USB 2.0 और USB 3.0 में अंतर (USB 2.0 vs 3.0)

usb 1.1 compatible flash drive, usb 1 and 2, usb 2.0 vs 3.0, charging, usb 3 to usb 2, where is usb 2.0 port on my computer, difference between usb-a and usb 3, what is a usb 1.1, portusb 3.0 port for laptop


जब भी हमें अपने अपने मोबाइल से कंप्यूटर में, या कंप्यूटर से मोबाइल में डेटा ट्रांसफर करना होता है तो बस USB लगाते है और काम चालू हो जाता है। पर कभी ऐसा हुआ है कि आपको ऐसा प्रतीत हो कि ट्रांसफर की स्पीड काफ़ी कम है। यह कुछ लोगो के लिए परेशानी की बात हो सकती है। आखिरकार धीमी गति ज्यादा टाइम लेता है।

ऐसी स्थिति का एक मात्र कारण USB टाइप हो सकता है। इस लेख में हम दो मुख्य प्रकार ले USB टाइप ले बारे में बात करेंगे और आपको पूरी जानकारी देने का प्रयत्न करेंगे।

# सम्बंधित :

स्कैनर क्या है?
प्रिंटर क्या हैं?
Projector (प्रोजेक्टर) क्या है?
कंप्यूटर माउस के प्रकार और उनके प्रयोग
कंप्यूटर मॉनिटर और उनके प्रकार

USB 2.0 और USB 3.0 में अंतर (USB 2.0 vs 3.0)

USB क्या है?

सबसे पहले हम यह जानने को कोशिश करेंगे कि आखिर USB होता क्या है? फिर हम उसके दो जनरेशन के बीच के अंतरों की खोज करेंगे। USB का फुल फॉर्म यूनिवर्सल सीरियल बस है। यह वह मानक है जिसका उपयोग बाह्य उपकरणों, जैसे फ्लैश ड्राइव, कीबोर्ड, माउस, कैमरा, फोन चार्जर आदि को कंप्यूटर और एडेप्टर से जोड़ने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग उपकरणों के बीच डेटा स्थानांतरित करने के लिए भी किया जाता है, जैसे फ्लैश ड्राइव या बाहरी हार्ड ड्राइव और कंप्यूटर के बीच किया जाता है।

USB के प्रकार

USB के प्रकार
USB के प्रकार

USB 1.x:

यह एक बाहरी यूनिवर्सल सीरियल बस (USB) मानक है जो 12 मेगाबिट प्रति सेकंड की गति से डेटा ट्रांसफर करने में सक्षम है। इसके साथ ही यह 127 परिधीय उपकरणों का समर्थन कर सकता है।

USB 2.0:

इसे हाई-स्पीड USB के रूप में भी जाना जाता है। इसे 2000 में पेश किया गया था। यह USB 1.1 का एडवांस्ड संस्करण है, जो बेहतर कार्यक्षमता और बेहतर गति प्रदान करता है। यह प्रति सेकंड 480 मेगाबिट्स की अधिकतम ट्रांसफर गति देने में सक्षम है। हालांकि, व्यावहारिक रूप से यह लगभग 280 एमबीपीएस है।

USB 3.0:

इसे सुपरस्पीड USB के रूप में भी जाना जाता है। इसे पहली बार नवंबर 2009 में उपलब्ध कराया गया था। यह USB 2.0 का एक बेहतर संस्करण है। यह 5 गीगाबिट प्रति सेकेंड (5Gb/sec) की डेटा ट्रांसफर स्पीड प्रदान करता है, जो USB 2.0 द्वारा प्रदान की गई गति से काफी तेज है।

USB 3.1:

इसे सुपरस्पीड+ के नाम से भी जाना जाता है। इसे 2013 में पेश किया गया था। USB 3.1 USB प्रोटोकॉल का नवीनतम संस्करण है। यह USB 3.0 की तुलना में लगभग दो गुना तेज है और प्रति सेकंड 10 गीगाबिट तक की दर से डेटा ट्रांसफर कर सकता है।

USB 2.0 और USB 3.0 का परिचय

USB 2.0 और USB 3.0 दोनों पहली USB तकनीकों, USB 1.0 और 1.1 पर बनाए गए हैं। इन्हे क्रमशः 1996 और 1998 में जारी किए गए थे। अप्रत्याशित रूप से, 1.0 मानक सभी विकल्पों में सबसे बुनियादी और सबसे धीमा है, जिसकी अधिकतम गति 1.5 मेगाबिट प्रति सेकंड (एमबीपीएस) है। अगली पीढ़ी, USB 1.1, लगभग 12 एमबीपीएस की गति से ट्रांसफर कर सकती है, जिसे आज की तुलना में अपेक्षाकृत धीमी गति से माना जाता है।

सन् 2000 में USB 2.0 का अनावरण किया गया था, जो 480 एमबीपीएस पर 40 गुना तेज डेटा ट्रांसफर गति प्रदान करता है। इसकी तुलना में तीसरी पीढ़ी USB 3.0 भी आया, जो 4,800 एमबीपीएस पर 10 गुना तेज गति से ट्रांसफर कर सकता है।

USB की एक और पीढ़ी है – USB 4 – जिसकी घोषणा 2019 के अगस्त में की गई थी, लेकिन यह तकनीक अभी भी व्यापक रूप से उपलब्ध नहीं है। जरा सोचिए अगर भविष्य में वो दुनिया के सामने पेश किया जाएगा तो उसकी गति कितनी होगी।

हम और आप बिल्कुल नहीं जानते हैं कि USB तकनीक के भविष्य में आगे और क्या क्या आएगा, तो आइए इस समय दो सबसे अच्छे विकल्पों के बारे में बात करते हैं – USB 2.0 और USB 3.0। भले ही आप बल्क फ्लैश ड्राइव के लिए खरीदारी कर रहे हों या यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हों कि सर्वोत्तम तकनीकी विकल्पों के साथ अपने जीवन को कैसे सरल बनाया जाए, दोनों USB पीढ़ी उत्कृष्ट विकल्प हैं।

USB ड्राइव का इतिहास

USB ड्राइव का इतिहास
USB ड्राइव का इतिहास

डेवलपर्स द्वारा USB का आविष्कार करने से पहले, कंप्यूटर ने डेटा ट्रांसफर करने के लिए पहले से ही समानांतर और सीरियल पोर्ट का उपयोग किया था। प्रिंटर, जॉयस्टिक, माउस और कीबोर्ड सभी अलग-अलग पोर्ट का उपयोग करते हैं।

उसके अलावा, किसी डिवाइस को कंप्यूटर से कनेक्ट करने के लिए कस्टम ड्राइवर और एक विस्तार कार्ड की आवश्यकता होती थी। अन्य प्रकार के पोर्ट भी एक साथ नहीं चल सकते थे।

जब डेवलपर्स ने USB पोर्ट को विकसित किया, तो उन्होंने कंपेटेबिलिटी प्रदान करते हुए 127 उपकरणों को संभालने के लिए पोर्ट को डिज़ाइन किया। मतलब यह कुल 127 उपकरणों के साथ कनेक्ट किया जा सकता था।

डेवलपर्स ने 90 के दशक में कम्युनिकेशन प्रोटोकॉल को परिभाषित करने के लिए USB बनाया, जिसमें विभिन्न इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों (स्कैनर, प्रिंटर और अन्य) और कंप्यूटर के बीच कनेक्टर और केबल शामिल हैं। ये जल्द ही इलेक्ट्रॉनिक्स और गैजेट्स को कंप्यूटर से जोड़ने के लिए मानक बन गए।

स्मार्टफोन, टैबलेट और वीडियो गेम कंसोल जैसे गैजेट USB पोर्ट के माध्यम से कंप्यूटर से जुड़ने में सक्षम हैं, जो संचार और चार्जिंग की अनुमति देता है।

नवंबर 2000 में, डेवलपर्स ने USB 2.0 जारी करने के 9 साल बाद, 2009 डेवलपर्स ने USB 3.0 जारी किया। 2013 में, उन्होंने USB 3.1 जारी किया।

USB 2.0 और 3.0 में अंतर

USB 2.0 और USB 3.0 में अंतर (USB 2.0 vs 3.0)

अगर USB 2.0 और 3.0 को गति के संदर्भ में देखा जाए तो USB 3.0 किसी भी USB 2.0 की तुलना में बेहतर गति और उच्च दक्षता वाला पावर प्रबंधन प्रदान करता है। इसके अलावा, USB 3.0 पोर्ट बैकवर्ड कंपेटिबल हैं। लेकिन, जब एक USB 3.0 डिवाइस USB 2.0 पोर्ट से जुड़ा होता है, तो डेटा ट्रांसफर गति USB 2.0 स्तरों तक सीमित होगी।

  1. दिखने में भिन्न

सबसे पहले आपको दोनों तरह के USB को पहचानने के बारे में जानना होगा। दोनों में अंतर स्पष्ट करना बहुत मुश्किल नहीं है।

● USB 2.0 में USB पोर्ट के अंदर एक काला “ब्लॉक” है।
● USB 3.0 में USB पोर्ट के अंदर एक नीला “ब्लॉक” होता है।
● हाल ही पेश किया गया USB 3.1 पोर्ट का रंग भी इस मायने में भिन्न है। USB 3.1 पोर्ट के अंदर “ब्लॉक” लाल रंग का होता है।

  1. डाटा ट्रांसफर रेट

दोनों प्रकार के USB में डाटा स्थानांतरित करने की दर में भी भिन्नता देखा जा सकता है। USB 2.0 ट्रांसफर स्पीड 480 मेगाबिट्स प्रति सेकेंड (एमबीपीएस) है, जबकि USB 3.0 ट्रांसफर स्पीड 4,800 एमबीपीएस है। इसका मतलब है कि USB 3.0 USB, 2.0 की तुलना में लगभग 10 गुना तेज है। अभी हाल ही में, USB 3.1 भी जारी किया गया है और इसकी डेटा अंतरण दर 10,000 एमबीपीएस है। यह USB 3.0 से दोगुना और USB 2.0 से बीस गुना तेज है।

  1. बैकवर्ड कंपेटेबिलिटी

USB 3.0 पोर्ट पूरी तरह से बैकवर्ड कंपेटिबल हैं। इसका मतलब है कि जब USB 2.0 ड्राइव या पुराने संस्करण को USB 3.0 पोर्ट से जोड़ा जाता हैं, तो ड्राइव सामान्य रूप से काम करेगा। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि USB 3.0 ड्राइव USB 2.0 पोर्ट के साथ भी कंपेटिबल होता है। लेकिन, USB 3.0 ड्राइव USB 2.0 पोर्ट से कनेक्ट होने पर USB 2.0 ड्राइव के समान स्थानांतरण दर (ट्रान्सफर रेट) प्रदर्शित करेगा। दूसरे शब्दों में, उच्च डेटा स्थानांतरण प्राप्त करने में सक्षम होने के लिए USB 3.0 ड्राइव को USB 3.0 पोर्ट से जोड़ा जाना चाहिए।

  1. पॉवर की खपत

USB 2.0 लगभग 500mA तक का करंट देने में सक्षम है, जबकि USB 3.0 900 mA तक का करंट देने में सक्षम है। इसके अलावा, USB 3.0 जरूरत पड़ने पर अधिक USB पावर देने में सक्षम है। इसके साथ ही USB फ्लैश ड्राइव कनेक्ट होने पर बिजली का संरक्षण करता है अगर इसका उपयोग नहीं किया जा रहा है।

  1. बड़ी बैंडविड्थ

USB 2.0 एकतरफा कम्युनिकेशन पथ प्रदान करता है। इसका मतलब है कि डेटा एक ही रास्ते पर भेजा और प्राप्त किया जाता है। USB 2.0 एक निश्चित समय पर केवल डेटा भेज सकता है या डेटा प्राप्त कर सकता है लेकिन दोनों नहीं कर सकता। USB 3.0 दो अलग-अलग यूनिडायरेक्शनल (unidirectional path) डेटा पथों का उपयोग करता है। इसमें एक साथ दो कार्य होते क्रमशः एक डेटा भेजना और दूसरा डेटा प्राप्त होता है। इसका मतलब है कि USB 3.0 एक साथ डेटा भेज और प्राप्त कर सकता है।

  1. तारों की बड़ी संख्या

USB 2.0 में कुल चार कनेक्टर तार होते हैं, जबकि USB 3.0 में कुल 9 होते हैं। यह इन पांच अतिरिक्त तारों की उपस्थिति है जो एक साथ दो-तरफ़ा संचार की अनुमति देकर USB 3.0 की बैंडविड्थ को बढ़ाता है। इसलिए अगर USB 2.0 और 3.0 के बेहतर प्रदर्शन की बात हो USB 3.0 लोकप्रियता में मामले में काफी आगे है।

  1. कीमत

कीमत के मामले में, USB 2.0 और 3.0 काफी अलग है। आप बाज़ार में एक किफायती USB 2.0 खरीद सकते हैं, जैसे कि 8-गीगाबाइट (GB) USB 2.0 फ्लैश ड्राइव बहुत कम दाम में मिलता है। वहीं दूसरी तरफ USB 3.0 आपको अधिक महंगा पड़ता है। कारण सिर्फ एक है, वो है USB 3.0 तेज़ स्थानांतरण गति प्रदान करते हैं। यह आप पर निर्भर करता है कि आप किस तरह से इसका उपयोग करने वाले हैं।

यदि आप इसका बार-बार उपयोग करने वाले हैं और बड़ी फ़ाइलों को स्थानांतरित करते हैं, तो USB 3.0 आपके लिए एक बेहतर विकल्प हो सकता है क्योंकि इसकी बेहतर गति स्थानांतरण समय को कम कर सकती है।

  1. केबल

दोनो USB मानकों के अलग-अलग वायरिंग कॉन्फ़िगरेशन होता है। जब केबल की बात आती है, तो USB 3.0 में USB 2.0 की तुलना में तेज ट्रांसफर रेट (4.8 जीबीपीएस) और पावर ट्रांसफर (900 mA) होता है। इसके केबल में तारों की संख्या चार के बजाय आठ होता है। इसी के कारण USB 2.0 की तुलना में इसमें पावर ट्रांसफर बहुत बेहतर हो जाता है। USB 3.0 में विभिन्न कनेक्टर भी होते हैं, जिसका अर्थ यह भी है कि विभिन्न कनेक्टरों का उपयोग करने वाले USB डिवाइस USB 2.0 वाले केबल्स के साथ कंपेटिबल नहीं हो सकते हैं। हालांकि USB 2.0 कनेक्टर 3.0 के पोर्ट में फिट हो सकते हैं।

जबकि USB 3.0 केबल का उपयोग अभी भी USB 2.0 पोर्ट के लिए किया जा सकता है। बशर्ते यह धीमी USB 2.0 गति पर चलेगा। सर्वोत्तम परिणामों के लिए और USB प्रकार द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं को अधिकतम करने के लिए, पोर्ट के साथ USB केबल का मिलान करना सबसे अच्छा है।

USB Type-C कनेक्टर को समझें

USB Type-C कनेक्टर को समझें
USB Type-C

सबसे पहले तो हमें इस भ्रम को दूर करना होगा कि USB Type-C कनेक्टर सिर्फ एक कनेक्टर है, USB मानक नहीं। कनेक्टर USB मानक के पावर ट्रांसफर और गति को निर्धारित नहीं करता है।

केबल के दोनों सिरों पर लगे उपकरण शक्ति और गति क्षमता निर्धारित करते हैं। USB मानक और कनेक्टर खरीदने में समस्या यह है कि अधिकांश लोग USB 3.1 को USB Type-C के साथ भ्रमित करते हैं। यदि आप दोनों सिरों पर टाइप-सी कनेक्टर के साथ केबल खरीदते हैं, तो यह Gen 2 की विशेषताओं का समर्थन कर करता है।

USB Type-C कनेक्टर्स के पुराने संस्करणों से आगे निकल जाता है, जो एक यूनिवर्सल कनेक्टर बनाने में मदद करता है और यहमिनी और मैक्रो वर्जन को पीछे छोड़ देता है। आप इस कनेक्टर के साथ 20V पर 5,000 mA तक की स्थानांतरण शक्ति के साथ एक मजबूत कनेक्शन सुनिश्चित कर सकते हैं।
समापन

अगर आपको लगता है कि यह लेख कुछ ज्यादा टेक्निकल हो गया है तो मैं आपको बेहद आसान शब्दों में बताता हूं। आप USB के पीढ़ी में जितना ऊपर बढ़ेंगे उतना ही स्थाई, और तेज डेटा ट्रांसफर की स्पीड प्राप्त होगी। तो अगर आप ज्यादा डेटा ट्रांसफर करते हैं तो USB 3.0 चुनिए और कम डेटा ट्रांसफर करते हैं तो USB 2.0 भी आपका काम कर देगा। वैसे आप कौन सा USB टाइप उपयोग कर रहे हैं।

USB 2.0 vs USB 3.0 vs USB 3.1 vs USB 3.2 EXPLAINED ⚡ Data Transfer Speed & Power Speed – Video

#सम्बंधित :

GPU क्या है और यह इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की कैसे मदद करता है?
HDD vs SSD
रैम क्या है ?
Pcie meaning in Hindi
नेटवर्क सर्वर क्या है

Leave a Comment