LOVE full form in hindi | LOVE meaning in Hindi | लव का फुल फॉर्म क्या है, लव की सही परिभाषा तथा लव के प्रकार | I Love You का फुल फॉर्म हिंदी मै

Table Of Contents
show

सूफी संत रूमी ने प्यार के विषय में कहा है ,

“love will find its way through all language on its own “

माना प्यार अपने दम पर सभी भाषा के माध्यम से अपना रास्ता खोज लेगा। प्यार किसी भी व्यक्ति के लिए सबसे अनमोल अनुभव होता है। ये वो समय होता है जब आप सारी चिंताओं को भूल कर उस एक व्यक्ति से साथ सारा समय गुज़ारते हैं। आप जो भी काम एक साथ करते हैं वो दोनों लोगों के लिए ही नया अनुभव होता है और इसमें आप दोनों ही अपना पूरा सौ प्रतिशत देते हैं। जब रिश्ता नया होता है तो आप चाहते हैं की आप अपने साथी के बारे में सब कुछ जानना चाहते हैं, लेकिन कभी कभी किसी रिश्ते में सब कुछ जानना इतना जरूरी नहीं होता। आपको बस उनको,जैसे वो हैं, वैसे ही अपनाना होता है। 

यहाँ पढ़ें : i love you meaning in hindi

LOVE full form in hindi | LOVE meaning in Hindi | लव का फुल फॉर्म क्या है | Full Form Of Love | लव का पूरा नाम क्या है

Full Form Of Love Laughter, Optimism, Value, Eternity
Full Form Of Love in hindiलाफ्टर, ऑप्टिमिस्म, वैल्यू, एटर्निटी
Full Form Of Love

यहाँ पढ़ें : Full form of BAE in Hindi
यहाँ पढ़ें : BFF Full Form in Hindi

love ka full form kya hai | love ka full form kya hota hai | love ka full form in hindi

प्यार यानी love को समझ ने के लिए हमें उसके हर एक शब्द को समझना पड़ेगा 

ये सभी प्रेम के अभिन्न अंग। हैं। इनके बिना प्रेम होना महज़ दिखावा होता है। हर व्यक्ति जो प्रेम करता है या प्रेम में होता है उसके लिए ये सारी चीजों का होना अतिआवश्यक होता है। लेकिन इन सबसे पहले हमें प्रेम के प्रकार को समझना जरूरी होगा। हमें भगवान् से प्रेम हो सकता है, जानवरों और प्रकृति से प्रेम हो सकता है या किसी मनुष्य से प्रेम हो सकता है। लेकिन सभी तरह के प्रेम में निम्न अंगों का उपस्थित होना आवश्यक होता है। 

laughter : यानी मुस्कुराहट, ख़ुशी आदि
Optimism : यानी उम्मीद या आशा करना 
value : यानी महत्त्व, अहमियत
Eternity : यानी शाश्वतता, नित्यता 
Full Form Of Love

यहाँ पढ़ें : Full form of TBH in Hindi

I Love You का फुल फॉर्म हिंदी मै | i love you ka full form kya hai | (प्यार का पूरा नाम क्या है)

Full Form Of Love

यहाँ पढ़ें : Full form of IMAO

लव का फुल फॉर्म क्या है, लव की परिभाषा तथा लव के प्रकार

प्रेम के कई अंग आपको  आपके जीवन में देखने को मिल सकते हैं। इनके कुछ मुख्य रूप हैं 

1. भक्ति या ईश्वर प्रेम 
2 . जानवरों से प्रेम 
3. इंसानो से प्रेम 

भक्ति या ईश्वर प्रेम 

जब बात करते हैं भक्ति या ईश्वर प्रेम का सबसे बड़ा उदाहरण हमें मीरा का कृष्ण के प्रेम से मिलता है। मीरा का सम्बन्ध राणा प्रताप के परिवार से था लेकिन प्रभु प्रेम ने उन्हें सब कुछ त्यागने पर मजबूर कर दिया।  वो कृष्ण के प्रेम में इस तरह लींन हो गयीं की वो शहर शहर घूम कर सिर्फ हरी भजन करने लगी और कृष्ण के प्रति न जाने कितने वर्षों तक लोगों को जागरूक किया।

मशहूर भजन गायक अनूप जलोटा का गाया हुआ भजन ” ऐसी लागी लगन, मीरा हो गयी मगन “,  के प्रति प्रेम दर्शाता है। हम सभी के अंदर भक्ति का होना जरूरी है।  ये हमें एक बेहतर इंसान बनाने में मदद करता है और ये भी दर्शाता है की मुसीबत के समय हम अकेले नहीं हैं, हमारा भगवान् हमारे साथ है।  

जानवरों से प्रेम 

जानवरों से प्रेम होना ये दर्शाता है की आप कितने अच्छे व्यक्ति हैं। एक सर्वे के अनुसार इंसान कितना अच्छा है और उसके अंदर कितनी भावनाएं हैं ये तभी पता चलता है जब उसका जानवरों के प्रति प्रेम प्रदर्शित होता है। जानवरों से प्रेम करने वाले लोगों के बारे में भी कहा जाता है की उनके भीतर किसी भी प्रकार का मैल नहीं हैं और ये दिल के कितने साफ़ हैं।

आपने देखा होगा की लोग अक्सर अपने का चयन करते समय ये ध्यान रखते हैं की क्या उनके साथी जानवरों से प्रेम करते हैं या नहीं। जानवरों से प्रेम करने वालों में एक सबसे अच्छा गुण ये है की वो हर जीव से प्यार करते हैं और किसी को दुःख या दर्द नहीं पहुंचाते।   

इंसानो से प्रेम

किसी व्यक्ति से प्रेम होना सबसे ज्यादा पाया जाने वाला प्रकार है।  हर व्यक्ति को किसी न किसी से प्रेम होता ही है भले ही वो आपके माता पिता हों, भाई हो या घर का कोई और सदस्य हो। और सिर्फ घर का सदस्य ही नहीं आपके दोस्त या कोई ऐसा जिससे आप प्रेम करते हैं , एक ऐसा प्रेम जो शायद आपको किसी और से नहीं हुआ , ये ही कुछ उदाहरण है किसी व्यक्ति से प्रेम होने के।

इस तरह के प्रेम में आप ना सिर्फ अपने लिए काम कर रहे होते हैं बल्कि उस व्यक्ति के लिए भी कर रहे होते हैं जिससे आप प्रेम करते हैं।  कहते हैं प्यार अँधा होता है, ये कुछ भी नहीं देखता।  न मज़हब, न सरहद न जात कुछ नहीं ये किसी भी व्यक्ति को किसी से भी हो सकता है। 

साल 2018 में आये सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद सेक्शन 377 भी अब हटा लिया गया है जिसका मतलब ये है की अब आप किसी भी व्यक्ति को किसी भी व्यक्ति से प्यार करने की और उसको जाहिर करने की आज़ादी मिल गयी है। जिसके बाद कई सोशल एक्टिविस्ट्स ने इस पर अपनी ख़ुशी जताई।  किसी से प्यार करना किसी भी व्यक्ति विशेष का निजी निर्णय होता है। और इस सेक्शन के हट जाने के बाद आप खुल कर अपना प्यार जाहिर कर सकते हैं। गेर रिलेशन्स या होमो सेक्सुअल रिलेशन्स को आज़ादी मिलना प्यार को एक नया आयाम के मिलने जैसा है। सबको सभी से प्यार करने का हक़ है। 

लव का फुल फॉर्म इमेज

Full Form Of Love
Full Form Of Love

जैसा की अब हम ये जानते हैं की किसी भी व्यक्ति को किसी से भी प्यार हो सकता है। लेकिन प्यार सही मायने में क्या चीज़ है इसको जान ने के लिए हमें सबसे पहले प्यार यानी लव की फुल फॉर्म जानना जरूरी होगा, लव की फुल फॉर्म है ,लाफ्टर, ऑप्टिमिस्म, वैल्यू, एटर्निटी ( full form of love – Laughter, Optimism, Value, Eternity ). किसी भी व्यक्ति में प्यार का होना ये दर्शाता है की उस व्यक्ति में ये गुण मौजूद हैं।

जितने भी गुण किसी व्यक्ति को प्यार करने के लिए चाहिए होते हैं उनमें से प्रमुख केवल ये चार ही हैं। अगर किसी व्यक्ति में इनमें से कुछ भी मौजूद नहीं है तो  प्यार का पूर्ण बीज नहीं बोया गया है।  और जब बीज ही नहीं बोया गया है तो पेड़ की आशा कैसे की जा सकती है।  

जैसा की आप जानते हैं की Full Form Of love या प्यार को 4 भाग में बांटा गया है,

  • laughter  यानी मुस्कुराहट, ख़ुशी आदि 
  • Optimism  यानी उम्मीद या आशा करना
  • value  यानी महत्त्व, अहमियत
  • Eternity  यानी शाश्वतता, नित्यता  

अगर प्यार को समझना है तो इसकी शुरुवात हमें यहां इन शब्दों को जानने से करनी चाहिए। जब हम इन शब्दों को सही मायने में समझते हैं तभी आप इश्क़ के सन्दर्भ में सब कुछ जान ने का दावा पेश कर सकते हैं। चलिए इन शब्दों का असल मतलब समझते हैं जो इसे इश्क़ के लिए इतना महत्वपूर्ण बनाता है।  

laughter  यानी मुस्कुराहट, ख़ुशी

ख़ुशी का होना दर्शाता है की जो भी आपके साथ है वो आपके रंग में रंग चुका है । उसके भीतर किसी भी प्रकार का कोई भी मैल मौजूद नहीं है। इस गुण के होने से आप भी अपने अंदर एक अलग ऊर्जा का होना पाते हैं।  मान लीजिये आप और आपका साथी जब साथ रहने लगेंगे तब हो सकता है एक ऐसा दिन भी आये जब आपका साथी थका हारा हुआ घर आये और उसका मूड बिलकुल सही न हो, तब आप खुश करना और उसके चेहरे पर मुस्कराहट लाना  एक बारी में ही कर देगा जिससे वो एकदम पहले जैसे बढ़िया हो जाएंगे।

इससे न सिर्फ उनका दिल हल्का होगा चेहरे पर मुस्कुरराहट आएगी लेकिन एक अलग स्थान बनेगा जो आपके लिए सबसे ऊपर रखेगा। आप उनके लिए अनमोल हो जाएंगे। 

यहाँ पढ़ें : अन्य सभी full form

Optimism  यानी उम्मीद या आशा करना 

किसी भी प्रकार के रिश्ते में आप अपने साथी से उम्मीद रखते हैं और ये आशा करते हैं की  आप उसके लिए एक ज़रूरी व्यक्ति हैं। लेकिन क्या हो अगर उमीदों पर खरे न उतर पाएं। हो सकता है आप दोनों के बीच का प्रेम खत्म हो जाए और ये रिश्ता महज़  रिश्ता बन कर रह जाए।

अगर ऐसा होता है तो ये आप दोनों के लिए ही सही नहीं होगा इसीलिए अपने साथी से आशा रखें लेकिन इतनी भी न रखें की उसके पूरा ना होने पर आपको दुःख पहुंचे। आपको समझना पड़ेगा की आपका साथी क्या चाहता है , क्या वो आपसे किसी चीज़ की उम्मीद करता है और क्या आप उसकी उम्मीदों पर खरे उतर रहे हैं ? अगर आपका जवाब नहीं है तो आपको अपने साथी को थोड़ा और जानने की जरूरत है। 

value  यानी महत्त्व, अहमियत 

आपकी और आपके साथी की एक दूसरे की ज़िन्दगी में बहुत एहमियत है लेकिन क्या आपको याद है की आखिरी बार आपने उनको ये कब जताया था की वो आपके लिए क्या है या वो आपकी ज़िन्दगी मे एहमियत रखते हैं ? हो सकता है आपको लगता हो की ऐसा करना महज़ एक दिखावा है लेकिन यकीं मानिये कभी कभी ऐसा करना आपके रिश्ते के लिए बहुत जरूरी होता है। कभी कभी आपके पर्सनल जेस्चर्स ये नहीं बता पाते जो आपके शब्द बता सकते हैं। इसलिए आपका बोलना यहां ज़रूरी पड़ जाता है।

अगर आप  से प्यार करते हैं तो उनको बताएं की उनका होना आपके जीवन में क्या एहमियत रखता है।  अगर आप ऐसा करते हैं तो ये आपके रिश्ते के लिए बहुत ज़रूरी होगा।   

Eternity  यानी शाश्वतता, नित्यता  

शाश्वतता या  नित्यता का होना किसी भी रिश्ते के लिए इसलिए ज़रूरी हो जाता है क्योंकि किसी भी  रिश्ते की जब भी नीव रखी जाती है तो उसका पहला उद्देश्य ये होता है की ये रिश्ता सालों तक कायम रहेगा और भविष्य में आप इस रिश्ते में रहते हुए इस रिश्ते को और मजबूत बनाएंगे। रिश्ता कोई समझौता नहीं है। 

यदि आप किसी से इश्क़ करते हैं तो उसके साथ हमेशा रहने का वादा करना आपका प्रथम उद्देश्य होना चाहिए।  सिर्फ समय बिताने की नियत से बनाया गया कोई भी रिश्ता सिर्फ एक  और ऐसे रिश्ते का कोई भविष्य नहीं होता। और जब किसी रिश्ते का कोई भविष्य नहीं है तो ऐसे रिश्ते में रहने का कोई फ़ायदा नहीं है।  अगर  आप किसी के साथ रहने का वादा करे  तो उससे आजीवन निभाना आपका प्रमुख कर्त्तव्य है। 

पहला प्यार क्यों नहीं भुलाया जा सकता?

हम हमेशा से ऐसा सुनते हैं कि पहला प्यार नही भुलाया जा सकता वो शायद इसलिए क्योंकि पहला प्यार बहुत ही नादान, सच्चा और खास होता है जो बिना कुछ सोचे-समझे बस हो जाता है। यह लड़के-लड़की दोनों के दिलो को ऐसे अनुभव देता है जो बयान नहीं कर सकते है, कई वजह है जिस कारण पहले प्यार को नहीं भुलाया जा सकता है. कई बार ऐसा भी होता है कि आप प्यार के एहसास को नहीं समझ पाते है, किन्तु यह एहसास बहुत अनोखा होता है

प्यार क्यों होता है शायरी?

Full Form Of Love
Full Form Of Love

प्रेम में ईश्वर स्वयं निवास करता है। क्योंकि प्रेम ईश्वर का सबसे बड़ा मानवता को आशीर्वाद है। प्रेम इस जीवन की सुरभि है। जिससे यह सारा संसार सुगन्धित होता है।

other Full Form Of Love in Hindi

L: Life’s
O: Only
V: Valuable
E: Emotion

FAQ – Full Form Of Love in Hindi


प्रेम को इन पर्यायवाची शब्दों के द्वारा भी जाना जाता है

लव शब्द के कुछ पर्यायवाची प्रेम, मोहब्बत,चाह, लगाव, प्रीति, स्नेह, प्रणय, अनुरक्ति, वात्सल्य, इश्क आदि शब्द हैं

प्यार क्यों हो जाता है?

जब किसी से प्यार होता है तब ब्रेन में एक केमिकल प्रोसेस होता है जिसके कारण आप अपनी इच्छाओं के चलते किसी की तरफ आकर्षित हो जाते हैं। हाल ही में हुए एक रिसर्च में इस बात को साबित किया गया है कि प्यार का होना असल में ब्रेन केमिकल प्रोसेस होता है।

आई लव यू का क्या मतलब है?

आई लव यू का मतलब होता है कि मैं तुमको प्यार करता हूं। जब भी किसी लड़की को किसी लड़के से प्यार हो जाता है तो वह उसको अपना बना लेता है उन दोनों के बीच एक अच्छा संबंध बन जाता है

प्यार कब और क्यों होता है? (प्यार कब और कैसे हो जाता है?)

जिंदगी में कोई ऐसा आए जिसके आने से ऐसा महसूस हो कि जो कभी न महसूस हुआ हो, तो वो आपका पहला प्यार हो सकता है। किसी को देखने से दिल धड़कने लगा, वो अगर ना हो तो दिल थम जाना, हमेशा उसके चेहरे पे मुस्कान को ढूँढना ही तो प्यार कि निशानी है।

अपने सच्चे प्यार को कैसे पहचाने?

अपने सच्चे प्यार को पहचाने के लिए देखें यदि आपका साथी सार्वजनिक रूप से गंभीर और शिष्ट रहता है, परंतु आपके साथ होने पर उसका मज़ाकिया रूप सामने आ जाता है, तब इसका अर्थ है कि वह आपके साथ खुल रहा है और वह आपसे प्यार करता है। यदि सामने वाला अपनी दिल की भावनाओं को भी आपके साथ बाँट सकता है और सहज रहता है तब यह प्यार है।

सच्चा प्रेम कैसे होता है?

जब सच्चा प्रेम होता है तब प्रेमी या प्रेमिका एक दूसरे की परवाह करते है, ऐसा करने से विश्वास और गहरा होता जाता है, यदि कभी प्रेमी या प्रेमिका किसी बुरे वक्त से गुजर रहे होते है तब सच्चा प्रेम आपका साथ देता है आपको विश्वास दिलाता है की वो हर हाल मे आपका साथ देगा आपकी परवाह माँ की तरह करता है

आई मिस यू का फुल फॉर्म (I miss you)

आई मिस यू का फुल फॉर्म मुझे आप की याद आती है, होता है।

Reference-
17 November 2020, full form of LOVE, wikipedia

Leave a Comment