रविवार की कहानी | रविवार (इतवार) व्रत कथा | sunday vrat katha in hindi

सूर्य भगवान की व्रत की कथा, रविवार को नमक क्यों नहीं खाना चाहिए, सूर्य देव की कथा आरती, रविवार व्रत की विधि, सूर्य नारायण की कथा, रविवार सूर्य भगवान की आरती, विवार के कितने व्रत करने चाहिए, रविवार व्रत करने के फायदे


रविवार की कहानी | रविवार (इतवार) व्रत कथा | sunday vrat katha in hindi

एक बूढ़ी औरत थी जो सूर्य देवता की पूजा करती थी। हर सुबह मैं अपना घर साफ करती और गाय के गोबर से लिपटी। इसके बाद ही वह खाना बनाती है और खाती थी पूर्णविराम वह अपने पड़ोसी के घर से गोबर इकट्ठा करती थी। पड़ोसी की पत्नी को यह पसंद नहीं था। एक दिन उसने अपनी गाय घर के अंदर बांध दी। अगले दिन बूढ़ी औरत को गोबर नहीं मिला और वह अपना घर नहीं लिप पाई। उसका घर साफ नहीं हो सका था, इसलिए उसने उस दिन भोजन नहीं किया।

उस रात सूर्य देवता उसके सपनों में आए। उन्होंने उसे एक गाय देने का वचन दिया। अगले दिन उसने अपने घर में एक गाय और बछड़े को पाया। पड़ोसी की पत्नी नहीं है देखा तो वह जल भुन गई। उसने यह भी देखा कि बुढ़िया की गाय तो सोने का गोबर करती है। उसके मन में लालच आ गया और उसने सोने का गोबर उठाकर उसकी जगह साधारण गोबर रख दिया। सूर्य देवता ने यह देख लिया। उन्होंने उस रात नगर में तूफान ला दिया।

sunday vrat katha in hindi
sunday vrat katha in hindi

बूढ़ी औरत ने गाय को अपने घर के अंदर बांध लिया जिससे सोने का गोबर उसे ही मिल गया। पड़ोसी की पत्नी ने सोने का गोबर देने वाली गाय की बात जाकर राजा को बता दी। राजा ने वह जादुई गाय ले ली और अपने महल पर सोने के गोबर काले करा दिया। रात में सूर्य देवता राजा के सपने में आए और बोले कि वह गाय उन्होंने बूढ़ी औरत को भेज की है। जब राजा जागा तो उसने पाया कि उसके महल से दुर्गंध आ रही है।

यहाँ पढ़ें : राजा रन्तिदेव की कथा
वीर ध्रुव की कहानी
शिवी राणा का महान बलिदान की कहानी
ब्रह्मा जी की कहानी
शकुंतला और दुष्यंत की प्रेम कथा

उसने देखा तो महल की दीवारों पर किया गया सोने के गोबर का लेप साधारण गोबर के लेप में बदल चुका था। उसे अपने कृत्य पर दुख हुआ और उसने बूढ़ी औरत को वह गाय लौटा दी। उसने पड़ोसी की चालाक पत्नी को दंड भी दिया। उसने यह घोषणा भी करा दी की उसके राज्य में हर कोई रविवार के दिन सूर्य की पूजा करेगा और उपवास रखेगा।

Ravivar Vrat Katha || रविवार व्रत कथा || सूर्य देव व्रत || Sunday Fast Story || Bhakti Bhajan Kirtan

sunday vrat katha in hindi

reference
sunday vrat katha in hindi

Leave a Comment