in

Taj Mahal – One amongst the Seven wonders ताज महल – विश्व के सात अजूबों में से एक

ताज महल, दुनिया के सात अजूबों में से एक हैं। ये सफ़ेद संगेमरमर से बनीं हुई, एक समाधि है, जो आगरा में यमुना नदी के दक्षिणी तट पर स्थापित है। ताज महल को साल 1983 में यूनेस्को द्वारा विश्व विरासत स्थल घोषित किया। इसे मुग़ल वास्तु कला का सबसे नायाब नमूना हैं। ताज महल में हर साल लाखों लोग आते हैं। इसकी खूबसूरती से प्रभावित होकर साल 2007 में इसे दुनिया के सात अजूबों में से एक चुना गया। 

Inspiration behind Taj Mahal – ताज महल बनाने के पीछे का प्रेरणा

सन् 1631 में, मुमताज़ महल की मृत्यु के बाद, शाहजहाँ ने ताज महल बनाने का फैसला किया। मुमताज़ ने शाहजहां के 14 वें बच्चे को जन्म देते वक़्त अपने प्राण त्याग दिए। ताज महल का निर्माण सन् 1632 में शुरू हुआ। शाहजहाँ ने मुमताज़ महल की याद में मक़बरा बनाने का निर्णय लिया। 

Architecture and Design of Taj Mahal – ताजमहल की वास्तु कला और डिज़ाइन

ताज महल को बनाने की शुरुवात पर्शियन ढंग से हुई थी। ताज महल बनाने की विशेष प्रेरणा तिमूरिद और अन्य मुग़ल इमारतों से ली गयीं। इन इमारतों में मुख्य इमारतें हैं जैसे की गुर – ए – आमिर ( तैमूर का मक़बरा ) , हुमायूँ का मक़बरा, दिल्ली का जामा मस्जिद आदि। जब पहले की सारी इमारतें लाल रेत के पत्थर से बनते हुए आयी थीं , शाहजहां ने ताज महल, संगेमरमर से बनाने का फैसला किया। 

गुंबद या टॉम्ब, ताज महल की पूरी इमारत के बीच हिस्सा है। पूरा ढांचा एक चौकोर चबूतरे पर बनाया हुआ है और इस इमारत का दरवाजा,बड़े आर्क जैसा है  जिसे हम इवान कहते हैं, जिसके ऊपर एक पूरा गुंबद रखा हुआ है।अन्य मुग़ल ईमारतों की तरह इसपर भी पर्शियन वास्तु कला की छाप है। ताज महल की आधार संरचना, एक बड़े क्यूब के समान  चारों तरफ बड़ी और लम्बी दीवारें हैं। ताज महल की सबसे अच्छी खासियत, उसका संगेमरमर से बना गुंबद है।इसके आकार के कारण इसे, ओनियन गुंबद या अमरूद गुंबद भी कहते हैं।

गुम्बद के ऊपर का हिस्सा, कमल की तरह बना है। उसके चारों तरफ भी कमल के आकार की छतरियाँ भी हैं जो शायद इसी गुंबद से प्रभावित होकर बनाई गयीं हैं। गुंबद और छतरी पर सोने का पानी चढ़ा हुआ है, जो पारंपरिक पर्शियन और हिंदुस्तानी सजावटी तत्वों को मिलाता हैं।

मीनारें, जो चारों कोनों में स्थापित है, उनकी लम्बाई 40 मीटर से ज्यादा लंबी हैं और ये बनाने वाले की सिमिट्री के प्रति लगन ज़ाहिर होती है।इन मीनारों को वर्किंग मीनारों  के रूप में डिजाइन किया गया है  – मस्जिदों का एक पारंपरिक तत्व, जिसका इस्तेमाल मुज़्ज़िन द्वारा इस्लामिक धर्मगुरुओं को प्रार्थना के लिए किया जाता है । प्रत्येक मीनार को प्रभावी रूप से तीन समान भागों  का विभाजन दो कार्यकारी बालकनियों से होता है जो टॉवर को घेरती है। टॉवर के शीर्ष पर एक अंतिम बालकनी है  जिसके ऊपर  एक छतरी बनाई गई है जो मकबरे के डिजाइन को दर्शाती है। सभी छतरियां कमल के डिजाइन जैसी हैं  जिसपर   सजावट के लिए  सोने का पानी चढ़ा हुआ हैं। मीनारें मुख्य इमारत के थोड़ा बाहर बनाई गई हैं  ताकि गिरने की स्थिति में, टावर कब्र से दूर गिरें । 

ताज महल के बाहर की कारीगरी सभी मुग़ल इमारतों से ज्यादा सुन्दर और शालीन बनाता है। बाहरी सजावट तत्वों को पेंट, प्लास्टर, जड़े हुए पत्थर और  नक्काशियों को लागू करके बनाया गया है। ताज महल के बाहर की गयी कैलीग्राफी से लिया गया है, कैलीग्राफी, साल 1609 में अब्दुल हक नामक एक कैलिग्राफर द्वारा बनाया गया था। शाहजहाँ ने उस पर “अमानत खान” की उपाधि से सम्मानित किया, जो उसके “चमकदार गुण” के लिए एक पुरस्कार के रूप में था। मकबरे में संगमरमर की स्मारकों  पर पाई जाने वाली सुलेख विशेष रूप से विस्तृत और नाजुक है।

ताजमहल का आंतरिक कक्ष ऑक्टागोनल हैं,  और पारंपरिक सजावट तत्वों से कहीं आगे है। ये काम पिएट्रा ड्यूरा नहीं है, बल्कि इसकी सजावट कई कीमती और अर्ध-प्रतिष्ठित रत्न शामिल हैं। आंतरिक कक्ष में हर शक़्स को प्रवेश की अनुमति है, हालांकि केवल दक्षिण की ओर बगीचे के सामने वाले दरवाजे का उपयोग किया जाता है। 

Construction of Taj Mahal – ताज महल का निर्माण

ताजमहल, आगरा के शहर के दक्षिण में बना है। शाहजहाँ ने महाराजा जय सिंह को जमीन के बदले आगरा के केंद्र में एक बड़ा महल भेंट किया। मकबरे का निर्माण अनिवार्य रूप से 1643 में पूरा हुआ, लेकिन परियोजना के अन्य चरणों में अगले 10 वर्षों तक काम जारी रहा। माना जाता है कि ताजमहल का परिसर 1653 में लगभग 32 मिलियन रुपये की लागत से पूर्ण रूप से बनकर तैयार हुआ था, जो 2020 में लगभग 70 बिलियन रुपये का होगा। निर्माण परियोजना ने , उस्ताद लाहौरी के नेतृत्व में आर्किटेक्ट बोर्ड के मार्गदर्शन में कुछ 20,000 कारीगरों को नियुक्त किया

ताजमहल का निर्माण में पूरे भारत और एशिया की सामग्रियों का उपयोग किया गया था। यह माना जाता है कि 1,000 से अधिक हाथियों का उपयोग निर्माण सामग्री को लाने- ले जाने के लिए किया गया था। इसने ताजमहल को आकार देने के लिए 22,000 मजदूरों, चित्रकारों, कढ़ाई कलाकारों और पत्थरबाजों के प्रयासों को लिया। 

दिग्गजों के अनुसार, शाहजहाँ ने यह फैसला किया कि कोई भी इन विशेष ईंटों को ले जा सकता था,  इसीलिए किसानों की खेती को रातों रात नष्ट कर दिया गया। नदी से पानी को लाने के लिए , जानवरों द्वारा संचालित रस्सी और बाल्टी तंत्र की एक श्रृंखला में एक बड़े टैंक में खींचा गया और एक बड़े वितरण टैंक को  उठाया गया। इसे तीन सहायक टैंकों में पारित किया गया था, जहां से इसे कॉम्प्लेक्स तक पहुंचाया गया था।

After making of Taj Mahal – ताज महल बनने के बाद

ताजमहल (Taj Mahal) के पूरा होने के तुरंत बाद, शाहजहाँ को उसके बेटे औरंगज़ेब ने कैद कर दिया और पास के आगरा किले में नजरबंद कर दिया। शाहजहाँ की मृत्यु के बाद, औरंगजेब ने उन्हें, उनकी पत्नी मुमताज़ महल के बगल के मकबरे में दफनाया गया। 18 वीं शताब्दी में, भरतपुर के जाट शासकों ने आगरा पर आक्रमण किया और ताजमहल पर हमला किया, दो झूमर, एक अंगीठी और अन्य चांदी, जो मुख्य स्मारक पर लगाए गए थे, उन्हें भी सोने और चांदी के साथ ले जाया गया । मुगल इतिहासकार कानबो ने कहा कि मुख्य गुंबद के शीर्ष पर 4.6 मीटर ऊंचे (15 फीट) कलश को ढकने वाली सोने की ढाल को भी जाट हमले के दौरान जाट ले गए थे  ।

सबसे बड़ी मिथ्या ये भी हैं कि ये माना जाता है की ताज महल को बनाने के बाद शाहजहाँ ने सारे कारीगरों के हाथ काट दिए गए थे। हाँलाकि कई इतिहासकार इस बात को मानने से इंकार करते हैं। लेकिन कई किताबों में अभी भी यही लिखा हुआ है। लंबे समय से मिथक भी है कि शाहजहाँ ने यमुना नदी के पार काले ताजमहल के रूप में काले संगमरमर से निर्मित एक मकबरे की योजना बनाई थी। इस बात में  कितनी सच्चाई है, ये कहना मुश्किल है। 

साल 2017 तक, ताज महल के हिंदू मंदिर होने के बारे में कई अदालती मामले पी. एन. ओक के सिद्धांत से प्रेरित हैं। साल 2017 में, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने कहा कि स्मारक की जगह मंदिर होने के कोई सबूत नहीं हैं । 2017 में भारतीय जनता पार्टी के विनय कटियार ने दावा किया कि 17 वीं शताब्दी का स्मारक मुगल सम्राट शाहजहाँ द्वारा “तेजो महालय” नामक एक हिंदू मंदिर को नष्ट करने के बाद बनाया गया था और इसमें एक शिवलिंग था। यह दावा 2014 में एक अन्य भाजपा सदस्य लक्ष्मीकांत बाजपेयी ने भी किया था। भाजपा सरकार के केंद्रीय संस्कृति मंत्री महेश शर्मा ने नवंबर 2015 में संसद के एक सत्र के दौरान कहा था कि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि यहाँ एक मंदिर था। ताजमहल के शिव मंदिर होने के बारे में सिद्धांत तब शुरू हुए जब ओक ने अपनी 1989 की पुस्तक “ताज महल: द ट्रू स्टोरी” का विमोचन किया।

Reference 

Written by Utkarsh Chaturvedi

नमस्कार, मेरा नाम उत्कर्ष चतुर्वेदी है। मैं एक कहानीकार और हिंदी कंटेंट राइटर हूँ। मैं स्वतंत्र फिल्म निर्माता के रूप में भी काम कर रहा हूँ। मेरी शुरुवाती शिक्षा उत्तर प्रदेश के आगरा में हुई है और उसके बाद मैं दिल्ली आ गया। यहां से मैं अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई कर रहा हूँ और साथ ही में कंटेंट राइटर के तौर पर काम भी कर रहा हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Major Tourist places in Udaipur- उदयपुर में घूमने वाली प्रमुख पर्यटन स्थल

Major Tourist places in Udaipur- उदयपुर में घूमने वाली प्रमुख पर्यटन स्थल

Architecture of Qutub Minar - क़ुतुब मीनार की वास्तु कला

Qutb Minar- क़ुतुब मीनार