in

Full form of CV – सी.वी का फुल फॉर्म क्या होता है और सीवी क्या होता है

Full form of CV सीवी, यह शब्द आपने ज़रुर सुना होगा। और शायद आपको पता भी हो की सी वी (CV) होता क्या है। लेकिन अगर आपको नही पता तो भी आपको परेशान होने की आवश्यकता नही है। क्योंकि आज इस लेख मे हम आपको सीवी (CV) का फुल फॉर्म, (full form of CV) सीवी क्या होता है और कैसे बनता है (How to write cv) इसकी सभी जानकारी देने वाले हैं।

सीवी एक प्रारूप (format) है जो आपके बारे मे जानकारी प्रदान करता है। यह स्टेप बाए स्टेप आपके जीवन की उपलब्धियों को संक्षिप्त मे बताने का तरीका है। जब भी आपको किसी के सामने अपनी जीवनी रखनी होती है या जैसे आप इंटरव्यू (Interview) के लिए जाते हो तब आपको अपने सी वी की ज़रुरत पड़ती है। सीवी (CV) मे आपकी पढ़ाई से लेकर आपके अनुभव तक की सभी जानकारी दी जाती है। इसलिए हम आपको सीवी (CV) से संबंधित सभी महत्वपूर्ण तथ्य बता रहे हैं।

What is the full form of CV? सी.वी का फुल फॉर्म क्या होता है?

full form of CVCurriculum vitae
full form of CV in Hindi“करिकुलम विटाय” बायोडेटा
full form of CV

CV का फुल फॉर्म होता है “करिकुलम विटाय” जिसे इंग्लिश मे लिखते हैं Curriculum vitae और हिंदी भाषा मे इसे बायोडेटा कहा जाता है। इसमे आप अपने बारे मे संक्षिप्त मे जानकारी प्रदान करते हैं।

जब आप अपने साक्षात्कार (Interview) के लिए जाते हैं तब आपको अपने बायोडेटा (Curriculum vitae) की आवश्यकता होती है।

सीवी मे आप खुद से संबंधित सभी ज़रुरी जानकारी (Information) लिख सकते हैं। सीवी मे आप अपनी पढ़ाई के बारे मे स्कूल, (school) कॉलेज, (College) अवार्ड (Award) और सभी डिग्री (Degree) के बारे मे या जो भी आपने अपने जीवन मे उपलब्धियाँ (Achievements) हासिल की हैं उन सब के बारे मे विस्तार मे लिख सकते हैं। इस बात का भी ध्यान रखें की सीवी (CV) 3 से 4 पेज से अधिक बड़ा नही होना चाहिए।    

What is the Curriculum vitae? CV क्या होता है?

सीवी (CV) का अर्थ होता है बायोडेटा (Bio data)। यह लैटिन भाषा के शब्दों से मिलकर बना है। जिसका साधारण मतलब होता है जीवन का पाठ्यक्रम “कोर्स ऑफ लाइफ” (Course Of Life) इसकी लंबाई हमेशा 3 से 4 पेज से अधिक नही होनी चाहिए। सीवी मे आपकी वर्तमान तक की सभी उपलब्धियाँ लिखी जाती हैं। जैसे आपकी सभी स्किल्स, आपकी जॉब, और आपकी विशेषताएँ (specialization)। सीवी मे आप अपनी उपलब्धियों (Achievements) के बारे मे भी लिख सकते हैं। यह आपसे साक्षात्कार (Interview) के समय हमेशा मांगा जाता है। ताकि आपके बारे मे संपूर्ण जानकारी मिल सके। सीवी नए और पुराने उम्मीदवारों सभी से मांगा जाता है।

सीवी मे आवश्यकता से अधिक जानकारी भी नही लिखनी चाहिए क्योंकि ज़्यादातर कंपनियों के पास इतना समय नही होता है कि वो आपकी पूरी जानकारी को विस्तार से पढ़ सके। कंपनी सिर्फ आपकी स्किल्स मे रुचि (interest) रखती हैं। यह तो आपको पता है कि बायोडेटा और रेस्यूमे दोनो एप्लीकेशन कंपनी को एमप्लोए चुनने मे मदद करते हैं। और इनके माध्यम से ही कंपनी को चुनाव करने मे भी मदद मिलती है।

How to write cv? सीवी कैसे बनता है?

full form of CV

सीवी जिसे (Curriculum vitae) कहते हैं। क्या आप जानते हैं कैसे बनाया जाता है? अगर नही तो परेशान होने की आवश्यकता नही है। इस लेख मे हम आपको ये भी बता रहे हैं की सीवी कैसे बनता है। सीवी बनाते समय आपको कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना चाहिए। जिससे आपके बारे मे समझने मे सामने वाले को आसानी रहे।

Important facts महत्वपूर्ण तथ्य

1. Personal information व्यक्तिगत जानकारी

आपको सीवी मे सबसे पहले अपना नाम लिखना चाहिए। इसके बाद इमेल आई डी (E mail ID) और मोबाइल नंबर होना चाहिए। और फिर आप अपना पता भी लिख सकते हैं।

2. Career Objective कैरियर का उद्देश्य

पहले कॉलम मे आपको करियर ऑबजेक्टिव के बारे मे ही लिखना होता है। आप को इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि आपके आने वाले समय मे जो आपके ऑब्जेक्ट (object) है उसे भी आप अपनी जॉब के हिसाब से लिख सकते हैं। इससे पढ़ने वाले पर आपके प्रति एक सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

3. Qualification योग्यता

योग्यता के बारे मे आप सब जानते ही होंगे। इसमे आपकी शिक्षा के बारे मे बताया जाता है। आपने अपने जीवन मे जो भी शिक्षा ग्रहण की है उसके बारे मे आप लिख सकते हैं आपको ध्यान रखना चाहिए की आपको अपनी उच्चतम शिक्षा (high qualification) को सबसे पहले नंबर पर लिखना चाहिए उसके बाद निम्न स्तर (lower qualification) की शिक्षा को लिखना चाहिए। इससे समझने वाले को आपकी उच्च शिक्षा के बारे मे पहले जानकारी मिल जाती है जिससे आपका प्रभाव (impression) अच्छा पड़ता है।

4. Experience अनुभव

इस कॉलम मे आपको अपने काम के अनुभव (Work experience) के बारे मे लिखना चाहिए। आपने पहले किसी कंपनी मे जॉब की हो तो आपको उसके बारे मे लिखना चाहिए जैसे कंपनी का नाम, (name of the company) आपका पद, (designation) काम करने का समय, (time for work) आदि के बारे मे लिखना चाहिए।

नोट अगर आप को काम का अनुभव न हो तो आपको इस कॉलम को एड करने की आवश्यकता नही होती है।

5. Skills (additional qualification) अतिरिक्त योग्यता

इस फील्ड मे आपको अपनी शिक्षा के अतिरिक्त योग्यता के बारे मे लिखना चाहिए। जैसे- अगर आपने कोई कंप्यूटर कोर्स या कोई डिग्री या फिर अन्य कुछ योग्यता हासिल की हो तो वो आप इस कॉलम मे लिख सकते हैं।

6. Achievements उपलब्धियां

एक कॉलम आप अपनी उपलब्धियों का लिख सकते हैं आपने अपने जीवन मे जो- जो प्राप्त किया है जैसे कोई अवॉर्ड, ट्रॉफी आदि। सामने वाले पर इसका अच्छा प्रभाव पड़ता है और आपके उत्साह के बारे मे भी जानकारी मिलती है।

7. Like and dislike पसंद और न पसंद

सीवी लिखते समय आपको संक्षिप्त मे अपनी पसंद और न पसंद के बारे मे भी लिखना चाहिए।

8. Other information अन्य जानकारी

इसमे आप अपना नाम, पता, नंबर, आपका मेरिटल स्टेट भी लिख सकते हैं

अंत मे आपको अपना नाम व हस्ताक्षर करने होते हैं।

आपके द्वारा बनाए गए सीवी के माध्यम से ही आप अपनी क्वालिटी के बारे मे इंटरव्यू लेने वाले को बताते हैं और इसी के माध्यम से इंटरव्यूअर आपसे सवाल पूछते हैं। आपके द्वारा बनाए गए सीवी का प्रभाव इंटरव्यू लेने वाले पर पड़ता है।

बायोडेटा मे आपको अपनी सही जानकारी उपलब्ध करानी चाहिए। ताकि जब आपसे सवाल पूछे जाएं तो आप किसी प्रश्न को लेकर अटके नही।

यहाँ पढ़ें : अन्य सभी full form

फ्रेशर्स के लिए ध्यान रखने योग्य बातें

आम तौर पर यह देखा जाता है कि फ्रेशर्स सीवी बनाते समय अधिक परेशान रहते हैं। इसलिए उन्हे निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए।

1.  फ्रेशर्स को सीवी मे अपनी स्किल्स को इस प्रकार लिखना चाहिए ताकि सामने वाले को लगे की वो उनकी कंपनी के लिए फ़ायदेमंद हो सकती हैं।

2.  अपने अनुभव, कार्य और उपलब्धियों को ज़रुर लिखना चाहिए।

3.  आपको सही सीवी फ़ॉर्मेट का चुनाव करना चाहिए जो देखने मे अट्रेक्टिव हो।

4.  अपनी शिक्षा के अतिरिक्त आपने जो भी प्रोजेक्ट किए हो उन्हे ज़रुर शामिल करें।

5.  अपनी शिक्षा और उसमे प्राप्त प्रतिशत भी ज़रुर लिखें।

CV format सीवी का फोर्मेट

आपके सीवी का फ़ॉर्मेट क्या है उस बात का बहुत प्रभाव पड़ता है। सीवी तैयार करने के लिए मुख्य रुप से तीन फ़ॉर्मेट होते हैं जो इस प्रकार है-

Chronological CV कालानुक्रमिक सीवी
Combined CV संयुक्त सीवी
Functional CV कार्यात्मक सीवी
CV format

Chronological CV कालानुक्रमिक सीवी

कोंटेक्ट इंफोरमेशन, (Contact Information) रेज़्यूमे समरी, (Resume Summary) प्रोफेशनल टाइटल, (Professional title) वर्क एक्सपीरियंस, (Work experience) स्किल्स समरी, (Skills Summary) एजुकेशन, (education) एडिशनल सेकशन (Additional session)

Combined CV संयुक्त सीवी

कोंटेक्ट इंफोरमेशन, (Contact Information) स्किल्स समरी, (Skills Summary) एडिशनल सेकशन, (Additional session) वर्क एक्सपीरियंस, (Work experience) एजुकेशन (education)

Functional CV कार्यात्मक सीवी

कोंटेक्ट इंफोरमेशन, (Contact Information) रेज़्यूमे समरी, (Resume Summary) प्रोफेशनल टाइटल,(Professional title) स्किल्स समरी, (Skills Summary) एडिशनल स्किल्स, (Additional session) वर्क एक्सपीरियंस, (Work experience) एजुकेशन (education)

Brief information संक्षिप्त जानकारी

एक बात का ध्यान अवश्य रखें। आप जो भी जानकारी दे रहे हैं, उसे संक्षिप्त मे लिखें। क्योंकि इंटरव्यू (Interview) लेने वाला आपके बारे मे सिर्फ उतना ही जानना चाहता है जो कंपनी के हित मे हो। अगर आप ज़रुरत से ज्यादा जानकारी लिखते हैं तो इंटरव्यू (Interview) लेने वाला परेशान हो सकता है जिससे आपके जॉब (Job) न मिलने के भी चांस (Chance) बड़ सकते हैं इसलिए हमेशा संक्षिप्त जानकारी ही दें।

निष्कर्ष- full form of CV सीवी का फुल फॉर्म होता है। Curriculum vitae इस लेख को पड़ने के बाद आपको सीवी का फुल फॉर्म पता चल गया है और सीवी कैसे तैयार करे ये जानकारी मिल गई है। आपको कोई जानकारी चाहिए तो नीचे कमेंट बॉक्स मे कमेंट कर सकते हैं।

Reference-
2020, cv, wikipedia

Written by Amit Singh

I am a technology enthusiast and write about everything technical. However, I am a SAN storage specialist with 15 years of experience in this field. I am also co-founder of Hindiswaraj and contribute actively on this blog.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

full form of HTTP

Full form of HTTP? एचटीटीपी का फुल फॉर्म क्या होता है

Full form of DRDO

Full form of DRDO In Hindi – डीआरडीओ का फुल फॉर्म क्या होता है