in ,

शुगर के लिए योगासन, योग से करें इसका निवारण- Yoga for Diabetes

अगर आप शुगर की बीमारी से ग्रस्त हैं तो भारतीय संस्कृति “योग” को अपनाएं। मधुमेह यानी शुगर, इसकी शुरुआत हमारे गलत खान- पान और गलत आदतों के कारण होती है। इसके साथ- साथ आनुवांशिकता भी एक कारण हो सकता है।

अगर शुगर की शुरुआत होती है। तो इसके लक्षण कुछ इस प्रकार होते हैं।

· अधिक थकान महसूस होना

· प्यास अधिक लगना, और अधिक पैशाब लगना

· आँखो का कमज़ोर होना

· वजन का धीरे- धीरे कम होना

· अधिक मात्रा मे भूख लगना

· त्वचा संबंधी रोग होना

· चोट लगने पर घाव का जल्दी न भरना

अगर आपको अपने अंदर इस प्रकार के लक्षण नज़र आते हैं तो आपको तुरंत डॉक्टर से चेकअप कराना चाहिए। और संभावना होने पर तुरंत इलाज कराना चाहिए। इस लेख मे हम आपको “मधुमेह का इलाज योगा से” कैसे करें? इसके बारे मे जानकारी देंगे। शुगर को नियंत्रित किया जा सकता है, इसलिए इसका उपचार समय पर कराना आवश्यक है।

अगर ऐसा न किया जाए तो यह एक गंभीर रुप ले सकता है। (Diabetes treatment by Yoga in hindi) मधुमेह के कारण शरीर की पैंक्रियाज़ नामक ग्रंथी इंसुलिन बनाना बंद कर देती है। जिसके कारण आपको यह बीमारी हो जाती है।

शुगर के लिए किए जाने वाले योग- Yoga asanas for diabetes treatment

हम आपको शुगर को नियंत्रित करने के लिए कुछ योग बता रहे हैं जो इस प्रकार हैं-

वक्रासन (Vakrasana)

शीर्षासन (Shirshasana)

मयूरासन (Mayurasana)

पक्ष्चिमोत्तानासन (Seated Forward Bend)

यहाँ पढ़ें : थायराइड के लिए योगासन

1. शुगर के लिए करें वक्रासन-  Vakrasana (twisted pose) for diabetes

 अगर आपको भी शुगर से संबंधित परेशानी है तो आपको वक्रासन करना चाहिए। वक्रासन मे “वक्र” का अर्थ होता है “टेढ़ा” इस आसन को करते समय हमारी रीढ़ की हड्डी टेढ़ी व मुढ़ी हुई होती है। इसीलिए इसका नाम वक्रासन है। यह आसन शुगर का उपचार करने मे बहुत मदद करता है। इसके माध्यम से हमारा अग्नाश्य भी ठीक होता है। जो शुगर के मरीज़ों के लिए उपयोगी होता है।

Diabetes treatment by Yoga in hindi - शुगर के लिए करें वक्रासन- Vakrasana (twisted pose) for diabetes

वक्रासन करने का तरीका- Method of Vakrasana

1.  सबसे पहले योगा मैट बिछा कर उस पर बैठ जाएं।

2.  अपने दोनों पैरो को फैलाएं।

3.  फिर अपने बाएं पैर को घुटने से मोड़ते हुए दाएं पैर के घुटने के बगल मे रखें।

4.  आपकी रीढ़ की हड्डी बिल्कुल सीधी होनी चाहिए।

5.  अब सांस को छोड़ते समय कमर को बाएं ओर मोड़ें।

6.  अब अपनी दाईं बाह को अपने बाएं पैर की ओर इस प्रकार मोड़े कि दाईं बाह का बाहरी हिस्सा बाएं पैर के बाहरी हिस्से को आसानी से छू सके और फिर अपना दायां हाथ बाएं पैर के नज़दीक रखें।

7.  अब अपनी बाईं बाह को पीछे की ओर ले जाएं और अपनी हथेली को ज़मीन पर इस प्रकार रखें की आपका शरीर टेढ़ा होने पर भी सीधा तना रह सके।

8.  फिर इसी अवस्था को दूसरी तरफ भी करें। और इस प्रक्रिया को दौहराएं।

9.  इस प्रक्रिया को तीन से चार बार तक दौहराएं। इस आसन को करने से आपके शुगर की समस्या को नियंत्रित किया जा सकता है और आपका शरीर भी स्वस्थ रहता है।

2. शुगर की समस्या के लिए शीर्षासन –Shirshasan(headstand) for diabetes

 शीर्षासन का अपना एक अलग महत्व है। शुगर के मरीज़ों के लिए यह बहुत कारगर होता है। शीर्षासन मे “शीर्ष” का मतलब होता है “सिर” इस आसन को करने के लिए इंसान को अपने सर के बल खड़ा होना पड़ता है। इसीलिए इस आसन को शीर्षासन कहा जाता है। इसको करने से आपके सिर मे रक्त का प्रवाह बड़ता है। जिससे हमारे दिमाग की शक्ति तेज होती है।

इस आसन को नियमित रुप से करने से हमारी स्रावी ग्रंथियां भी स्वस्थ रहती है। यह आसन हमारी पिट्यूट्री ग्रंथी को भी ठीक कर सकता है। जिससे शुगर के मरीज़ों को आराम मिलता है। इसलिए शुगर के मरीज़ो को यह आसन ज़रुर करना चाहिए।

Diabetes treatment by Yoga in hindi - शुगर की समस्या के लिए शीर्षासन –Shirshasan(headstand) for diabetes

शीर्षासन करने का तरीका- Method of Shirshasana

1.  सबसे पहले ज़मीन पर एक योगा मैट बिछाएं।

2.  आप चाहें तो मैट पर भी एक कपड़ा मोड़ कर रख सकते हैं। अब अपने पैरों को घुटनों के बल मोड़ कर बैठ जाएं।

3.  अब अपनी उंगलियों को आपस मे जकड़ लें। फिर अपनी हथेलियों को आपस मे मिलाएं और अब इन्हे कपड़े पर रख दें।

4.  अब अपने सर को कपड़े पर इस प्रकार रखें। कि आपके सिर का उपरी भाग आपकी हथेलियों को स्पर्श कर सके।

5.  अब अपने पंजो को सिर की तरफ बढ़ाते हुए, घुटनों को ज़मीन से उठाकर उपर आसमान की तरफ ले जाए।

6.  जब आपका इस अवस्था मे संतुलन बनने लगे तब पैरों को धीरे- धीरे बिल्कुल सीधा कर लें।

7.  जब आपके पैर बिल्कुल सीधे हो जाएं तब इसी स्थिति मे थोड़ी देर तक रहें। इसे दो से तीन बार दौहराएं।

यहाँ पढ़ें : फिट रहने के लिए योगा

3. शुगर की समस्या के लिए मयूरासन – Mayurasana for diabetes

मयूरासन के नाम मे मयूर आता है जिसका मतलब होता है “मोर” इसलिए इस आसन को करते समय आपका शरीर मोर की तरह दिखता है। इस आसन को नियमित रुप से करने से हमे शुगर को नियंत्रित करने मे मदद मिलती है। इसलिए हम आपको इसे करने के सही तरीके बता रहे हैं।

Diabetes treatment by Yoga in hindi - शुगर की समस्या के लिए मयूरासन - Mayurasana for diabetes

मयूरासन करने का तरीका- Method of Mayurasan

1.      सबसे पहले योगा मैट बिछा कर उस पर वज्रासन की अवस्था मे बैठ जाएं।

2.  अब अपने घुटनो को फैला कर मैट पर घुटनो के बल बैठ जाए।

3.  अब अपना शरीर आगे झुकाकर अपने हाथों की उंगलियों को फैलाएं और अपने पैरों की दिशा मे रखते हुए अपने दोनो हाथों की हथेलियों को ज़मीन पर टिका दें।

4.  अब अपनी बाहों के अगले हिस्से को एक साथ रखें। और फिर अपनी कोहनियां मोड़े, फिर कोहनियों को पेडू वाले क्षेत्र के दोनो और रख दें।

5.  अब अपने दोनो पैर धीरे- धीरे फैलाएं। अपने पैरों को एक साथ रखते हुए धीरे- धीरे आगे की ओर बड़े।

6.  अब अपने शरीर के भार को अपनी कलाईयों का सहारा लेते हुए अपने पैरों को ज़मीन से उठा लें।

7.  अब अपने सिर और धड़ को आगे की ओर लाएं और जितनी देर संभव हो इसी मुद्रा मे रहे। और अपने पैरों को पीछे की ओर फैलाते रहें।

इसी प्रकार इस आसन को कम से कम तीन बार दौहराएं। इस आसन को नियमित रुप से करने से आपको शुगर की बीमारी मे काफी राहत मिलती है।

अगर आपको शुगर की बीमारी है तो इस आसन को नियमित रुप से करें इसे रोज़ाना करने से आपको इसे नियंत्रित करने मे मदद मिलेगी। इसके अलावा भी आपका शरीर अन्य कई प्रकार की बीमारियों से दूर रहेगा।

यहाँ पढ़ें : पेट की चर्बी कम करने के लिए योग

4. शुगर की समस्या के लिए पक्ष्चिमोत्तानासन- Paschimottanasana (Seated Forward Bend) for diabetes

पक्ष्चिमोत्तानासन आपके पेट को टोन करता है। इसलिए यह शुगर के मरीज़ों की मदद करता है। यह मन को भी शांत करता है। मधुमेह के साथ- साथ यह मासिक धर्म की अनियमितता को भी संतुलित करता है। बीपी और नींद न आने जैसी समस्याओं मे भी मदद करता है।

शुगर की समस्या के लिए पक्ष्चिमोत्तानासन- Paschimottanasana (Seated Forward Bend) for diabetes

पक्ष्चिमोत्तानासन करने का तरीका- Method of Paschimottanasana

1.  सबसे पहले ज़मीन पर मैट बिछा कर उस पर दंडासन मे बैठ जाएं।

2.  अब हाथों को धीरे से ज़मीन की ओर दबाते हुए सांस अंदर की ओर लें।

3.  अब रीढ़ की हड्डी को जितना हो सके लंबा करने की कोशिश करें।

4.  अब हाथों को उपर की ओर सीधा करके जोड़ लें।

5.  फिर सांस छोड़ते हुए कुल्हों के जोड़ों से आगे की तरफ मुड़ें। और हाथों को भी आगे ले जाएं।

6.  अगर संभव हो तो इतना झुकें की हाथों से पैरों के अँगूठे पकड़ सकें।

7.  ज़रुरी नही है कि आप इसे पहली बार मे ही पूरा कर सकें। आपसे जितना हो सके उतना ही मुड़ें।

8.  अगर आप यह सही तरीके से कर रहे हैं तो आपके पेट का नीचे का भाग आपकी जांघों को छुएगा।

9.  इसी अवस्था मे पांच बार सांस लें और छोड़ें। और इसी अवस्था मे 30 सेकेंड से 1 मिनट तक रहें।

Reference

Written by savita mittal

मेरा नाम सविता मित्तल है। मैं एक लेखक (content writer) हूँ। मेैं हिंदी और अंग्रेजी भाषा मे लिखने के साथ-साथ एक एसईओ (SEO) के पद पर भी काम करती हूँ। मैंने अभी तक कई विषयों पर आर्टिकल लिखे हैं जैसे- स्किन केयर, हेयर केयर, योगा । मुझे लिखना बहुत पसंद हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Yoga for Thyroid in Hindi - थायराइड के लिए योगासन

Yoga for Thyroid in Hindi – थायराइड के लिए योगासन

Yoga for Weight Loss - फिट रहने के लिए योगा

Yoga for Weight Loss – फिट रहने के लिए योगा