कृकटट – जातक कथाएँ | Jatak Story In Hindi | kriktat jatak katha in hindi

सम्पूर्ण जातक कथाएँ, कृकटट – जातक कथाएँ, Jatak Story In Hindi, kriktat jatak katha in hindi


यहाँ पढ़ें : सम्पूर्ण जातक कथाएँ हिन्दी कहानियाँ

कृकटट – जातक कथाएँ | Jatak Story In Hindi | kriktat jatak katha in hindi

मिथिला के एक महाराजा की मृत्यु के पश्चात उसके दो बेटों में भयंकर युद्ध और रक्तपात हुआ। अंततः बड़ा भाई मारा गया और छोटा भाई राजा बना। बड़े भाई की पत्नी अपने पुत्र कृकटट को लेकर एक वन में किसी सन्यासी की शरण में रहने लगी।

वही उसने अपने बढ़ते पुत्र को अपने दादा और पिता के राज्य को पुनः प्राप्त करने के लिए उत्प्रेरित किया।

kriktat jatak katha
kriktat jatak katha

16 वर्ष की अवस्था में कृकटट ने पैतृक राज्य प्राप्त करने के लिए धन और सेना इकट्ठा करने की ठानी। अतः उसने सुवर्ण भूमि को प्रस्थान किया किंतु रास्ते में उसका जहाज डूब गया। 7 दिनों तक समुद्र में तैरते हुए उसने किसी तरह अपनी जान बचाई।

आठवें दिन एक देव दूती ने उसे देखा और उसकी हिम्मत की सराहना करती हुई, उसे एक फूल की तरह उठा मिथिला की एक आम्र वाटिका में सुरक्षित लिटा दिया। उसी दिन मिथिला के राजा की मृत्यु हो गई जो और कोई नहीं कृकटट का चाचा ही था।

यहाँ पढ़ें : मुंशी प्रेमचंद सम्पूर्ण हिन्दी कहानियाँ
पंचतंत्र की 101 कहानियां – विष्णु शर्मा
विक्रम बेताल की संपूर्ण 25 कहानियां
40 अकबर बीरबल की कहानियाँ

जब लोग राजपुरोहित के साथ ढोल बजाते हुए एक नए राजा की खोज में जा रहे थे तो उनकी दृष्टि आम्र वाटिका में सोते कृकटट पर पड़ी। मिथला पुरोहित ने किशोर कृकटट के शरीर पर राजा योग्य कई लक्षण देखे। अतः उसने उसे जगा कर महल में आमंत्रित किया।

महाराज कुमारी सिवली ने उससे कुछ पहेलियां पूछो जिनका जवाब कुमार ने बड़ी बुद्धिमानी से दिया। फिर दोनों की शादी करा दी गई और कृकटट मिथिला का नया राजा बना दिया गया। इस प्रकार कृकटट ने अपने दादा और पिता का राज्य पुन: प्राप्त कर लिया। सिवली से उसे एक पुत्र की भी प्राप्ति हुई।

कालांतर में कृकटट सन्यास को उन्मुक्त हुआ और सिवली की प्रत्येक चेष्टा के बाद भी ग्रस्त जीवन का परित्याग पर सन्यासी बन गया।

संबंधित : जातक कथाएँ हिन्दी कहानियाँ

सही राह
सहिष्णुता का व्रत
मुश्किलों का हल
सियार बना न्यायाधीश
न्याय

Leave a Comment