SEBI full form in hindi | सेबी का फुल फॉर्म क्या होता है | SEBI meaning in Hindi | SEBI ka full form kya hai | सेबी का फुल फॉर्म क्या है | sebi in hindi

सेबी (SEBI) क्या होता है? What is full form of SEBI सेबी किससे संबंधित है? यह क्या कार्य करती है? अगर आपके मन मे भी इस तरह के सवाल हैं तो इस लेख मे आपको आपके इन सभी सवालों के जवाब मिल जाएंगे। क्योंकि इस लेख मे हम आपको सेबी SEBI से संबंधित सभी जानकारी देने की कोशिश करेंगे जैसे सेबी SEBI का फुल फॉर्म क्या होता है हिंदी में। सेबी क्या होता है।

यहाँ पढ़ें : nsso full form in hindi
यहाँ पढ़ें : msme full form in hindi

What is full form of sebi in hindi | सेबी का फुल फॉर्म क्या होता है? | SEBI full form in hindi | SEBI meaning in Hindi | सेबी फुल फॉर्म इन हिंदी | sebi in hindi

full form of SEBI Securities and Exchange Board of India
full form of SEBI भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड
Formed April 12, 1988
Jurisdiction Government of India
HeadquartersMumbai, Maharashtra
Agency executive Ajay Tyagi, IAS, (Chairman)
Website www.sebi.gov.in
full form of SEBI

यहाँ पढ़ें : irda full form in hindi
यहाँ पढ़ें : sidbi full form in Hindi

What is SEBI? | सेबी क्या होता है? | सेबी का अर्थ क्या है?

सेबी (भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड) इसे इंग्लिश मे लिखते हैं Securities and Exchange Board of India (स्क्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया) यह निवेशकों के हितों की रक्षा करने और निवेशकों को उत्तम संरक्षण देने वाली एक संस्था है। (SEBI is an organization to protect the interests of investors and to provide good protection to investors)

सेबी का मुख्यालय मुंबई मे स्थित है। इसके अलावा सेबी (SEBI) के कुछ क्षेत्रीय कार्यालय (Regional office) भी है। सेबी के कार्यालय मुंबई (Mumbai) के अलावा चार बड़े महानगरों दिल्ली (Delhi), कोलकाता (Kolkata), चेन्नई (Chennai) और अहमदाबाद (Ahmedabad) मे भी स्थित हैं। सेबी (S E B I) का प्रबंधन उसके सदस्यों द्वारा किया जाता है। सेबी (SEBI) के संपूर्ण प्रबंधन मे 6 सदस्य होते हैं। इनमे से एक सदस्य अध्यक्ष (director) होता है और अन्य पांच अलग कार्य के लिए होते हैं।

यहाँ पढ़ें : Full form of NABARD
यहाँ पढ़ें : imf full form in hindi

सेबी का फुल फॉर्म क्या है | सेबी की फुल फॉर्म

full form of SEBI

यहाँ पढ़ें : Full Form Of PMC Bank
यहाँ पढ़ें : Full Form Of IMPS

Establishment of SEBI सेबी की स्थापना

सेबी (SEBI) यानी भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (Securities and Exchange Board of India) की स्थापना 12 अप्रैल 1988 मे की गई थी। यह स्थापना एक गैर संवैधानिक निकाय के रुप मे हुई थी। सेबी की प्रारंभिक पूँजी 7.5 करोड़ थी। यह पूँजी मुख्य रुप से तीन कंपनियों द्वारा दी गई थी आई डी बी आई (Idbi), आई सी आई सी आई (ICICI) और आई आर सी आई (IRCI)। इनके द्वारा ही यह राशी दी गई थी।

बाद मे सेबी को 30 जनवरी 1992 को भारत सरकार ने संसद में सेबी अधिनियम (SEBI Act) 1992 पारित करके सेबी (SEBI) को संवैधानिक दर्जा दिया।

SEBI Other information सेबी की अन्य जानकारी

1.  जनता से 100 करोड़ से अधिक राशी वसूल करने वाली योजनाएं सेबी के अंतर्गत आती है।
2.   सेबी (SEBI) के द्वारा शेयर बजार (Share Market) मे होने वाली हर घटना पर नज़र रखी जाती है।
3.   सेबी (SEBI) कभी भी किसी भी संस्था के खाते की जांच कर सकता है।

यहाँ पढ़ें : bhel full form in hindi
यहाँ पढ़ें : Full Form of O.N.G.C

SEBI Headquarters सेबी का मुख्यालय | SEBI full form headquarters

सेबी SEBI का मुख्यालय मुंबई (Mumbai) के बांद्रा मे कुर्ला परिसर में स्थित है। इसके अलावा सेबी के 4 क्षेत्रीय कार्यालय हैं दिल्ली, चेन्नई, कोलकाता और अहमदाबाद। वर्तमान समय मे सेबी के अध्यक्ष श्री अजय त्यागी है।

सेबी संगठनात्मक संरचना (Sebi Organizational Structure)

full form of SEBI | SEBI full form in Hindi
full form of SEBI

1.  सेबी (SEBI) का एक सदस्य अध्यक्ष होता है जिसका चयन भारत सरकार द्वारा किया जाता है।
2.  सेबी (SEBI) अध्यक्ष का कार्य काल, 3 वर्ष की अवधि या 65 वर्ष की उम्र दोनो मे से जो पहले होता है।
3.  सेबी (SEBI) मे दो सदस्य वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) के होते हैं ये सदस्य पूर्ण कालिक होते हैं।
4.  एक सदस्य रिजर्व बैंक (reserve Bank) का होता है जो पूर्ण कालिक होते है।
5.  एक सदस्य कानून मंत्रालय (Law ministry) का होता है ये भी पूर्ण कालिक होता है।
6.  सेबी 3 अन्य सदस्य होते हैं जिनका चयन केंद्र सरकार द्वारा किया जाता है यह सदस्य अंशकालिक होते हैं।

यहाँ पढ़ें : CV full form in hindi | सीवी का फुल फॉर्म क्या होता है
यहाँ पढ़ें : DLF full form in hindi | डीएलएफ का फुल फॉर्म क्या होता है

Functions of SEBI सेबी के कार्य

सेबी संगठन (SEBI Organization) के कार्यों (functions) को और शक्तियों (powers) को सेबी अधिनियम 1992 में सूचीबध किया गया है। सेबी भारतीय पूँजी बाजार में सक्रिय तीन दलों की जरुरत को पूरा करता है ये तीन प्रतिभागी इस प्रकार होते हैं।

वित्तीय मध्यस्थ (Financial Intermediaries)- सेबी (SEBI) का कार्य शेयर बाजार मे मध्यस्थ के रुप मे होता है। ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि सभी बाजार लेन देन सुरक्षित और सुचारु तरीके से हो रहा हो।

सेबी (SEBI) वित्तीय मध्यस्थों की हर गति विधि पर नजर रखता है जैसे दलाल (Broker), उप दलाल (Sub broker), एनबीएफसी (NBFC), आदि।

प्रतिभूति के जारी कर्ता Issuers of the Securities- सुरक्षा जारी करने वाली कंपनियां स्टॉक एक्सचेंज (Stock exchange) में सूची बद्ध होती हैं। ज्यादातर कंपनियां फंड (Fund) जुटाने के लिए शेयर (share) जारी करती हैं।

सेबी (SEBI) यह सुनिश्चित करता है कि आंरभिक सार्वजनिक पेशकश आईपीओ (IPO) और अनुवर्ती सार्वजनिक प्रस्ताव एफपीओ (FPO) जारी करना स्वस्थ और पारदर्शी तरीके से हो सकता है।

व्यापारियों और निवेशकों के हितों की रक्षा Protects the Interests of Traders & Investors – पूँजी बाजार (Capital market) केवल इसलिए काम करते हैं क्योंकि व्यापारी (merchant) मौजूद हैं। सेबी (SEBI) अपने हितों की सुरक्षा और यह सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदार है कि निवेशक (Investors) किसी भी शेयर बाजार (शेयर बाजार) की धोखा धड़ी या हेरा फेरी के शिकार न बने।

यहाँ पढ़ें : DNA full form in hindi | डीएनए का फुल फॉर्म क्या होता है
यहाँ पढ़ें : DRDO full form in hindi | डीआरडीओ का फुल फॉर्म क्या होता है

Powers of SEBI सेबी की शक्तियां | Scope of SEBI

1.  सेबी (S E B I) मतलब भारतीय प्रतिभूती और विनिमय बोर्ड को कुछ व्यापक शक्तियां प्रदान की गई हैं जिससे वह कुशलता से कार्य करने में सक्षम हो और बाजार पर नियंत्रण रख सके।
2.  सेबी (SEBI) को यह अधिकार है कि वह वित्तीय मध्यस्थों के लिए खातों की पुस्तकों का भी निरीक्षण कर सकता है।
3.  सेबी (SEBI) अनैतिक और धोखा धड़ी व्यापार प्रथाओं के मामले में सत्तारुढ़ निर्णय पारित कर सकता है।
4.  सेबी (SEBI) पूँजी बाजार में पारदर्शिता, निष्पक्षता , जवाब देही और विश्वसनीयता सुनिश्चित करता है। पीएसीएल सेबी (SEBI) की शक्ति का एक उदाहरण है।
5.  सेबी (SEBI) अनियमितताओं की जांच के लिए किसी भी स्टॉक एक्सचेंज के खातों की पुस्तकों का भी निरीक्षण कर सकता है। सेबी (SEBI) अगर मांग करता है तो इस तरह के स्टॉक एक्सचेंजों को अनुरोध के अनुसार किसी भी खाते, किताबों या दस्तावेज़ों को प्रदान करना होगा।
6.  सेबी (SEBI) किसी भी कंपनी को एक से अधिक स्टॉक एक्सचेंज पर अपने शेयरों को सूची बध करने के लिए कह सकता है अगर उन्हे लगता है कि यह बाजार के लिए अधिक होगा।

यहाँ पढ़ें : अन्य सभी full form
यहाँ पढ़ें : FOMO full form in hindi

FAQ full form of sebi in hindi


What is the work of SEBI? – सेबी का क्या काम है?

सेबी एक सांविधिक निकाय और एक बाजार नियामक है, जो भारत में प्रतिभूति बाजार को नियंत्रित करता है । सेबी का मूल कार्य प्रतिभूतियों में निवेशकों के हितों की रक्षा करना और प्रतिभूति बाजार को बढ़ावा देना और विनियमित करना है । सेबी अपने सदस्यों के बोर्ड द्वारा चलाया जाता है।

वर्तमान में सेबी के अध्यक्ष कौन है?

सेबी के नए अध्यक्ष एस के मोहंती चुने गए हैं। वो इस पद पर तीन वर्ष कार्य करेंगे। वो IRS अधिकारी हैं।

सेबी के अध्यक्ष का कार्यकाल कितने साल का होता है?

सरकार ने (Sebi) के अध्यक्ष अजय त्यागी (Ajay Tyagi) के कार्यकाल को 18 महीने के लिए आगे बढ़ाने की मंजूरी दे दी है। अब उनका कार्यकाल 28 फरवरी, 2022 तक रहेगा।

SEBI Full form and Chairman

Ajay Tyagi , IAS, (Chairman)

SEBI का पूरा नाम क्या है?

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) की स्थापना भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड अधिनियम, 1992 के प्रावधानों के अनुसार 12 अप्रैल, 1992 को हुई थी ।

निष्कर्ष- दोस्तों सेबी (SEBI) एक बहुत बड़ा संगठन है जो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर काम करता है। यह बैंकिंग सेक्टर से जुड़ा है। इस लेख मे हमने आपको सेबी (SEBI) से संबंधित सभी जानकारी देने की कोशिश की है जैसे सेबी क्या होता है, सेबी का फुल फॉर्म क्या होता है हिंदी में। What is SEBI full form in Hindi ? इसका फुल फॉर्म होता है Securities and Exchange Board of India इसके अलावा भी हमने आपको सेबी से संबंधित अन्य जानकारी जैसे सेबी (SEBI) की स्थापना कब हुई, इसके सदस्य तथा संबंधित देश, सेबी के लिए योग्यताएं आदि की जानकारी देने की कोशिश की है।

आशा करते हैं कि आपके सेबी (SEBI) से संबंधित जो भी सवाल हैं वो इस लेख के माध्यम से हल हो जाएंगे। अगर आपका इसके संबंध मे कोई सुझाव है तो हमे नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स मे कमेंट कर के बता सकते हैं। 

Leave a Comment