सत्यवान और सावित्री की कहानी | satyawan sawitri ki kahani | Savitri and Satyavan story in hindi | सावित्री एवं सत्यवान | vat savitri vrat katha

सावित्री की परिभाषा, सावित्री किसकी पुत्री थी, सत्यवान सावित्री की फिल्म, सत्यवान सावित्री की नौटंकी, सत्यवान सावित्री भाग 2, सत्यवान की कहानी, सावित्री कौन थी उनका विवाह किससे हुआ, थासत्यवान सावित्री कौन है?, सावित्री ने किसका वर्णन किया और क्यों?, सत्यवान की पत्नी का नाम क्या था?, यमराज ने सत्यवान के प्राण क्यों छोड़ दिए?


सत्यवान और सावित्री की कहानी | satyawan sawitri ki kahani | Savitri and Satyavan story in hindi | सावित्री एवं सत्यवान | vat savitri vrat katha

राजकुमारी सावित्री को सत्यवान नाम के एक निर्धन युवक से प्रेम हो गया। नारद मुनि ने उसे समझाया कि वह सत्यवान से विवाह ना करें क्योंकि उसकी मौत जल्दी होना तय है। सावित्री ने नारद की बात नहीं मानी और सत्यवान से विवाह कर लिया।

जल्द ही सत्यवान की मृत्यु का दिन आ गया। यमराज स्वयं उसे लेने आए। सावित्री ने उनसे सत्यवान के प्राण ना लेने की विनती की लेकिन यम ने कहा की मृत्यु को कोई नहीं रोक सकता।

Savitri and Satyavan story
Savitri and Satyavan story

सावित्री उनके पीछे मिलो मिल चलती गई। उसकी लगन देखकर यम बहुत प्रभावित हुए और बोले, “मैं तुम्हें दो वरदान देता हूं; तुम सत्यवान के प्राणों को छोड़कर कुछ भी मांग लो।”

सावित्री ने पहले वरदान में अपने ससुर की कुशलता की मांग की। और दूसरे वरदान में उसने चतुराई दिखाते हुए अपने लिए सौ पुत्रों की मांग कर दी। यम ने बिना सोचे समझे हां कर दी। क्योंकि बिना पति के वह पुत्र कैसे पा सकेगी। यम निरुत्तर हो गए और उन्होंने सावित्री के पति सत्यवान के प्राण लौटा दिए।

संबंधित # शिक्षाप्रद कहानियाँ

नचिकेता की कहानी
कहानी गंगा पुत्र भीष्म की
रविवार की कहानी
रंतिदेव को मोक्ष मिला
वीर बालक ध्रुव

Satyawan Sawitri Katha Full Movie – Hindi Bhakti Movies | Hindi Devotional Movie | Indian Movie

Savitri and Satyavan story

reference
Savitri and Satyavan story

Leave a Comment