RSS Full Form in Hindi | आरएसएस का फुल फॉर्म क्या होता है | full form of RSS | RSS meaning in Hindi | RSS ka full form kya hai | आरएसएस का फुल फॉर्म क्या है

Table Of Contents
show

RSS Full Form in Hindi | आरएसएस का फुल फॉर्म क्या होता है | full form of RSS | RSS meaning in Hindi | RSS ka full form kya hai | आरएसएस का फुल फॉर्म क्या है, आरएसएस का मुख्यालय कहाँ है?, आर एस एस का उद्देश्य क्या है, आरएसएस मेंबर लिस्ट, आर एस एस का मतलब क्या होता है,


यहाँ पढ़ें : TRP Full Form in Hindi | टी. आर. पी. की फुल फॉर्म क्या है

RSS Full Form in Hindi | आरएसएस का फुल फॉर्म क्या होता है | full form of RSS | RSS meaning in Hindi | RSS ka full form kya hai | आरएसएस का फुल फॉर्म क्या है

RSS Full Form in EnglishRashtriya Swayamsevak Sangh
RSS Full Form in Hindi राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ
स्थापना27 सितम्बर 1925; 95 वर्ष पहले, विजयादशमी
संस्थापकडॉ॰ केशव बलिराम हेडगेवार
प्रकारस्वयंसेवी, निःस्वार्थ राष्ट्रभक्ति, अर्धसैनिक
वैधानिक स्थितिसक्रिय
उद्देश्यभारतीय राष्ट्रवाद
मुख्यालयनागपुर, महाराष्ट्र, भारत
सेवित क्षेत्रभारत
AffiliationsSangh Parivar
Websitewww.rss.org
RSS Full Form in Hindi

यहाँ पढ़ें : NRI full form in hindi | एनआरआई की फुल फॉर्म क्या है

RSS क्या है? RSS को बैन क्यों किया था? RSS में महिला क्यों नहीं है? राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ।

RSS Full Form in Hindi

यहाँ पढ़ें : CBI full form in hindi | सीबीआई का फुल फॉर्म क्या है

विचारधारा | Ideology

आरएसएस कहता है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की विचारधारा भारत के लिए निस्वार्थ सेवा के सिद्धांत पर आधारित है।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का इतिहास | History of Rashtriya Swayamsevak Sangh | आर एस एस का मतलब क्या होता है

आरएसएस की स्थापना 27 सितंबर 1925 को विजयादशमी पर हुई थी । इसका मुख्य उद्देश्य एक सामाजिक संगठन की स्थापना करना था जो हिंदू अनुशासन के माध्यम से चरित्र प्रशिक्षण प्रदान करता है और हिंदू समुदाय को एकजुट करता है ।

आरएसएस का पूर्ण रूप “राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ”है । आरएसएस एक भारतीय दक्षिणपंथी, हिंदू राष्ट्रवादी, धर्मार्थ, शैक्षिक, गैर-सरकारी और अर्धसैनिक स्वयंसेवी संगठन है । यह विश्व का सबसे बड़ा स्वैच्छिक गैर-सरकारी संगठन है । आरएसएस संघ परिवार (“आरएसएस का परिवार”) नामक संगठनों के एक बड़े निकाय के पूर्वज और नेता हैं, जिनकी भारतीय समाज के सभी पहलुओं में उपस्थिति है । इसका मुख्य उद्देश्य एक सामाजिक संगठन की स्थापना करना था जो हिंदू अनुशासन के माध्यम से चरित्र प्रशिक्षण प्रदान करता है और हिंदू समुदाय को एकजुट करता है ।

यहाँ पढ़ें : upsssc pet full form in hindi | पेट का फुल फॉर्म क्या होता है

संघ की स्थापना कहाँ और कब हुई ? | आरएसएस का गठन

आरएसएस का गठन 27 सितंबर 1925 को केशव बलिराम हेजवार ने किया था और इसकी विचारधारा भारत के लिए निस्वार्थ सेवा के सिद्धांत पर आधारित है । 2014 तक, इसकी सदस्यता 5-6 मिलियन है । इसका मुख्यालय नागपुर, महाराष्ट्र में स्थित है । इसे ब्रिटिश शासन के दौरान और भारत सरकार द्वारा स्वतंत्रता के बाद तीन बार प्रतिबंधित किया गया था । इसे पहली बार 1948 में प्रतिबंधित किया गया था जब आरएसएस के एक पूर्व सदस्य नाथू राम गोडसे ने महात्मा गांधी की हत्या की थी, दूसरी बार आपातकाल के दौरान (1975-77) और तीसरी बार 1992 में बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद ।

आरएसएस का दृष्टी और दर्शन | Vision And Mission

RSS Full Form in Hindi
RSS Full Form in Hindi

आज के इस युग में जिस परिस्थिति में हम रहते हैं, ऐसे एक-एक, दो-दो, इधर-उधर बिखरे, पुनीत जीवन का आदर्श रखनेवाले उत्पन्न होकर उनके द्वारा धर्म का ज्ञान, धर्म की प्रेरणा वितरित होने मात्र से काम नहीं होगा। आज के युग में तो राष्ट्र की रक्षा और पुन:स्थापना करने के लिए यह आवश्यक है कि धर्म के सभी प्रकार के सिद्धांतों को अंत:करण में सुव्यवस्थित ढंग से ग्रहण करते हुए अपना ऐहिक जीवन पुनीत बनाकर चलनेवाले, और समाज को अपनी छत्र-छाया में लेकर चलने की क्षमता रखनेवाले असंख्य लोगों का सुव्यवस्थित और सुदृढ़ संगठन।

यहाँ पढ़ें : KYC full form in hindi | केवाईसी का फुल फॉर्म क्या होता है

आरएसएस को लेकर विवाद

कभी-कभी, एक चरमपंथी संगठन और एक अर्धसैनिक समूह के रूप में इसकी आलोचना की गई है । यह भी आलोचना की गई है जब इसके सदस्यों ने मुस्लिम विरोधी हिंसा में भाग लिया तब इसे ब्रिटिश शासन के दौरान और आजादी के बाद तीन बार प्रतिबंधित किया गया था । पहली बार 1948 में आरएसएस के पूर्व सदस्य नाथू राम गोडसे ने महात्मा गांधी की हत्या की, दूसरी बार आपातकाल के दौरान (1975-77) और तीसरी बार 1992 में बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद ।

संघ का पूरा नाम क्या है ? | आरएसएस का संस्थापक कौन है?

संघ का पूरा नाम है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ। संघ के संस्थापक है डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार। डॉ. जी स्वातंत्र्य सेनानी थे। उन्होंने अपना पूरा जीवन राष्ट्र सेवा में ही समर्पित किया था। उन्होंने नागपुर में, 1925 में संघ प्रारंभ किया।

संघ केवल हिन्दुओं के संगठन की ही बात क्यों करता है? क्या वह एक धार्मिक संगठन है?

संघ में हिन्दू शब्द का प्रयोग उपासना,पंथ,मजहब या रिलिजन के नाते नहीं होता है. इसलिए संघ एक धार्मिक या रिलिजियस संगठन नहीं है. हिन्दू की एक जीवन दृष्टि है, और एक जीने का तरीका है इस अर्थ में संघ में हिंदूका प्रयोग होता है।

सर्वोच्च न्यायालय ने भी एक महत्त्वपूर्ण निर्णय में कहा है कि Hinduism is not a religion but a way of Life उदाहरणार्थ सत्य एक है. उसे बुलाने के नाम अनेक हो सकते हैं, उसे पाने के मार्ग भी अनेक हो सकते हैं, वे सभी समान है यह मानना यह भारत की जीवन दृष्टि है।

यह हिन्दू जीवन दृष्टि है, एक ही चैतन्य अनेक रूपों में अभिव्यक्त हुआ है, इसलिए सभी में एक ही चैतन्य विद्यमान है इसलिए विविधता में एकता (Unity in Diversity )यह भारत की जीवन दृष्टि है, यह हिन्दू जीवन दृष्टि है, इस जीवन दृष्टि को मानने वाला,भारत के इतिहास को अपना मानने वाला,यहाँ जो जीवन मूल्य विकसित हुए हैं,उन जीवन मूल्यों को अपने आचरण से समाज में प्रतिष्ठित करनेवाला और इन जीवन मूल्यों की रक्षा हेतु त्याग और बलिदान करनेवाले को अपना आदर्श मानने वाला हर व्यक्ति हिन्दू  है, फिर उसका मजहब या उपासना पंथ चाहे जो हो।

यहाँ पढ़ें : evs full form in hindi | evs का फुल फॉर्म क्या होता है

आरएसएस की सदस्यता की प्रक्रिया क्या है?

आरएसएस में कोई औपचारिक सदस्यता नामांकन नहीं है । कोई भी व्यक्ति निकटतम ‘शाखा’ से संपर्क कर सकता है जो आरएसएस की गतिविधि की मूलभूत इकाई है और स्वयंसेवक बन सकता है । कोई शुल्क नहीं है, कोई पंजीकरण फॉर्म नहीं है, और कोई औपचारिक आवेदन नहीं है । एक बार जब आप अपनी सुविधा के अनुसार या तो सुबह या शाम को दैनिक शाखा में भाग लेने लगते हैं, तो आप आरएसएस के स्वयंसेवक बन जाते हैं।

यदि किसी को पास के किसी भी शाखा या स्वयंसेवक का नहीं पता है, तो कोई भी ऑनलाइन आरएसएस से जुड़ सकता है । इस वेबसाइट पर फॉर्म भरकर, हम आरएसएस में शामिल होने के लिए निकटतम उपयुक्त संपर्क प्रदान करते हैं।

आरएसएस के कार्यों के लिए एक वर्दी क्यों है? एक यह कैसे मिलता है? | Why is there a uniform for RSS functions? How does one get it?

शारीरिक व्यायाम और परेड आरएसएस प्रशिक्षण का अभिन्न अंग हैं । उन्हें शारीरिक और मनोवैज्ञानिक अनुशासन विकसित करने के लिए पेश किया जाता है। जैसे, एक निश्चित वर्दी इस अनुशासन का एक अविभाज्य हिस्सा बन जाती है । शारीरिक व्यायाम विभिन्न सामाजिक, आर्थिक और शैक्षिक पृष्ठभूमि से आने वाले स्वयंसेवकों के बीच एकता और बंधुत्व की भावना विकसित करने में भी मदद करते हैं । सभी के लिए एक समान एकता की भावना को बढ़ावा देने में मदद करता है ।

इसके अलावा, विशेष वर्दी का उपयोग केवल कुछ औपचारिक परेड और कार्यों के लिए किया जाता है कोई भी उपयुक्त और सम्मानजनक पोशाक में दैनिक शाखा में भाग ले सकता है । स्थानीय आरएसएस कार्यालयों में विशेष वर्दी उपलब्ध है और स्वयंसेवकों को वर्दी खरीदनी पड़ती है । यह उन्हें मुफ्त में प्रदान नहीं किया जाता है।

भारत में आरएसएस के शाखाओं और सदस्यों की वर्तमान ताकत क्या है?

मार्च 2017 के आंकड़ों के अनुसार, 57185 दैनिक शाखाएं 36729 स्थानों (ग्रामीण और शहरी सहित) पर आयोजित की जा रही हैं, इसके अलावा 14896 स्थानों पर साप्ताहिक सभाएं और 7594 स्थानों पर मासिक बैठकें आयोजित की जा रही हैं । हालांकि, आरएसएस स्वयंसेवकों के लिए एक तरह का रिकॉर्ड नहीं रखता है, जिससे स्वयंसेवकों की सटीक संख्या की गणना करना मुश्किल काम है ।

आरएसएस के कार्य | आर एस एस का उद्देश्य क्या है

सामाजिक सेवा और सुधार

हिन्दू धर्म में सामाजिक समानता के लिये संघ ने दलितों व पिछड़े वर्गों को मन्दिर में पुजारी पद के प्रशिक्षण का पक्ष लिया है। उनके अनुसार सामाजिक वर्गीकरण ही हिन्दू मूल्यों के हनन का कारण है।

महात्मा गांधी ने १९३४ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के शिविर की यात्रा के दौरान वहाँ पूर्ण अनुशासन देखा और छुआछूत की अनुपस्थिति पायी। उन्होंने व्यक्तिगत रूप से पूछताछ की और जाना कि वहाँ लोग एक साथ रह रहे हैं तथा एक साथ भोजन कर रहे हैं।

राहत और पुनर्वास

सुनामी के उपरान्त सहायता कार्य में जुटे स्वयंसेवक

राहत और पुर्नवास संघ कि पुरानी परंपरा रही है। संघ ने १९७१ के उड़ीसा चक्रवात और १९७७ के आंध्र प्रदेश चक्रवात में रहत कार्यों में महती भूमिका निभाई है।

संघ से जुडी सेवा भारती ने जम्मू कश्मीर से आतंकवाद से परेशान ५७ अनाथ बच्चों को गोद लिया हे जिनमे ३८ मुस्लिम और १९ हिंदू है।

संघ की प्रार्थना

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे (सदा वत्सल मातृभूमि, आपके सामने शीश झुकाता हूँ।) संघ की प्रार्थना है। यह संस्कृत में है और इसकी अन्तिम पंक्ति हिन्दी में है। संघ की शाखा या अन्य कार्यक्रमों में इस प्रार्थना को अनिवार्यतः गाया जाता है और ध्वज के सम्मुख नमन किया जाता है। लड़कियों/स्त्रियों की शाखा राष्ट्र सेविका समिति और विदेशों में लगने वाली हिन्दू स्वयंसेवक संघ की प्रार्थना अलग है।

2. rss full form in hindi

Really Simple Syndication

आरएसएस सच में सरल सिंडिकेशन के लिए है, इसे रिच साइट सारांश के रूप में भी जाना जाता है । यह वेब सामग्री के सिंडिकेशन के लिए एक मानक है और एक्सएमएल आधारित प्रारूप में समाचार फ़ीड सुर्खियों, घटना सारांश और फोरम अपडेट जैसी वेब सामग्री वितरित करने के लिए उपयोग किया जाता है।

यह कैसे काम करता है

आरएसएस सिंडिकेट वेब सामग्री स्वचालित रूप से दोनों प्रकाशकों और पाठकों के लिए लाभ प्रदान करने के लिए. यह एक पाठक को अपनी पसंदीदा वेबसाइट की सदस्यता लेने और फिर से वेबसाइट पर जाने के बिना अपडेट पढ़ने की सुविधा देता है

FAQ – RSS Full Form in Hindi


आरएसएस का मुख्यालय कहाँ है?

आरएसएस का मुख्यालय महाराष्ट्र के नागपुर में है।

आरएसएस का जन्म कब हुआ?

आरएसएस का जन्म 27 September 1925 को हुआ था।

RSS कौन सी पार्टी है?

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भारत का एक , हिन्दू राष्ट्रवादी, अर्धसैनिक, स्वयंसेवक संगठन हैं, जो व्यापक रूप से भारत के सत्तारूढ़ दल भारतीय जनता पार्टी का पैतृक संगठन माना जाता हैं।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वितीय सरसंघचालक कौन थे?

माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वितीय सरसंघचालक तथा विचारक थे

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना का उद्देश्य क्या था?

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना का उद्देश्य राष्ट्रीय स्वाधीनता ही था। संघ के स्वयंसेवकों को जो प्रतिज्ञा दिलाई जाती थी उसमें राष्ट्र की स्वतंत्रता प्राप्ति के लिए तन-मन-धन पूर्वक आजन्म और प्रामाणिकता से प्रयत्नरत रहने का संकल्प होता था।

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे का अर्थ क्या है?

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे का अर्थ है – हे प्यार करने वाली मातृभूमि! मैं तुझे सदा (सदैव) नमस्कार करता हूँ।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक

डॉक्टर केशवराव बलिराम हेडगेवार उपाख्य डॉक्टर साहब (1925-1940)
माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर उपाख्य गुरूजी (1940-1973)
मधुकर दत्तात्रेय देवरस उपाख्य बालासाहेब देवरस (1973-1993)
प्रोफ़ेसर राजेंद्र सिंह उपाख्य रज्जू भैया (1993-2000)
कृपाहल्ली सीतारमैया सुदर्शन उपाख्य सुदर्शनजी (2000-2009)
डॉ॰ मोहनराव मधुकरराव भागवत (2009)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वर्तमान सरसंघचालक कौन हैं?

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वर्तमान में सरसंघचालक श्री मोहन भागवत हैं।

Other full forms of RSS

Full FormCategory
RDF Site SummarySoftware
Reactive Sulfur SpeciesChemistry
Real Slim ShadyFunnies
Really Safe SolutionTransportation
Receive-Side ScalingDrivers
Recombination Signal SequencesGenetics
Red Sound SystemsCompanies & Firms
Ready For Selfless ServiceMilitary
Real Sailor SenshiPerforming Arts
RSS Full Form in Hindi

Leave a Comment