हाथी के पांव की छाप | अकबर बीरबल की कहानियाँ | Akbar Birbal Story in Hindi | hathi ke paon ki chhap akbar birbal ki kahani

हाथी के पांव की छाप | अकबर बीरबल की कहानियाँ | Akbar Birbal Story in Hindi | hathi ke paon ki chhap akbar birbal ki kahani


यहाँ पढ़ें : Best Akbar Birbal ki Kahani Hindi

हाथी के पांव की छाप | अकबर बीरबल की कहानियाँ | Akbar Birbal Story in Hindi | hathi ke paon ki chhap akbar birbal ki kahani

बादशाह अकबर और बीरबर के बीच नौक झोक चलती रहती थी लेकिन एक बार किसी गंभीर विषय पर बादशाह अकबर और बीरबल में काफी बहस हुई।

ऐसी स्थिति में बादशाह अकबर इतने क्रोधित हुए कि उन्होंने बीरबल को तत्काल दीवान पद से हटा दिया और अपनी रानी के भाई को यह पद सौंप दिया।

कुछ दिनों बाद बादशाह अकबर को अपनी भूल का एहसास हुआ। वे अपने प्रिय दीवान बीरबल की हाजिर जवाबी और समझदारी को याद करने लगे।

एक दिन उन्होंने निश्चय किया कि वे अपने नए दीवान की समझदारी परखेंगे। वे शाम को उसके साथ एक मस्जिद में गए। वापसी पर अकबर को हाथी के पांव का बड़ा-सा निशान दिखाई दिया।

उसे देखते ही उनके मन में एक विचार आया और वे नए दीवान से बोले, “क्या तुम हाथी के पांव का निशान देख रहे हो। मैं चाहता हूं कि यह निशान तीन दिनों तक यहां बना रहे। इसका ध्यान रखना।” फिर वे अपने महल में लौट गए।

नए दीवान को यह काम करने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ी। उसे अपने खाने-पीने का भी होश नहीं रहा। उसकी हालत बता रही थी कि वह बीरबल की तरह बुद्धिमान नहीं है।

बादशाह अकबर ने अपने सिपाहियों से चोरी-छिपे उस पर नजर रखने को कहा था। अकबर को उनके सिपाहियों ने बताया कि नए दीवान के लिए हाथी के पांव की छाप बचाकर रखना बड़ा कठिन हो गया है।

hathi ke paon ki chhap akbar birbal ki kahani
hathi ke paon ki chhap

यहाँ पढ़ें : मुंशी प्रेमचंद सम्पूर्ण हिन्दी कहानियाँ
पंचतंत्र की 101 कहानियां – विष्णु शर्मा
विक्रम बेताल की संपूर्ण 25 कहानियां
तेनालीराम की कहानियां
सम्पूर्ण जातक कथाएँ हिन्दी कहानियाँ

300 + हिंदी कहानी

ऐसी स्थिति में बादशाह अकबर ने सोचा कि उन्हें बीरबल को वापस लाना पड़ेगा। इसके लिए उन्हें एक तरकीब सूझी। उन्होंने पूरे राज्य में मुनादी करवा दी, “सभी जमींदार अपने कुओं को लेकर दरबार में हाजिर हों। जो जमींदार नहीं आएगा, उसे दस हजार सोने के सिक्कों का जुर्माना अदा करना पड़ेगा। “

यह मुनादी सुनकर सभी लोग हैरान हो गए। वे सोचने लगे कि भला कुओं को दरबार में कैसे ले जाया जा सकता है। वे बीरबल के पास गए और उनसे मदद मांगी। वे जानते थे कि बीरबल इस समस्या का कोई-न-कोई उपाय अवश्य बता देंगे।

बीरबल ने जमींदारों को समझाया कि दरबार में जाकर क्या कहना है। अगली सुबह कुछ जमींदार राज्य के प्रवेश द्वार पर पहुंचे और बादशाह अकबर को यह संदेश भिजवाया, “महाराज! हम अपने कुओं को लेकर आ गए हैं। अब आप अपने कुओं को हमारे कुओं के स्वागत के लिए भेज दें। “

यह संदेश सुनते ही अकबर समझ गए कि ऐसा उपाय केवल बीरबल ही सुझा सकते हैं। उन्होंने किसानों से बीरबल का पता लिया और उन्हें दरबार में वापस बुलवा लिया। इसके बाद बादशाह अकबर ने बीरबल को आदेश दिया कि वे हाथी के पांव के निशान को सुरक्षित रखें।

बीरबल तत्काल वहां गए और उस निशान के आसपास रस्सी का बेड़ा बांध दिया। फिर उन्होंने मुनादी करवा दी कि उस रस्सी की सीमा में आने वाले घरों को गिरा दिया जाएगा। यह सुनकर गांव वाले घबरा गए।

वे बीरबल के लिए उपहार में सोने के सिक्के लाए और वादा किया कि वे स्वयं हाथी के पांव के निशान की देख-रेख करेंगे। इस तरह बीरबल ने न केवल हाथी के पांव के निशान को सुरक्षित रखा, बल्कि राज्य के खजाने में सोने के सिक्के भी जमा करवाए। अकबर भी मान गए कि उनके बीरबल जैसा कोई नहीं है।

रोज़ एक कहानी : किस्से अकबर बीरबल के 27 : हाथी के पैर का चिन्ह : Haathi ke pair ka Chinh video

hathi ke paon ki chhap

संबंधित : अकबर बीरबल की सर्वश्रेष्ट कहानियां

1आम के बाग की सैर | अकबर बीरबल की कहानियाँ21अकबर-बीरबल की दूसरी मुलाकात
2अकबर का सपना | अकबर बीरबल की कहानियाँ22बीरबल की खिचड़ी | अकबर बीरबल की कहानियाँ
3अकबर और बीरबल की ईरान यात्रा भाग 1 | अकबर बीरबल की कहानियाँ23बीरबल और फारस का राजा | अकबर बीरबल की कहानियाँ
4अकबर और बीरबल की ईरान यात्रा भाग 2 | अकबर बीरबल की कहानियाँ24अकबर और तीन सवाल | अकबर बीरबल की कहानियाँ
5उलझन सुलझ गई | अकबर बीरबल की कहानियाँ25चार मूर्ख | अकबर बीरबल की कहानियाँ
6अकबर ने की परख | अकबर बीरबल की कहानियाँ26अंधों की नगरी | अकबर बीरबल की कहानियाँ
7अंधे साधु का राज | अकबर बीरबल की कहानियाँ27हाथी के पांव की छाप | अकबर बीरबल की कहानियाँ
8अकबर का कला प्रेम भाग 1 | अकबर बीरबल की कहानियाँ28बीरबल की बुद्धिमानी | अकबर बीरबल की कहानियाँ
9अकबर का कला प्रेम भाग 2 | अकबर बीरबल की कहानियाँ29जलनखोर दरबारी | अकबर बीरबल की कहानियाँ
10चूड़ियों की गिनती | अकबर बीरबल की कहानियाँ30धरती का चक्कर | अकबर बीरबल की कहानियाँ
11असली सुंदरता कहां | अकबर बीरबल की कहानियाँ31बीरबल की स्वर्ग यात्रा | अकबर बीरबल की कहानियाँ
12सबसे खूबसूरत बच्चा | अकबर बीरबल की कहानियाँ32अकबर की मूंछें | अकबर बीरबल की कहानियाँ
13व्यापारी की उलझन | अकबर बीरबल की कहानियाँ33चारपाई का राज | अकबर बीरबल की कहानियाँ
14अकबर के दांत | अकबर बीरबल की कहानियाँ34सबसे प्रिय कौन | अकबर बीरबल की कहानियाँ
15अकबर का गुस्सा | अकबर बीरबल की कहानियाँ35बीरबल और चोर का रहस्य | अकबर बीरबल की कहानियाँ
16दरबारी की भूल | अकबर बीरबल की कहानियाँ36बीरबल का घोड़ा | अकबर बीरबल की कहानियाँ
17तीन शाही सलाहकार | अकबर बीरबल की कहानियाँ37यह कैसी उलझन | अकबर बीरबल की कहानियाँ
18तोते की मौत | अकबर बीरबल की कहानियाँ
19तीन सवाल | अकबर बीरबल की कहानियाँ
20कैसे हुई अकबर-बीरबल की पहली मुलाकात

मेरा नाम सविता मित्तल है। मैं एक लेखक (content writer) हूँ। मेैं हिंदी और अंग्रेजी भाषा मे लिखने के साथ-साथ एक एसईओ (SEO) के पद पर भी काम करती हूँ। मैंने अभी तक कई विषयों पर आर्टिकल लिखे हैं जैसे- स्किन केयर, हेयर केयर, योगा । मुझे लिखना बहुत पसंद हैं।

Leave a Comment