Princess and the Pea Story in Hindi | राजकुमारी और मटर की कहानी | rajkumari aur matar Ki Kahani, Best Fairy Tale

Princess and the Pea I राजकुमारी और मटर | Tales in Hindi I बच्चों की नयी हिंदी कहानियाँ

Princess and the Pea Story in Hindi

Princess and the Pea Story in Hindi | राजकुमारी और मटर की कहानी

किसी समय में एक शक्तिशाली राज्य था वहां के राज महल में एक राजा अपनी रानी के साथ रहता था  रानी जो चाहती थी वह उसे मिल जाता था। उनके इकलौते पुत्र का लालन-पालन उन्होंने बहुत ही अच्छे से किया था।

अपने राजकुमार से और अपने इकलौते पुत्र से बहुत प्यार करती थी। धीरे-धीरे राजकुमार बड़ा हो गया था और उसकी शादी की उम्र हो गई थी।

Princess and the Pea Story in Hindi
Princess and the Pea Story in Hindi

रानी ने अपने पुत्र राजकुमार को एक दिन अपने पास बुलाया और उसने कहा, “ राजकुमार अब तुम्हारी शादी की उम्र हो गई है, एक  राजकुमार को अपने लिए राजकन्या खुद ही ढूंढ नहीं चाहिए उसमें कई गुण होने चाहिए बहुत सुंदर हो गुणवान हो बुद्धिमान हो इन सभी चीजों का ज्ञान उसने होना चाहिए।  एक राजकन्या की सबसे बड़ी पहचान यही होती है कि उसकी वाणी बहुत मधुर होनी चाहिए। 

यहाँ पढ़ें : हैंसल और ग्रेटर की कहानी

रानी की आज्ञा के अनुसार राजकुमार अपने सैनिकों के साथ अपने लिए राजकन्या ढूंढने निकल पड़ा। चलते चलते वह एक महल के पास पहुंचा और उस महल के अंदर राजा के सामने गया अपनी बातों से उसने राजा को प्रभावित कर दिया क्योंकि वह बहुत सुंदर और सभ्य भी था राजा ने उसे अपनी राजकन्या से मिलवाया जैसे ही उसने राजकुमारी से बात की तब उसे झटका लगा क्योंकि राजकुमारी की आवाज थोड़ी भारी थी।

वह वहां से चला गया। चलते एक दूसरे महल के पास पहुंचा उस महल के राजा के पास जाकर उसने बात की राजा और रानी उसकी तबीयत आते फिर प्रभावित हुए और उन्होंने तुरंत उसे अपनी राज कन्या से मिलवाय।

यहाँ पढ़ें : पंचतंत्र की 101 कहानियां – विष्णु शर्मा

राज कन्या भोजन कर रही थी राजकुमार ने राजकन्या को एक फूल देना चाहा, परंतु राजकुमारी उसकी बात ही नहीं सुन रही थी और बस खाती ही जा रही थी। यह देखकर राजकुमार वहां से भी चला गया। इस प्रकार कई जगह घूमने के बाद भी उसे अपने लिए राजकुमारी नहीं मिली। और वह परेशान हो गया था। वह अपने लिए राजकुमारी ढूंढने में असफल रहा।

ताजमहल वापस लौटकर राजकुमार ने रानी को सब कुछ बता दिया। उसी रात एक भयंकर तूफान आया। राजकुमार खिड़की में से बारिश होते हुए देख रहा था तभी उसने देखा कि एक कन्या उनके महल की तरफ आ रही है।  तभी दरवाजे  पर दस्तक हुई। दरवाजा खुलने पर देखा कि एक बहुत सुंदर लड़की खड़ी थी।

राजकुमार महल के नीचे आया वह लड़की पूरी भीगी हुई थी और जब राजकुमार ने उस लड़की की आवाज सुनी और उसकी सुंदरता देखी तो उसपर  मोहित हो गया। वह लड़की रात भर के लिए आसरा चाहती थी। और ठंड से कांप रही थी। क्योंकि वह अपना रास्ता भटक चुकी थी। 

राजकुमार ने अपने दरबारी से उसकी देखभाल करने के लिए कहा। राजकुमार ने रानी को उनके बारे में बताया परंतु जब रानी ने उसे देखा तो उसने साफ मना कर दिया कि यह कोई राजकुमारी नहीं है। 

राजकुमार ने अपनी रानी मां से आग्रह किया कि मां वह लड़की बहुत सुंदर और सौम्य है मैंने ऐसी लड़की पहले कभी नहीं देखी। रानी समझ गई थी कि राजकुमार को उससे प्यार हो गया है तभी उसने एक उपाय सोचा उसने उस लड़की की परीक्षा लेना चाहा।

उसने बिस्तर पर एक मटर का दाना रखकर उस पर 10 मुलायम गद्दे रखवा दिए। वह पूरी रात सो नहीं पाई। उसने सुबह जल्दी उठकर सेवक को बुलाया और कहा, “यह पलंग बहुत ही बेकार था मैं इस पर सो ही नहीं पाई मानो किसी ने इस पर ईट रख दी हो।

यह बात राजकुमार तक पहुंच गई। राजकुमार तुरंत उस लड़की के पास आया और उसे विवाह का प्रस्ताव दिया क्योंकि वह समझ चुका था कि वह एक राजकुमारी है। लड़की ने राजकुमार से विवाह करने के लिए हां कर दी और दोनों खुशी-खुशी रहने लगे।

reference-
6 june 2021, Princess and the Pea Story in Hindi, wikipedia 

Leave a Comment