नोलेज, (General Knowledge) इंग्लिश (English) होते हैं।

Mains exam मेएंस परीक्षा

यह दूसरे चरण की परीक्षा होती है यह उन्हे ही देनी होती है जो पहले चरण को पास कर लेते हैं यह रिटन टेस्ट आधारित होता है इस परीक्षा मे हिंदी, इंग्लिश कम्यूनिकेशन (Hindi, English Communication) के प्रश्न पूछे जाते हैं।

Interview साक्षात्कार

जो भी उम्मीदवार पहले दोनों चरणों की परीक्षा को पास कर लेते हैं केवल उन्हे ही साक्षात्कार (interview) के लिए बुलाया जाता है। यह आपके आत्मविश्वास, (Self-confidence) कम्युनिकेशन स्किल्स, (Communication skills) मेंटल एबिलिटी (Mental ability) की परीक्षा पर निर्भर करते हैं। इसमे ग्रेजुएशन (graduation) पर आधारित प्रश्न भी पूछे जाते हैं तथा सामान्य ज्ञान के प्रश्न भी पूछे जाते हैं।

Salary for SDO post एसडीओ पद के लिए वेतन

एक एसडीओ ऑफिसर की सैलरी शुरुआत मे 23 से 24 हजार के आसपास होती है तथा इसके अलावा कई अन्य सुविधाएँ भी दी जाती हैं और भत्ता भी मिलता है और सभी सुविधाओं को मिलाकर एक एसडीओ को लगभग हर महीने 51 से लेकर 52 हजार तक मिलते हैं।

निष्कर्ष- दोस्तों इस लेख मे आपको एसडीओ के बारे मे जानकारी दी गई है जैसे एसडीओ क्या है, What is the full form of SDO in Hindi? Sub Divisional Officer एसडीओ कैसे बने, एसडीओ के लिए योग्यताएं, एसडीओ के लिए परीक्षा पैटर्न, एसडीओ की सैलरी। इन सभी विषयों के बारे मे विस्तार से जानकारी दी गई है ताकी आप एसडीओ की परीक्षा की अच्छे से तैयारी कर सकें अगर आपका इससे संबंधित कोई प्रश्न है तो आप हमे नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स मे कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Reference
2020, full form of SDO, wikipedia

Written by Amit Singh

I am a technology enthusiast and write about everything technical. However, I am a SAN storage specialist with 15 years of experience in this field. I am also co-founder of Hindiswaraj and contribute actively on this blog.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Full form of RRB

What is the full form of RRB in Hindi? आरआरबी क्या होता है? आरआरबी एनटीपीसी क्या है?

Full form of RPM

Full form of RPM in Hindi आरपीएम का फुल फॉर्म क्या है?