सबसे प्रिय कौन | अकबर बीरबल की कहानियाँ | Akbar Birbal Story in Hindi | sabse priya kaun akbar birbal ki kahani

अकबर और बीरबल की मजेदार कहानियाँ pdf, अकबर बादशाह की कहानी, अकबर बीरबल की कहानी वीडियो में, अकबर बीरबल के सवाल जवाब, स्वर्ग की यात्रा अकबर बीरबल की कहानी, बीरबल की बुद्धिमानी, बीरबल की चतुराई के किस्से, बीरबल की खिचड़ी, सबसे प्रिय कौन | अकबर बीरबल की कहानियाँ | Akbar Birbal Story in Hindi | sabse priya kaun akbar birbal ki kahani


यहाँ पढ़ें : Best Akbar Birbal ki Kahani Hindi

सबसे प्रिय कौन | अकबर बीरबल की कहानियाँ | Akbar Birbal Story in Hindi | sabse priya kaun akbar birbal ki kahani

बीरबल की चतुराई से सभी दरबारी जलते थे, वे अपने आप को बीरबल के पद पर देखना चाहते थे। एक दरबारी ने कहा, “जहांपनाह! हम भी बीरबल की तरह चतुर और बुद्धिमान हैं, परंतु आप हमारी ओर कभी ध्यान नहीं देते। मेहरबानी करके हमें कम-से-कम एक मौका तो दें।”

बादशाह अकबर बोले, “तो तुम लोगों को लगता है कि मैं बीरबल की झूठी तारीफ करता हूं। आज मैं तुम लोगों के सामने एक चुनौती रखने जा रहा हूं। अगर तुम उसे पूरा कर सके, तो मैं यह मान लूंगा कि बीरबल ही एकमात्र अक्लमंद दरबारी नहीं हैं। “

जी जहांपनाह! बोलें, क्या चुनौती है?” एक दरबारी ने पूछा। उसने सोचा कि आज उसे अपनी योग्यता दिखाने का मौका मिल ही गया। वह बादशाह की चुनौती पूरी करके बीरबल से बाजी मार ले जाएगा।

बादशाह अकबर बोले, “तुम्हें तीन सिक्कों से तीन चीजें खरीदकर लानी हैं। ये तीन चीजें ‘यहां’, ‘वहां’ और ‘न यहां न वहां की होनी चाहिए।”

बादशाह अकबर की बात सुनकर उस दरबारी के होश उड़ गए। यह कैसी अजीब-सी चुनौती है! पहले तो उसने सोचा कि हार मान ले, लेकिन फिर सोचा कि क्यों न अपनी ओर से एक कोशिश कर ली जाए।

तत्पश्चात वह दरबारी शहर के सबसे बड़े व्यापारी के पास गया और उससे बोला, “जनाब! मुझे तीन सिक्कों से ‘यहां’, ‘वहां’ और ‘न यहां न वहां’ की चीजें चाहिए।”

sabse priya kaun
sabse priya kaun

यहाँ पढ़ें :300 + हिंदी कहानी
मुंशी प्रेमचंद सम्पूर्ण हिन्दी कहानियाँ
पंचतंत्र की 101 कहानियां – विष्णु शर्मा
विक्रम बेताल की संपूर्ण 25 कहानियां
तेनालीराम की कहानियां
सम्पूर्ण जातक कथाएँ हिन्दी कहानियाँ

व्यापारी बोला, “हुजूर! अगर आप बुरा न मानें, तो एक बात कहूं। मुझे लगता है कि आपके दिमाग में कोई खराबी है। ऐसी कोई चीज हमारे यहां नहीं मिलती।”

फिर वह दरबारी दूसरे व्यापारियों के पास गया, लेकिन वे चीजें कोई नहीं बेचता था। सारा दिन इधर-उधर दौड़ने के बाद वह अंतत: दरबार में वापस आ गया।

उसने अकबर से कहा, ‘क्षमा करें जहांपनाह, मैं आपकी चुनौती पूरी नहीं कर सकता।” तब बादशाह अकबर ने बीरबल को बुलाया और यही चुनौती पूरी करने को कहा। बीरबल तुरंत दरबार से चले गए।

सभी दरबारियों ने सोचा कि बीरबल भी यह चुनौती पूरी नहीं कर सकते, क्योंकि अकबर ने ऐसी चीजें खरीदने को कहा था, जो दुनिया में कहीं नहीं मिल सकती थीं।

सभी दरबारी यह सोच रहे थे कि आज बीरबल को भी हार माननी पड़ेगी। उन्हें भी सबके सामने अपमानित होना पड़ेगा। परंतु ये क्या! बीरबल दो घंटे बाद दरबार में वापस आ गए। सभी दरबारी और मंत्री यह देखकर हैरान हुए कि बीरबल ने इतनी जल्दी चुनौती कैसे पूरी कर ली। अब वे लोग यह देखना चाहते थे कि बीरबल क्या खरीदकर लाए थे।

अकबर ने पूछा, “बीरबल! क्या तुम ‘यहाँ’, ‘वहां’ और ‘न यहां न वहां’ खरीद लाए?” बीरबल ने सलाम करते हुए कहा, “जहांपनाह! मैंने ‘यहां’ एक सिक्के से मिठाई खरीदी। फिर एक सिक्का भगवान के नाम पर भिखारी को दिया, जो ‘वहां’ गया। तत्पश्चात तीसरे सिक्के से मैंने जुआ खेला, जो ‘न यहां न वहां’ कहीं नहीं गया।”

बादशाह अकबर बीरबल के इस उत्तर से बहुत संतुष्ट हुए। इस तरह बीरबल ने साबित कर दिया कि वे सबसे बेहतर हैं। ऐसी स्थिति में दरबारियों के चेहरे देखने लायक थे।

अकबर बीरबल की कहानियाँ – Episode 06 | Akbar Birbal Animated Moral Stories | बहुभाषी video

संबंधित : अकबर बीरबल की सर्वश्रेष्ट कहानियां

1आम के बाग की सैर | अकबर बीरबल की कहानियाँ21अकबर-बीरबल की दूसरी मुलाकात
2अकबर का सपना | अकबर बीरबल की कहानियाँ22बीरबल की खिचड़ी | अकबर बीरबल की कहानियाँ
3अकबर और बीरबल की ईरान यात्रा भाग 1 | अकबर बीरबल की कहानियाँ23बीरबल और फारस का राजा | अकबर बीरबल की कहानियाँ
4अकबर और बीरबल की ईरान यात्रा भाग 2 | अकबर बीरबल की कहानियाँ24अकबर और तीन सवाल | अकबर बीरबल की कहानियाँ
5उलझन सुलझ गई | अकबर बीरबल की कहानियाँ25चार मूर्ख | अकबर बीरबल की कहानियाँ
6अकबर ने की परख | अकबर बीरबल की कहानियाँ26अंधों की नगरी | अकबर बीरबल की कहानियाँ
7अंधे साधु का राज | अकबर बीरबल की कहानियाँ27हाथी के पांव की छाप | अकबर बीरबल की कहानियाँ
8अकबर का कला प्रेम भाग 1 | अकबर बीरबल की कहानियाँ28बीरबल की बुद्धिमानी | अकबर बीरबल की कहानियाँ
9अकबर का कला प्रेम भाग 2 | अकबर बीरबल की कहानियाँ29जलनखोर दरबारी | अकबर बीरबल की कहानियाँ
10चूड़ियों की गिनती | अकबर बीरबल की कहानियाँ30धरती का चक्कर | अकबर बीरबल की कहानियाँ
11असली सुंदरता कहां | अकबर बीरबल की कहानियाँ31बीरबल की स्वर्ग यात्रा | अकबर बीरबल की कहानियाँ
12सबसे खूबसूरत बच्चा | अकबर बीरबल की कहानियाँ32अकबर की मूंछें | अकबर बीरबल की कहानियाँ
13व्यापारी की उलझन | अकबर बीरबल की कहानियाँ33चारपाई का राज | अकबर बीरबल की कहानियाँ
14अकबर के दांत | अकबर बीरबल की कहानियाँ34सबसे प्रिय कौन | अकबर बीरबल की कहानियाँ
15अकबर का गुस्सा | अकबर बीरबल की कहानियाँ35बीरबल और चोर का रहस्य | अकबर बीरबल की कहानियाँ
16दरबारी की भूल | अकबर बीरबल की कहानियाँ36बीरबल का घोड़ा | अकबर बीरबल की कहानियाँ
17तीन शाही सलाहकार | अकबर बीरबल की कहानियाँ37यह कैसी उलझन | अकबर बीरबल की कहानियाँ
18तोते की मौत | अकबर बीरबल की कहानियाँ
19तीन सवाल | अकबर बीरबल की कहानियाँ
20कैसे हुई अकबर-बीरबल की पहली मुलाकात

मेरा नाम सविता मित्तल है। मैं एक लेखक (content writer) हूँ। मेैं हिंदी और अंग्रेजी भाषा मे लिखने के साथ-साथ एक एसईओ (SEO) के पद पर भी काम करती हूँ। मैंने अभी तक कई विषयों पर आर्टिकल लिखे हैं जैसे- स्किन केयर, हेयर केयर, योगा । मुझे लिखना बहुत पसंद हैं।

Leave a Comment