बीरबल का घोड़ा | अकबर बीरबल की कहानियाँ | Akbar Birbal Story in Hindi | birbal ka ghoda akbar birbal ki kahani

Hara ghoda Lesson in Hindi, कहानी अकबर बीरबल, पाठ 12 हरा घोड़ा, हरा घोड़ा अकबर बीरबल की कहानी, बीरबल ने धरती का केंद्र कहां बताया और क्यों, हिंदी कहानियां, Cartoon, अकबर का तोता


यहाँ पढ़ें : Best Akbar Birbal ki Kahani Hindi

बीरबल का घोड़ा | अकबर बीरबल की कहानियाँ | Akbar Birbal Story in Hindi | birbal ka ghoda akbar birbal ki kahani

बीरबल हमेशा दरबार में सभी मंत्रियों और दरबारियों से पहले आते थे, लेकिन एक बार उनको आने मे देरी हो गई, तब बादशाह अकबर ने अपने एक नौकर को यह देखने के लिए भेजा कि बीरबल दरबार में क्यों नहीं आए।

बादशाह अकबर ने अपने नौकर को इतनी जल्दी वापस आता देखकर हैरानी से पूछा, “क्या हुआ? तुम इतनी जल्दी कैसे आ गए? क्या बीरबल आज दरबार में नहीं आएंगे?”

नौकर बोला, “जहांपनाह! मैं तो बीरबल जी को उनके घर देखने जा रहा था, लेकिन वे रास्ते में पैदल आते हुए दिख गए, इसलिए मैं वापस लौट आया।

जब बीरबल दरबार में पहुंचे, तो बादशाह अकबर ने पूछा, “बीरबल ! मुझे पता चला है कि तुम आज अपने घर से पैदल आए हो और देर से दरबार में पहुंचे हो। तुम्हारे घोड़ों में को क्या हुआ?”

बीरबल ने जवाब दिया, “जहांपनाह! मेरी पत्नी और अन्य संबंधी घोड़ों द्वारा दूसरे नगर की यात्रा पर गए हैं। यही कारण है कि मुझे पैदल आना पड़ा। जहांपनाह! देर से आने के लिए मैं आपसे क्षमा चाहता हूं।”

birbal ka ghoda
birbal ka ghoda

यहाँ पढ़ें :300 + हिंदी कहानी
मुंशी प्रेमचंद सम्पूर्ण हिन्दी कहानियाँ
पंचतंत्र की 101 कहानियां – विष्णु शर्मा
विक्रम बेताल की संपूर्ण 25 कहानियां
तेनालीराम की कहानियां
सम्पूर्ण जातक कथाएँ हिन्दी कहानियाँ

बादशाह अकबर ने तत्काल अस्तबल के मुखिया को बुलवाया और बीरबल के लिए, अच्छा घोड़ा लाने का आदेश दिया।

अस्तबल का मुखिया बीरबल से बहुत जलता था। उसने बादशाह अकबर की बात सुनकर अनसुनी कर दी और बीरबल को जान-बूझकर एक कमजोर एवं बूढ़ा घोड़ा दे दिया।

वह घोड़ा पिछले कई दिनों से बीमार था। अस्तबल के मुखिया को यह देखकर बहुत खुशी हुई कि बीरबल ने बिना कुछ कहे वह घोड़ा ले लिया। आज उसे अपनी जलन मिटाने का अच्छा मौका मिल गया था।

बदकिस्मती से उसी रात घोड़ा मर गया। अगले दिन अकबर ने बीरबल को पुनः पैदल आते देखा। जब अकबर ने बीरबल से उनके नए घोड़े के बारे में पूछा, तो वे बोले, “महाराज! मुझे जो घोड़ा दिया गया था, वह बहुत मजबूत और फुर्तीला था। वह इतना तेज निकला कि कल रात भागते-भागते सीधे स्वर्ग चला गया । “

बादशाह अकबर समझ गए कि अस्तबल के मुखिया ने जान-बूझ कर बीरबल को मरियल और बीमार घोड़ा दिया था। उन्होंने उसे दरबार में बुलाया। बादशाह अकबर बहुत गुस्से में थे। उन्होंने अस्तबल के मुखिया को सौ कोड़ों की सजा सुनाई। ऐसे में वह उनके पैरों में गिरकर माफी मांगने लगा, लेकिन बादशाह ने अपना फैसला नहीं बदला।

बादशाह बोले, “तुमने ऐसा करने का साहस कैसे किया। मेरे आदेश के अनुसार तुम्हें बीरबल को सबसे अच्छा घोड़ा देना चाहिए था, लेकिन तुमने धोखा किया । तुम्हें सौ कोड़ों की सजा भुगतनी ही पड़ेगी। “

तभी बीरबल बीच में आ गए। उन्होंने बादशाह से विनती की कि वे अस्तबल के मुखिया को माफ कर दें। अकबर ने बीरबल की बात मान ली। अगले दिन अस्तबल के मुखिया ने बीरबल को एक सुंदर और ताकतवर घोड़ा लाकर दिया। उसे अपनी भूल का एहसास हो गया था।

हरा घोड़ा (चतुर बीरबल) | Hara Ghoda | Hindi | Bedtime Moral Stories for Kids | Stories for kids video

birbal ka ghoda

संबंधित : अकबर बीरबल की सर्वश्रेष्ट कहानियां

1आम के बाग की सैर | अकबर बीरबल की कहानियाँ21अकबर-बीरबल की दूसरी मुलाकात
2अकबर का सपना | अकबर बीरबल की कहानियाँ22बीरबल की खिचड़ी | अकबर बीरबल की कहानियाँ
3अकबर और बीरबल की ईरान यात्रा भाग 1 | अकबर बीरबल की कहानियाँ23बीरबल और फारस का राजा | अकबर बीरबल की कहानियाँ
4अकबर और बीरबल की ईरान यात्रा भाग 2 | अकबर बीरबल की कहानियाँ24अकबर और तीन सवाल | अकबर बीरबल की कहानियाँ
5उलझन सुलझ गई | अकबर बीरबल की कहानियाँ25चार मूर्ख | अकबर बीरबल की कहानियाँ
6अकबर ने की परख | अकबर बीरबल की कहानियाँ26अंधों की नगरी | अकबर बीरबल की कहानियाँ
7अंधे साधु का राज | अकबर बीरबल की कहानियाँ27हाथी के पांव की छाप | अकबर बीरबल की कहानियाँ
8अकबर का कला प्रेम भाग 1 | अकबर बीरबल की कहानियाँ28बीरबल की बुद्धिमानी | अकबर बीरबल की कहानियाँ
9अकबर का कला प्रेम भाग 2 | अकबर बीरबल की कहानियाँ29जलनखोर दरबारी | अकबर बीरबल की कहानियाँ
10चूड़ियों की गिनती | अकबर बीरबल की कहानियाँ30धरती का चक्कर | अकबर बीरबल की कहानियाँ
11असली सुंदरता कहां | अकबर बीरबल की कहानियाँ31बीरबल की स्वर्ग यात्रा | अकबर बीरबल की कहानियाँ
12सबसे खूबसूरत बच्चा | अकबर बीरबल की कहानियाँ32अकबर की मूंछें | अकबर बीरबल की कहानियाँ
13व्यापारी की उलझन | अकबर बीरबल की कहानियाँ33चारपाई का राज | अकबर बीरबल की कहानियाँ
14अकबर के दांत | अकबर बीरबल की कहानियाँ34सबसे प्रिय कौन | अकबर बीरबल की कहानियाँ
15अकबर का गुस्सा | अकबर बीरबल की कहानियाँ35बीरबल और चोर का रहस्य | अकबर बीरबल की कहानियाँ
16दरबारी की भूल | अकबर बीरबल की कहानियाँ36बीरबल का घोड़ा | अकबर बीरबल की कहानियाँ
17तीन शाही सलाहकार | अकबर बीरबल की कहानियाँ37यह कैसी उलझन | अकबर बीरबल की कहानियाँ
18तोते की मौत | अकबर बीरबल की कहानियाँ
19तीन सवाल | अकबर बीरबल की कहानियाँ
20कैसे हुई अकबर-बीरबल की पहली मुलाकात

मेरा नाम सविता मित्तल है। मैं एक लेखक (content writer) हूँ। मेैं हिंदी और अंग्रेजी भाषा मे लिखने के साथ-साथ एक एसईओ (SEO) के पद पर भी काम करती हूँ। मैंने अभी तक कई विषयों पर आर्टिकल लिखे हैं जैसे- स्किन केयर, हेयर केयर, योगा । मुझे लिखना बहुत पसंद हैं।

Leave a Comment