कंप्यूटर मॉनिटर और उनके प्रकार | Computer Monitor kya hai in Hindi | Types of Monitor | Monitor Use Case in Hindi

कंप्यूटर मॉनिटर प्राइस,मॉनिटर Price,मॉनिटर कौन सा डिवाइस है,मॉनिटर क्या है मॉनिटर के विभिन्न प्रकारों पर चर्चा करें,मॉनिटर का हिंदी अर्थ,मॉनिटर के डिस्प्ले आकार को कैसे मापा जाता है,मॉनिटर क्या है in English


बचपन में हम अक्सर मॉनिटर और टीवी के बीच अंतर नही समझ पाते थे। वजह इतनी सी थी की दोनों में स्क्रीन होती थी जिसपर वीडियो संचालित होता था और देखने में भी दोनों बिल्कुल एक समान थे। मॉनिटर एक आउटपुट डिवाइस होने के साथ साथ कंप्यूटर का एक अभिन्न हिस्सा है।

मॉनिटर और टेलीविज़न के बीच मुख्य अंतर यह है कि मॉनिटर में चैनल बदलने के लिए टेलीविज़न ट्यूनर नहीं होता है। मॉनिटर्स में अक्सर टेलीविज़न की तुलना में उच्च डिस्प्ले रिज़ॉल्यूशन होता है। एक उच्च डिस्प्ले रिज़ॉल्यूशन छोटे अक्षरों और बढ़िया ग्राफिक्स को देखना आसान बनाता है।

अधिकांश शुरुआती टीवी की तरह, शुरुआती कंप्यूटर मॉनीटर में भी एक CRT (Cathode Ray Tube) होता है जो अंदर पाया जाता है। आज, अधिकांश लोगों  ने पारंपरिक सीआरटी मॉनिटर को नए फ्लैट पैनल से रिप्लेस कर दिया है।

यहाँ पढ़ें: कम्प्यूटर के घटक |(Components of Computer)
यहाँ पढ़ें: 10 प्रकार के कंप्यूटर (Ten types of computers)
यहाँ पढ़ें: कम्प्यूटर का विकास – Development of Computer

मॉनिटर क्या है? (What is Monitor?) #Monitor II Computer Monitor | मॉनिटर का अर्थ क्या होता है?

मॉनिटर का महत्व

कंप्यूटर मॉनीटर किसी भी व्यवसाय के लिए एक महत्त्वपूर्ण योगदान देता है, जैसे ग्राफिक्स बनाना, लेनदेन का विवरण रखना, खाते संबधी जानकारियां, मीटिंग हेतु आदि। साथ ही स्कूल, कॉलेज, सभी दफ्तरों, रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट, सुपर मार्केट आदि में भी कार्यों को सरल और सुचारू रूप से चलाने में इनका बड़ा ही योगदान है।

बात मॉनिटर की हो रही है तो ये जरूरी है कि आप एक अच्छी किस्म का मॉनिटर का चयन करें क्योंकि खराब गुणवत्ता वाला मॉनिटर व्यक्ति की आंखों पर भी नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। इससे व्यक्ति के प्रदर्शन पर ही प्रभाव पड़ता है।

किसी भी संगठन के प्रदर्शन का आकलन करने के लिए निगरानी महत्वपूर्ण है। यह आपको यह जानने में मदद करता है कि चीजें कैसे चल रही हैं, आपके कर्मचारी कैसे कार्य कर रहे हैं, और संभावित समस्याओं और कठिनाइयों की प्रारंभिक चेतावनी भी देता है। यह आपको समस्याओं के संभावित समाधान निकालने का समय देता है।

monitor in Hindi | मॉनिटर कौन सा डिवाइस है,मॉनिटर क्या है मॉनिटर के विभिन्न प्रकारों पर चर्चा करें

यहाँ पढ़ें: रैम क्या है ? (What is RAM?)
यहाँ पढ़ें: Pcie meaning in Hindi, PCI-E Full form Hindi,पीसीआई, PCIE kya hai?
यहाँ पढ़ें: CPU क्या है – What is CPU in Hindi – CPU Full Form Meaning in Hindi
यहाँ पढ़ें: Motherboard क्या है – What is Motherboard in Hindi ?

मॉनिटर का प्रयोग | use of Monitor | कंप्यूटर में मॉनिटर का क्या काम होता है?

कंप्यूटर मॉनीटर के उपयोग का मुख्य उद्देश्य चित्र के रूप में आउटपुट को प्रदर्शित करना है जिसे यूजर अच्छे से पढ़ सके और समझने सके। कंप्यूटर मॉनीटर के प्रदर्शन (परफॉर्मेंस) को मापने के लिए विभिन्न मैट्रिक्स (पहलुओं) का उपयोग करना पड़ता है जैसे ल्यूमिनेंस (luminance), गैमट (gamut), एस्पेक्ट रेश्यो (aspect ratio), डिस्प्ले रिज़ॉल्यूशन (display resolution), डॉट पिच (dot pitch), रीफ्रेश रेट (refresh rate), परिस्पॉन्स टाइम (response time) आदि।

Best Budget Monitor in 2021

मॉनिटर का इतिहास | History of Monitor

मॉनिटर कंप्यूटर का एक अनिवार्य हिस्सा है। कंप्यूटर मॉनिटर को कंप्यूटर डिस्प्ले या विजुअल डिस्प्ले यूनिट के रूप में भी जाना जाता है। आज के मॉनिटर का एक लंबा इतिहास है, जो पहले पर्सनल कंप्यूटर से लेकर आज के बड़े स्क्रीन वाले LCD तक फैला हुआ है।

चलिए कंप्यूटर मॉनिटर के इतिहास का वर्णन करता हूं जो बहुत अधिक दिलचस्प है। सबसे पहले, 1992 में कंप्यूटर मॉनिटर में CRT (cathode ray tube) तकनीक लागू की गई थी, लेकिन वाणिज्यिक संस्करण (कमर्शियल वर्जन) की शुरुआत 1954 में ही हो गई थी। यह तकनीक सन् 2000 से अब तक उपयोग हो रही है।

सीआरटी में वैक्यूम ट्यूब का उपयोग होता है जो एक तरफ फॉस्फोरस के साथ लिपटा होता है। जब सभी इलेक्ट्रॉन उन पर फैलते हैं तो वे प्रकाश उत्सर्जित करते हैं। इस प्रकार के CRT केवल टेक्स्ट रूप में ही आउटपुट उत्पन्न करते थे और वे रंगहीन भी थे।

अंत में इसे LCD (लिक्विड-क्रिस्टल डिस्प्ले) तकनीक में बदल दिया गया। आज जिस LCD को हम प्रयोग करते हैं उन्हें TN (ट्विस्टेड नेमैटिक) और IPS (इन-प्लेन स्विचिंग) जैसे दो भागों में विभाजित किया गया है। IPS मॉडल TN डिस्प्ले मॉडल की तुलना में अधिक महंगे हैं, लेकिन वे मॉडल बेहतरीन रंग, व्यूइंग एंगल (viewing angle) और लाइटवेट स्क्रीन (lightweight screen) बनाने में अधिक सक्षम हैं।

यहाँ पढ़ें: GPU Kya hai ?
यहाँ पढ़ें: HDD vs SSD

नीचे उन सभी जानकारियों का उल्लेख किया गया है, जैसे कौन सा डिस्प्ले कब बना।

  • टच स्क्रीन डिस्प्ले की शुरुआत 1965 में ई.ए. जॉनसन ने की थी।
  • एलईडी स्क्रीन डिस्प्ले का आविष्कार जेम्स पी. मिशेल ने 1977 में किया था।
  • आईबीएम 8513 नामक वीजीए (VGA) मॉनिटर को आईबीएम द्वारा 1987 में डिजाइन किया गया था।
  • एसवीजीए (SVGA) 1989 में पेश किया गया था।
  • Apple स्टूडियो डिस्प्ले का आविष्कार Apple ने 1998 में किया था जिसका उपयोग डेस्कटॉप कंप्यूटर के लिए किया जाता था।
  • टच स्क्रीन कंप्यूटर मॉनीटर को जाफ हान ने 2006 में डिजाइन किया था।
  • अब इन दिनों, नवीनतम तकनीक OLED का उपयोग किया जा रहा है जो कि AMOLED वाले स्मार्टफ़ोन में उपयोग होती है।

मॉनिटर के प्रकार | Types of Monitor in Hindi

यहां, हम मॉनिटर के वर्गीकरण के साथ विभिन्न प्रकार के कंप्यूटर मॉनीटरों के बारे में चर्चा करेंगे।

  • सीआरटी मॉनिटर (CRT monitor)
  • एलसीडी मॉनिटर (LCD monitor)
  • एलईडी मॉनिटर (LED monitor)
  • प्लाज्मा डिस्प्ले पैनल (Plasma display panel)
  • टीएफटी मॉनिटर (TFT monitor)
  • डीएलपी मॉनिटर (DLP monitor)
  • टच स्क्रीन मॉनिटर (Touch screen monitor)
  • ओलेड मॉनिटर (OLED monitor)

सीआरटी मॉनिटर (CRT monitor)

CRT का फुल फॉर्म “कैथोड रे ट्यूब” (Cathode Ray Tube)  है, और इस प्रकार के कंप्यूटर मॉनिटर 1950 से उपयोग किए जाते हैं। CRT कंप्यूटर मॉनीटर में कंप्यूटर स्क्रीन के विभिन्न क्षेत्रों में प्रदर्शित करने के लिए इलेक्ट्रॉन बीम का प्रयोग करते हैं।

इलेक्ट्रॉनों के ये पुंज स्क्रीन चित्रों को हर सेकेंड में कई बार रोशन (illuminate) करने में मदद करते हैं, जबकि पीछे और सामने की तरफ तेजी से गति (motion) करते हैं। ये बहुत अधिक महंगे नहीं होते है, और व्हाइट और ब्लैक चित्र प्रदर्शित करते हैं। लेकिन ये अधिक विश्वसनीय हैं।

CRT monitor in hindi

एलसीडी और एलईडी मॉनिटर की तुलना में सीआरटी मॉनिटर आकार में काफी भारी होते हैं। भारी होने के कारण उन्हें एक जगह से दूसरी जगह ले जाने और ले जाने में काफी परेशानी होती है। साथ ही, उन्हें स्थापित करने के लिए अधिक स्थान की आवश्यकता होती है। सीआरटी मॉनिटर बिजली की भी काफी खपत करते हैं।

पिछले कुछ दशकों में ये मॉनिटर्स तेजी से बाजार से गायब हो गए हैं, क्योंकि डिस्प्ले निर्माताओं ने सीआरटी डिस्प्ले के बजाय एलसीडी वाइडस्क्रीन डिस्प्ले पर बल दिया है।

एलसीडी मॉनिटर (LCD monitor)

लिक्विड क्रिस्टल से बने LCD का पूरा नाम ‘लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले’  है। यह दुनिया भर में सबसे अधिक उपयोग किया जाने वाला मॉनिटर है, क्योंकि इसमें कम जगह की आवश्यकता होती है, कम बिजली की खपत होती है, और पुराने सीआरटी मॉनिटर की तुलना में अपेक्षाकृत कम हीट उत्सर्जित होती है।

LCD को Flat Panel Monitor के नाम से भी जाना जाता है। इस मॉनीटर का कार्य सिद्धांत है – मोनोक्रोम पिक्सेल की श्रृंखला की सहायता से चित्र प्रदर्शित करना, जब प्रकाश उन पिक्सेल पर पड़ता है। LCD मॉनिटर का रेजोल्यूशन न्यूनतम 1280*720 पिक्सल और 3840*2160 पिक्सल तक है।

एलसीडी मॉनिटर सीआरटी मॉनिटर की तुलना में पतले और आकार और वजन में काफी हल्के होते हैं। इसी के चलते मार्केट में यह LED और OLED को टक्कर देती है।

LCD Monitor in Hindi

यह डिस्प्ले पहले लैपटॉप में इस्तेमाल किया गया था, और बाद में निर्माताओं ने डेस्कटॉप कंप्यूटरों के लिए भी 17 इंच से 60 इंच तक के मोनिटरों का उत्पादन किया। इन मॉनीटरों को कम जगह और वजन में हल्के होने के कारण इन्हें एक जगह से दूसरी जगह ले जाने में कोई परेशानी नहीं होती है।

एलसीडी और एलईडी मॉनिटर दोनों में स्क्रीन की स्थिति के लिए काफी अधिक अनुकूलन क्षमता है। ये मॉनिटर ऊपर और नीचे झुक सकते हैं, मुड़ सकते हैं, और यहां तक ​​कि लैंडस्केप से पोर्ट्रेट मोड में भी घूम सकते हैं।

साथ ही कम ऊर्जा की खपत करके यह न केवल बेहतर ग्राफिक्स गुणवत्ता प्रदान करता है बल्कि एक बढ़िया ब्राइट स्क्रीन डिस्प्ले भी प्रदान करता है।

इस तरह, एलसीडी मॉनिटर लागत, ऊर्जा, छवि गुणवत्ता और स्पीकर उपकरणों के लिए पोर्ट जैसे बुनियादी सुविधाओं के मामले में बहुत ही किफायती हैं।

एलईडी मॉनिटर (LED monitor)

एलईडी का फुल फॉर्म ‘लाइट एमिटिंग डायोड’ है, जो आज के बाजार में एलसीडी और प्लाज्मा मॉनिटर्स के साथ प्रतिस्पर्धा करने वाला नवीनतम इनोवेशन है। इस प्रकार के मॉनिटर थोड़े घुमावदार या फ्लैट पैनल डिस्प्ले होते हैं जो बैक-लाइटिंग के लिए कोल्ड कैथोड फ्लोरोसेंट (CCFL) के बजाय स्क्रीन पर बैकलाइटिंग के लिए प्रकाश उत्सर्जक डायोड का उपयोग करते हैं।

एलईडी डिस्प्ले अन्य डिस्प्ले की तुलना में 4k रेजोल्यूशन के साथ अधिक चमकदार होती है, जिसके कारण इसे दिन के उजाले में आसानी से पढ़ा या देखा जा सकता है। एलईडी मॉनिटर एलसीडी की तुलना में कम बिजली का उपयोग करते हैं और साथ ही उच्च ग्राफिक्स और एचडी गेम खेलने के लिए गेमर्स द्वारा एलईडी का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

LED Monitor in Hindi

एलईडी का लाभ यह है कि वे उच्च कंट्रास्ट (high contrast) और विशद रंगों (vivid colours) के साथ छवियों का उत्पादन करते हैं और साथ ही डिस्पोज करते समय पर्यावरण पर नकारात्मक प्रभाव नहीं डालते हैं। इसके अलावा, LCD और CRT मॉनिटर्स की तुलना में LED अधिक टिकाऊ होते हैं।

उपयोग की जाने वाली रोशनी की तरंग दैर्ध्य रेंज ऐसी होती है जो उच्च गुणवत्ता देती है। ये एलईडी स्क्रीन झिलमिलाहट मुक्त छवि प्रदान करती है जो आंखों के तनाव और थकान और सिरदर्द को कम करती है।

एलईडी मॉनिटर की दर थोड़ी महंगी हो सकती है। जिन दाम पर वे बाजार में उपलब्ध हैं, कुछ लोगों के लिए खरीदना आसान नहीं हो पाता है।

प्लाज्मा डिस्प्ले पैनल (Plasma Display Panel)

प्लाज्मा मॉनिटर पैनल (पीडीपी) प्लाज्मा तकनीक से बना है जो कंप्यूटर मॉनिटर तकनीक का एक और नवीनतम प्रकार है। कोशिकाओं से बने प्लाज्मा का प्रदर्शन अच्छा रहता है। ये कोशिकाएँ ‘विद्युत रूप से आवेशित आयनित गैस’ से भरी होती हैं। ऐसी कोशिकाओं को प्लाज्मा कहा जाता है।

इसके आविष्कार के पीछे मूल विचार यह है कि यह छोटे रंगीन फ्लोरोसेंट रोशनी को प्रकाशित करता है जो छवि पिक्सेल बनाते हैं। प्रत्येक पिक्सेल तीन फ्लोरोसेंट रोशनी से बना होता है जैसे कि एक छोटी नियॉन लाइट- लाल, हरी और नीली रोशनी। यह एक बेहतर कंट्रास्ट अनुपात पैदा करता है, साथ ही इन रोशनी की तीव्रता भी उसी के अनुसार बदलती है।

इस तकनीक में, कांच के दो समूहों में (neon और xenon) गैसों का मिश्रण होता है। उन क्लस्टर के बीच में विभिन्न छोटे सेल रखे जाते हैं। इस तकनीक में, सेल में गैस को विद्युत रूप से प्लाज्मा में परिवर्तित किया जाता है।

Plasma monitor in Hindi

प्लाज्मा डिस्प्ले थोड़ा घुमावदार होने के बजाय फ्लैट होता है जैसा कि एलसीडी में होता है। यह अपने संपूर्ण फ्लैट स्क्रीन के माध्यम से छवि विरूपण और चकाचौंध को कम करता है।

एक प्लाज्मा डिस्प्ले एलसीडी की तुलना में एक अच्छी प्रतिक्रिया, बेहतर प्रदर्शन, समय और बहुत व्यापक देखने का कोण प्रदान करता है। प्लाज्मा डिस्प्ले 60 इंच तक के आकार में आते हैं जिन्हें सबसे अच्छा होम थिएटर और एचडी टेलीविजन माना जा सकता है।

प्लाज्मा मॉनिटर का प्रमुख नुकसान उनका सीमित उत्पादन और स्क्रीन आकार है। प्लाज्मा मॉनिटर आकार में भारी होते हैं और एलसीडी मॉनिटर की तुलना में औसतन अधिक बिजली की खपत करते हैं।

टीएफटी मॉनिटर (TFT monitor)

TFT का पूरा नाम थिन-फिल्म ट्रांजिस्टर है, और इस तकनीक का उपयोग LCD में तस्वीर की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए किया जाता है। TFT LCD में पिक्सेल होते हैं, लेकिन इन पिक्सेल में स्वयं के ट्रांजिस्टर होते हैं जो सभी चित्रों और रंगों पर उसके नियंत्रण के साथ-साथ विशाल लचीलापन प्रदान करते हैं।

TFT Monitor in Hindi

डीएलपी मॉनिटर (DLP monitor)

DLP का मतलब “डिजिटल लाइट प्रोसेसिंग” है। डीएलपी मॉनीटरों में स्क्रीन पर हाई डेफिनिशन (HD) प्रदान करने की क्षमता होती है। डीएलपी मॉनिटर का सिद्धांत डिजिटल माइक्रो मिरर डिवाइस के सिद्धांतों के समान है, क्योंकि इस प्रकार के मॉनिटर लाखों माइक्रो मिरर की मदद से अपने डिजिटल लाइट को बदलने में सक्षम होते हैं।

इस प्रकार के मॉनिटर 1024 ग्रे स्केल टाइप स्क्रीन डिस्प्ले प्रदान करने में मदद करते हैं अर्थात ये हाई रेजोल्यूशन के होते हैं। इस तरह के पैनल वीडियो गेम खेलने के लिए अधिक उपयोगी होते हैं अन्यथा अन्य वीडियो एडिटिंग सॉफ्टवेयर के लिए भी इसकी सलाह दी जाती है।

DLP Monitor in Hindi

टच स्क्रीन मॉनिटर (Touch screen monitor)

टच स्क्रीन मॉनिटर कंप्यूटर के पॉइंटिंग इनपुट डिवाइस के रूप में काम करते हैं क्योंकि उन टच स्क्रीन मॉनिटर का उपयोग करके, आप अपने हाथ की उंगली से इनपुट दे सकते हैं। ऐसे मॉनिटर बिल्कुल आपके फोन के टच स्क्रीन की तरह होते है। बस ये समझ लिखिए की इसमें आपको कीबोर्ड की आवश्यकता ही नहीं पड़ेगी।

Touch Screen Monitor in Hindi

ओएलईडी मॉनिटर (OLED monitor)

OLED का मतलब “ऑर्गेनिक लाइट एमिटिंग डायोड” है। यह कार्बनिक पदार्थ (जैसे कार्बन, प्लास्टिक, लकड़ी और पॉलिमर) से बना है, जो विद्युत प्रवाह को प्रकाश में परिवर्तित करता था। इस प्रकार के मॉनिटर बाजार में आमतौर पर उपयोग नहीं होते हैं, ये अधिक प्रीमियम मॉडल होते हैं।

यह टेलीविजन, कंप्यूटर स्क्रीन, गेम कंसोल, या यहां तक ​​कि नवीनतम स्मार्टफोन के डिस्प्ले में उपयोग की जाने वाली नवीनतम डिस्प्ले तकनीक भी है। यह LCDs की तुलना में अधिक कंट्रास्ट अनुपात के साथ पतला या हल्का हो सकता है

OLED Monitor in Hindi

चूंकि ये एलईडी कई अलग-अलग रंग की रोशनी पैदा करने में सक्षम हैं, इसलिए सही रंग का उत्पादन करने के लिए सीधे इस्तेमाल किया जा सकता है और किसी भी बैकलाइट की आवश्यकता नहीं होती है, जिससे बिजली की बचत भी कम जगह की आवश्यकता होती है। OLED डिस्प्ले मूवी देखने के लिए बेहतरीन मानी जाती है।

OLED मॉनिटर्स को अब तक की सबसे अच्छी डिस्प्ले तकनीक माना जाता है, क्योंकि उनकी विशेषताओं जैसे वाइड व्यूइंग एंगल्स, पिक्चर क्वालिटी, कंट्रास्ट लेवल, फास्ट रिस्पॉन्स और परफेक्ट कंट्रास्ट और ब्राइटनेस किसी को भी एक अच्छा अनुभव देने के लिए काफी है।

कुछ प्रमुख बिंदु

  • मॉनीटर आउटपुट डिवाइस के रूप में कार्य करता हैं।
  • कंप्यूटर मॉनीटर में आप चित्रों और टेक्स्ट को देख और पढ़ सकते हैं।
  • पहले के मॉनिटर में कैथोड रे ट्यूब का उपयोग में किया जाता था।
  • आजकल मॉनिटर में एलईडी बैकलाइटिंग के साथ पतली फिल्म ट्रांजिस्टर लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले (टीएफटी-एलसीडी) जैसी नई तकनीकों का उपयोग किया जाता है।
  • आज कई मॉनिटर की लागत प्रभावी होने के साथ-साथ अधिक किफायती भी हैं।
  • एलसीडी मॉनिटर ऊर्जा कुशल होते हैं क्योंकि वे सीटीआर मॉनिटर की तुलना में बहुत कम ऊर्जा की खपत करते हैं।
  • एलसीडी मॉनिटर गर्मी (heat) पैदा करते हुए कम विकिरण उत्पन्न करते हैं।

समापन

समय के साथ मॉनिटर का आकार बदलता गया और नई नई तकनीकी का प्रयोग होता गया। यहीं कारण है कि आज हम कुछ वर्षों पहले के मुकाबले नए किस्म के मॉनिटर देखते हैं। उम्मीद करता हूं इस लेख में वो सब जानकारी होगी जिसको आपकी तलाश थी। हमने हर एक पहली को बारीकी से बताने जा भरपूर प्रयास किया है। तो बताइए इस समय आप कौन सा मॉनिटर उपयोग कर रहे हैं?

Leave a Comment